ख़बरें

ग्रैम स्मिथ के वक़ील ने एसजेएन प्रक्रिया पर उठाए सवाल

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में स्मिथ के ख़िलाफ़ जो बातें कही गईं हैं वह निराधार है

Graeme Smith talks to the media, Cape Town, December 14, 2019

एसजेएन रिपोर्ट में पाया गया कि ग्रैम स्मिथ पूर्वाग्रही आचरण में लिप्त थे  •  AFP

ग्रैम स्मिथ के वक़ील डेविड बेकर ने सामाजिक न्याय और राष्ट्र-निर्माण रिपोर्ट के बारे में चिंता जताई है, जिसे बुधवार को जारी किया गया था। उस रिपोर्ट में पाया गया है कि स्मिथ पूर्वाग्रह से ग्रस्त आचरण में लिप्त थे। बेकर ने गुरुवार शाम को भेजे गए एक बयान में, ट्रांसफॉर्मेशन लोकपाल दुमिसा नत्सेबेजा द्वारा की गई प्रक्रिया पर सवाल उठाया और कहा कि एसजेएन प्रक्रिया में कई "मौलिक दोष" हैं, जिसमें उन्होंने और स्मिथ ने भाग लिया था।
एक खिलाड़ी के रूप में और क्रिकेट निदेशक (डीओसी) के रूप में स्मिथ का आचरण एसजेएन की कार्यवाही में था, जिसमें उनपर थामी सोलेकिले सहित कई खिलाड़ियों के साथ नाइंसाफ़ी का आरोप लगा था। स्मिथ ने लिखित हलफनामे में आरोपों का जवाब दिया लेकिन लोकपाल को मौखिक गवाही नहीं दी। अंतिम रिपोर्ट में पाया गया कि स्मिथ ने 2012 में नस्ल के आधार पर सोलेकिले के साथ ग़लत तरीक़े से भेदभाव किया था। आरोप में पाया गया है कि स्मिथ डीओसी के रूप में अपनी भूमिका में क्रिकेट साउथ अफ़्रीका (सीएसए) में अश्वेत प्रशासकों के प्रति नस्लीय पूर्वाग्रह से ग्रसित थे, और वह प्रक्रिया जिसके कारण स्मिथ को 2019 में डीओसी के रूप में नियुक्त किया गया था। उसमें भी उचित एचआर प्रक्रिया का पालन नहीं किया।
बेकर ने विशेष रूप से अंतिम दो पर सवाल उठाया, उन्होंने उसे "निराधार" बताया और एक प्रतिवाद प्रदान किया। जबकि लोकपाल की रिपोर्ट में कहा गया था कि स्मिथ का पूर्व सीएसए के सीईओ थबांग मोरो के तहत काम करने से इनकार करना, जिन्हें पिछले साल कदाचार के लिए बर्ख़ास्त किया गया था, नस्लीय पूर्वाग्रह का सबूत था, बेकर ने बताया कि "लोकपाल केवल इस तथ्य की उपेक्षा करते हैं कि स्मिथ ने काफी ख़ुशी से काम किया है और पिछले वर्ष वर्तमान सीएसए कार्यवाहक सीईओ फोलेत्सी मोसेकी के साथ सफलतापूर्वक काम किया। उन्होंने दिसंबर 2019 में नियुक्त होने के बाद से तीन अश्वेत सीएसए के अध्यक्षों के साथ मिलकर काम किया है।"
सीएसए के साथ स्मिथ के रोज़गार संबंधों के संदर्भ में, बेकर ने तर्क दिया कि स्मिथ को निशाना बनाया गया, उन्हें नियुक्त करने की प्रक्रिया अनियमित नहीं थी। "जहां तक उनकी नियुक्ति का सवाल है, स्मिथ ने ख़ुद को नियुक्त नहीं किया। सबूत स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि उनकी नियुक्ति को चयन पैनल द्वारा अनुमोदित किया गया था और पूरे सीएसए बोर्ड, सीएसए अध्यक्ष क्रिस नेंज़ानी, सीएफओ फोलेत्सी मोसेकी, कार्यवाहक सीईओ, एचआर हेड चैंटल मून और कानूनी अधिकारी और कंपनी सचिव वेल्श ग्वाज़ा द्वारा अनुमोदित किया गया था।"
बेकर के सवालों में प्रमुख यह है कि रिपोर्ट कोई निश्चित निष्कर्ष क्यों नहीं बनाती है और इसके परिणामों को उनकी गंभीरता को देखते हुए "अस्थायी" के रूप में सूचीबद्ध करती है। "उदाहरण के लिए, आप कुछ लोगों के ख़िलाफ़ नस्लीय पूर्वाग्रह के दूरगामी और सार्वजनिक निष्कर्ष कैसे निकालते हैं और एक ही सांस में कहते हैं कि वे 'अस्थायी' हैं, जैसा कि लोकपाल ने किया है। सीएसए से उन निष्कर्षों को लागू करने की उम्मीद कैसे की जाती है जब लोकपाल ने अपने स्वयं के प्रवेश द्वारा कहा है कि वह 'एक ऐसे उदाहरण में निश्चित निष्कर्ष नहीं निकाल सकते हैं जहां तथाकथित पीड़ितों और कथित अपराधियों दोनों के साक्ष्य का परीक्षण नहीं किया गया था।"
सीएसए और एसजेएन प्रक्रिया के क़रीबी कई सूत्रों ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया कि निष्कर्षों को "अस्थायी" क़रार देकर, लोकपाल ने सीएसए को लगभग असंभव स्थिति में छोड़ दिया है क्योंकि रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई करना उनके लिए मुश्किल होगा। हालांकि, अंदरूनी सूत्रों का मानना है कि लोकपाल किसी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले उन चीज़ों को लेकर भी अश्वस्त नहीं थे जिसे अदालतों में क़ानूनी रूप से चुनौती दी जा सकती थी। एसजेएन प्रक्रिया एक क़ानूनी प्रक्रिया नहीं थी, जहां लोकपाल को गवाहों से जिरह करने की अनुमति नहीं थी। बेकर ने तर्क दिया कि यह भी ग़लत था क्योंकि अगर जिरह की इजाज़त लोकपाल को मिलती तो और भी अच्छी तरह से सबूत सामने आ सकते थे।
बेकर के बयान से क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका वाक़िफ़ है लेकिन इस समय उसकी कोई प्रतिक्रिया नहीं है। सीएसए बोर्ड अध्यक्ष लॉसन नायडू ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "श्री बेकर अपनी चिंताओं को उठाने के हक़दार हैं। एक बोर्ड के रूप में, हम अभी भी रिपोर्ट से निपटने की प्रक्रिया में हैं।
स्मिथ और बोर्ड के बीच संबंधों की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर नायडू ने कहा, "ग्रैम सीएसए के कर्मचारी बने हुए हैं और उन्हें फ़िलहला उसी तरह देखा जाएगा।"

फ़िरदौस मूंडा ESPNcricinfo की साउथ अफ़्रीकी संवाददाता हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।