मैच (10)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
एसए20 (1)
आईएलटी20 (1)
बीबीएल (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
ख़बरें

वसीम जाफ़र : सफ़ेद गेंद क्रिकेट में संजू सैमसन को मिलने चाहिए नियमित मौक़े

पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर ने कहा कि सैमसन ड्रॉप करने की पहली पसंद बन गए हैं

भारत न्यूज़ीलैंड के बीच जारी वनडे सीरीज़ का दूसरा मुक़ाबला बारिश की भेंट चढ़ गया। इस मुक़ाबले में बारिश तो भारतीय खेमे के लिए निराशा लेकर आई ही लेकिन काफ़ी समय से भारतीय टीम में अपनी जगह पक्की करने के लिए संघर्ष कर रहे संजू सैमसन को एक बार फिर एकादश से बाहर बैठना पड़ गया। सैमसन की जगह पर दीपक हुड्डा को मौक़ा दिया गया।
सैमसन को बाहर बैठाने के फ़ैसले पर पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर वसीम जाफ़र ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो टाइम आउट हिंदी के शो में बात करते हुए कहा कि सैमसन अब भारतीय टीम से ड्रॉप किए जाने की पहली पसंद बन गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सैमसन को सफ़ेद गेंद क्रिकेट में नियमित तौर पर मौक़े मिलने चाहिए।
जाफ़र ने कहा, "आप निश्चित तौर पर संजू सैमसन के लिए बुरा महसूस करते हैं। क्योंकि किसी को भी जब ड्रॉप करना होता है तो सबसे पहला नाम संजू सैमसन का होता है। मुझे लगता है कि सफ़ेद गेंद क्रिकेट में संजू सैमसन को निरंतरता के साथ मौक़े मिलने चाहिए। क्योंकि जिस तरह से वह हाल ही के दिनों में टी20 और वनडे में खेल रहे हैं, उन्हें मौक़े मिलने चाहिए। हालांकि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उन्हें लगातार मौक़े नहीं मिल रहे।"
जाफ़र ने कहा कि टॉप ऑर्डर में मौजूद बल्लेबाज़ों की फ़ॉर्म को देखते हुए सैमसन का जगह बना पाना मुश्किल हो जाता है। हालांकि ऋषभ पंत भी पिछले कुछ समय से बल्ले के साथ अपनी लय ढूंढने के लिए जूझ रहे हैं। ऐसे में सैमसन के बजाय पंत को मिल रही तरजीह को लेकर भी कई सवाल भी खड़े किए जा रहे हैं। लेकिन जाफ़र ने पंत की टीम में जगह का बचाव करते हुए पंत की वनडे क्रिकेट में हालिया फ़ॉर्म का हवाला दिया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जब भारतीय टीम छठे गेंदबाज़ी विकल्प की तलाश में जाती है तब सैमसन को अपनी जगह गंवाने पर मजबूर होना पड़ता है। इसके लिए उन्होंने हार्दिक पंड्या और रवींद्र जाडेजा का टीम में ना होने का कारण भी गिनाया।
जाफ़र ने कहा, "अगर हम भारत के टॉप पांच बल्लेबाज़ों को देखें तो आप उनमें से किसे बाहर निकाल सकते हैं? शिखर धवन हैं, शुभमन गिल हैं। श्रेयस अय्यर तो वनडे क्रिकेट में कमाल की फ़ॉर्म में हैं। सूर्यकुमार यादव की तो हम बात ही नहीं कर सकते। ऋषभ पंत टीम के उपकप्तान हैं और बीते कुछ समय से वनडे क्रिकेट में 50 की औसत से खेल रहे हैं। तो जब आप छठे गेंदबाज़ की तलाश में जाते हैं तो सैमसन को बाहर बैठना पड़ता है।"
जाफ़र ने आगे कहा, "जब हार्दिक पंड्या और रवींद्र जाडेजा नहीं खेल रहे होते हैं तो आप संतुलन सुनिश्चित करने के लिए सैमसन को ड्रॉप कर देते हैं। लेकिन मुझे लगता है कि उन्हें टी20 क्रिकेट में संजू सैमसन को थोड़ा आगे रखना ज़रूरी है। ऋषभ पंत को चार और पांच नंबर पर उतनी निरंतरता के साथ बल्लेबाज़ी नहीं कर रहे हैं। ओपनिंग में भी उनके बल्ले से रन नहीं निकले हैं लेकिन वहां पर उन्हें पर्याप्त अवसर भी नहीं मिले हैं। वनडे क्रिकेट में टीम को छठे सातवें गेंदबाज़ की तरफ़ जाना पड़ता है और आपको टीम कॉम्बिनेशन का भी ध्यान रखना पड़ता है।इसलिए सैमसन के लिए यह स्थिति मुश्किल भरी है।लेकिन हां, टी20 क्रिकेट में उन्हें मौक़े ज़रूर मिलने चाहिए।"