मैच (12)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
RHF Trophy (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : पेस पहुंचा रही है श्रेयस को ठेस

चेज़ करते समय टीम इंडिया का प्रदर्शन है हैरतअंगेज़

श्रेयस अय्यर का विकेट लेने के बाद जश्न मनाते प्रिटोरियस  •  BCCI

श्रेयस अय्यर का विकेट लेने के बाद जश्न मनाते प्रिटोरियस  •  BCCI

मंगलवार को भारत और साउथ अफ़्रीका के बीच तीसरा टी20 मुक़ाबला विशाखापट्टनम में खेला जाना है। अपने पहले दोनों मुक़ाबले हार चुकी भारतीय टीम के लिए सीरीज़ में बने रहने के लिए यह मुक़ाबला जीतना बेहद ज़रूरी है जबकि साउथ अफ़्रीका सिरीज़ को जीतने से सिर्फ़ एक कदम दूर है। ऐसे में कुछ ऐसे आंकड़ों का रुख़ करते हैं जो कि इस सिरीज़ के निर्णायक मुक़ाबले को प्रभावित कर सकते हैं।
चेज़ में टीम इंडिया का प्रदर्शन है हैरतअंगेज़
2021 के बाद भारतीय टीम ने टी20 में आठ बार लक्ष्य का पीछा किया है और हर बार उन्हें जीत नसीब हुई है। जबकि इसी अवधि में टीम इंडिया ने 16 मुक़ाबलों में पहले बल्लेबाज़ी की जिसमें आठ बार उन्हें हार का स्वाद चखना पड़ा। 2018 से लेकर अब तक सिर्फ़ एक बार 2020 ही ऐसा साल रहा जिसमें टीम इंडिया एक बार भी लक्ष्य का बचाव करते हुए नहीं हारी। 2020 में टीम इंडिया ने छह में से पांच मुक़ाबले पहले बल्लेबाज़ी करते हुए जीते थे जबकि एक मैच रद्द हो गया था।
पेस पहुंचा रही है श्रेयस को ठेस
श्रेयस अय्यर इस साल टीम इंडिया की तरफ़ से टी20 में सबसे ज़्यादा 305 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं। यह रन उन्होंने 101.7 की औसत और 151 के स्ट्राइक रेट से बनाए हैं। इसमें उनके तीन अर्धशतक भी शामिल हैं। श्रेयस के बाद इशान किशन ने इस साल टी20 में दो अर्धशतक के साथ 289 रन बनाए हैं।
हालांकि श्रेयस को पहले दोनों ही मैचों में तेज़ गेंदबाज़ी के ख़िलाफ़ संघर्ष करते देखा गया है। श्रेयस इस सीरीज़ की दोनों ही पारियों में तेज़ गेंदबाज़ों का शिकार बने हैं। वह तेज़ गेंदबाज़ों के विरुद्ध 42 गेंदों में महज़ 76 के स्ट्राइक रेट से सिर्फ़ 32 रन ही बना पाए हैं। लेकिन स्पिन गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ श्रेयस ने इस सीरीज़ में 20 गेंदों का सामना करते हुए 220 के स्ट्राइक रेट से 42 रन बनाए हैं।
रबाडा से ऋतुराज और कार्तिक को बरतनी होगी सावधानी
दूसरे टी20 में भारतीय टीम की बल्लेबाज़ी पूरी तरह से धराशाई होगी। सलामी बल्लेबाज़ ऋतुराज गायकवाड़ को कगिसो रबाडा ने पहले ही ओवर में पवेलियन चलता कर दिया। टी20 में यह तीसरी बार था जब ऋतुराज रबाडा के शिकार बने थे। वह टी20 में रबाडा की 31 गेंदों पर 36 रन ही बना पाए हैं। ऐसे में ज़ाहिर है विशाखापट्टनम में जब भारतीय सलामी जोड़ी मैदान में उतरेगी ऋतुराज के सामने रबाडा से पार पाना एक बड़ी चुनौती होगी। अनरिख़ नॉर्खिये भी ऋतुराज को दो बार अपना शिकार बना चुके हैं। हालांकि उनके ख़िलाफ़ ऋतुराज ने 170 के स्ट्राइक रेट से 30 गेंदों में 51 रन भी बनाए हैं।
ऋतुराज के अलावा कार्तिक को भी रबाडा की गेंदें नहीं भाती हैं। दूसरे टी20 में 31 रनों की उपयोगी पारी की बदौलत भारतीय टीम को सम्मानजनक स्कोर तक ले जाने वाले कार्तिक टी20 में रबाडा की 25 गेंदों पर 18 रन ही बना पाए हैं। जबकि तीन बार वह रबाडा का शिकार भी बने हैं।
पावरप्ले में भुवनेश्वर भरोसे है टीम इंडिया
टी20 वर्ल्ड कप के बाद भारतीय टीम के गेंदबाज़ों ने पावरप्ले में सबसे ज़्यादा छह बार दो या दो से अधिक विकेट झटके हैं। हालांकि पावरप्ले में भारतीय टीम की गेंदबाज़ी भुवनेश्वर कुमार के ही भरोसे है। आंकड़े इस बात की गवाही देते हैं। वर्ल्ड कप के बाद से भारतीय गेंदबाज़ों ने पावरप्ले में कुल 19 विकेट लिए हैं जिसमें भुवनेश्वर ने अकेले आठ विकेट लिए हैं। भुवी के बाद पावरप्ले में सबसे ज़्यादा तीन विकेट अक्षर पटेल ने लिए हैं। ज़ाहिर है पावरप्ले में भुवनेश्वर के प्रदर्शन पर भारतीय टीम पूरी तरह से निर्भर कर रही है। ऐसे में शुरुआती चरण में भुवनेश्वर को दूसरे छोर से मदद की दरकार है।
डिकॉक और मिलर के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं चहल
क्विंटन डिकॉक हाथ में लगी चोट के कारण पिछला मुक़ाबला नहीं खेल पाए थे। तीसरे टी20 के लिए अगर वह फ़िट हो जाते हैं तो उन्हें पवेलियन भेजने की ज़िम्मेदारी चहल को दी जा सकती है। हालांकि चहल दोनों मुक़ाबलों में कुछ ख़ास प्रदर्शन नहीं दिखा पाए हैं लेकिन आंकड़े कहते हैं कि वह टी20 में डिकॉक को छह बार जबकि मिलर को तीन बार आउट कर चुके हैं। निर्णायक मुक़ाबले में चहल का लय में लौटना बेहद ज़रूरी है।

नवनीत झा (@imnot_nav) ESPNcricinfo हिंदी में एडिटोरियल फ़्रीलांसर हैं।