मैच (10)
आयरलैंड बनाम अफ़ग़ानिस्तान (1)
द हंड्रेड (पुरुष) (2)
महाराजा टी20 (3)
BAH v KUW (1)
द हंड्रेड (महिला) (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
ज़िम्बाब्वे में बांग्लादेश (1)
परिणाम
फ़ाइनल, नॉर्थ साउंड, February 05, 2022, आईसीसी अंडर-19 विश्व कप

भारत अंडर-19 की 4 विकेट से जीत, 14 गेंद बाकी

प्लेयर ऑफ़ द मैच
राज बावा, भारत अंडर-19
35 (54) & 5/31
raj-bawa
प्लेयर ऑफ़ द सीरीज़
डेवाल्ड ब्रेविस, साउथ अफ़्रीका अंडर-19
506 runs • 7 wkts
dewald-brevis
प्रीव्यू

भारत की नज़र पांचवें ख़िताब पर, इंग्लैंड की चाहत 24 साल बाद चैंपियन बनने पर

दोनों टीम अब तक इस अंडर 19 विश्व कप में अजेय रही हैं

India Under-19s get together after one of Ravi Kumar's three strikes against Bangladesh Under-19s, Bangladesh vs India, Under-19 World Cup 2022, quarter-final, Coolidge, January 29, 2022

मुश्किलों भरा रहा है अभी तक भारतीय टीम का अंडर 19 विश्‍व कप में सफर  •  ICC/Getty Images

बड़ी तस्वीर

अंडर-19 विश्व कप के पिछले चार संस्करणों में यह देखना अहम रहा है कि फ़ाइनल में भारत का सामना किस टीम से होता है। चार बार के चैंपियन इस टूर्नामेंट की सबसे प्रभावशाली टीम हैं और खिलाड़ी की उपलब्धता के साथ सभी ऑफ़-फील्ड मुद्दों के बावजूद, वे पसंदीदा के रूप में शुरू करते हैं। लेकिन भारत ने पिछले विश्व कप 2020 में भी पसंदीदा के रूप में शुरुआत की और वे बांग्लादेश से हार गए। इंग्लैंड 2022 में भी ऐसा ही करने की उम्मीद कर रहा होगा और उनके ऐसा मानने का एक अच्छा कारण है।
भारत की तरह इंग्लैंड भी अब तक एक मैच नहीं हारा है, यहां तक ​​पहुंचने के लिए उसने सभी पांचों मैच जीते हैं। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और कनाडा को आराम से हरा दिया था और क्वार्टर फ़ाइनल में साउथ अफ़्रीका को हरा दिया गया था, लेकिन बांग्लादेश और अफ़ग़ानिस्तान पर उनकी जीत सबसे ज़्यादा आश्वस्त करने वाली थी। दोनों एशियाई पक्षों को अपने स्पिनरों के साथ इंग्लैंड का टेस्ट लेना था, लेकिन कोई ज़्यादा कुछ नहीं कर सका। बांग्लादेश को 97 रनों पर ढेर कर दिया और अफ़ग़ानिस्तान भी क़ामयाब नहीं हो सका।
दोनों टीमों के पास भी हर स्थिति में समान प्रमुख हथियार हैं। जैकब बेथेल और अंगकृष रघुवंशी के रूप में दोनों टीम के पास आक्रामक सलामी बल्लेबाज़ हैं। मध्य क्रम में कप्तान टॉम पर्स्ट और यश ढुल हैं जिन्होंने शतक बनाने और एंकर की भूमिका निभाने का स्वभाव दिखाया है। जोशुआ बॉयडेन और रवि कुमार के रूप में टूर्नामेंट के दो सबसे होनहार बायें हाथ के स्विंग गेंदबाज़ मौजूद हैंमें प्रतियोगिता में दो सबसे होनहार बाएं हाथ के स्विंग गेंदबाज मौजूद हैं। वहीं दोनों टीमों के निचले क्रम में अंतिम दस ओवरों में 100 से ज़्यादा रन बनाने की क्षमता है।
हालांकि, एक अंतर है, इस टूर्नामेंट का अभियान प्रत्येक टीम के लिए कैसे गया है। इंग्लैंड के लिए यह सहज नौकायन रहा है, लेकिन भारत के लिए नाटकीय रहा है। एक मैच के लिए भारत के पास केवल 17 खिलाड़ियों में से 11 ही उपलब्ध थे, दूसरे के लिए केवल 12, और कम से कम तीन कप्तानी वाले उम्मीदवार अलग-अलग अवधियों में कोविड-19 से संक्रमित रहे। हालांकि, आप उनके प्रदर्शन से यह नहीं जान पाएंगे, वे साउथ अफ़्रीका, आयरलैंड, युगांडा, बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ इतने बेहतरीन दिखे।
तो फ़ाइनल कहां तय किया जा सकता था? इंग्लैंड भारत के तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ खुद का समर्थन करेगा, लेकिन क्या वे भारतीय स्पिन के लगभग 30 ओवरों को संभाल सकते हैं, जिनका टूर्नामेंट में औसत 12.34 है। यदि वे भारत के एक्स-फ़ैक्टर को नकार सकते हैं, तो इंग्लैंड 24 वर्षों में अपना पहला अंडर-19 विश्व कप ख़िताब जीत सकता है।

दोनों टीमों की फ़ॉर्म

(पिछले पांच मैच, आख़िरी सबसे पहले)
भारत जीत, जीत, जीत, जीत, जीत, जीत
इंग्लैंड जीत, जीत, जीत, जीत, जीत, जीत

सुर्खियों में

रेहान अहमद इंग्लैंड के सेट-अप में आक्रमणकारी लेग स्पिनर हैं और बेहतर बल्लेबाज़ों के ख़िलाफ़ महंगे साबित होने के बावजूद वास्तव में उन्हें विकेट मिलते हैं। उन्होंने अपने तीन मैचों में से प्रत्येक में चार विकेट लिए हैं और उनका औसत 9.91 का हास्यास्पद गेंदबाज़ी औसत है। वह अक्सर पीछे के छोर का प्रयोग करते हैं, जो नॉर्थ साउंड ट्रैक पर अच्छा हो सकता है। हालांकि, भारतीय खिलाड़ियों को स्पिनर पसंद आते हैं और यह रेहान के लिए अब तक की सबसे बड़ी चुनौती होगी।
प्रतियोगिता में 24 के बल्लेबाज़ी औसत के साथ भारत के सलामी बल्लेबाज़ हरनूर सिंह का टूर्नामेंट में दबदबा नहीं रहा है। लेकिन टूर्नामेंट से पहले उनके रनों की भरमार से पता चलता है कि यह उनके लिए तकनीक़ की समस्या नहीं है, बल्कि फ़ॉर्म की है। चार मैचों में वह अक्रॉस द लाइन खेलने के चक्कर में आउट हुए या उनके बल्ले का ऊपरी किनारा लग गया। फ़ाइनल में हरनूर अतीत के उन सभी शॉट्स को भुलाकर नई शुरुआत करना चाहेंगे, लेकिन उनके लिए फ़ॉर्म में चल रहे बॉयडेन का सामना करना आसान नहीं होगा जो देर से स्विंग कराते हैं।

टीम न्यूज़

दोनों टीमें अपनी सर्वश्रेष्ठ एकादश उतारने की स्थिति में हैं। अगर पिच में कुछ दरारें हैं, तो इंग्लैंड जेम्स सेल्स के स्थान पर बायें हाथ के स्पिनर फ़तेह सिंह को ला सकता है, जबकि भारत उसी एकादश से खेल सकता है।
भारत (संभावित): 1 हरनूर सिंह, 2 अंगकृष रघुवंशी, 3 शेख़ रशीद, 4 यश ढुल (कप्तान), 5 सिद्धार्थ यादव, 6 राज बावा, 7 कौशल तांबे, 8 दिनेश बाना (विकेटकीपर), 9 राजवर्धन हंगारगेकर, 10​ विक्की ओस्तवाल, 11 रवि कुमार
इंग्लैंड (संभावित): 1 जॉर्ज थॉमस, 2 जैकब बेथेल, 3 टॉम प्रेस्ट (कप्तान), 4 जेम्स रू, 5 विलियम लक्सटन, 6 जॉर्ज बेल, 7 रेहान अहमद, 8 ऐलेक्स हॉर्टन (विकेटकीपर), 9 थॉमस ऐस्पिनवॉल, 10 जेम्स सेल्स, 11 जोशुआ बॉयडेन

आंकड़े

भारतीय स्पिनरों ने 12.34 के औसत से पांच मैचों में 26 विकेट चटकाए हैं, यह किसी भी टीम का इस टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ है। इंग्लैंड के स्पिनरों का तीसरा सर्वश्रेष्ठ औसत है।
रेहान अहमद अकेले ऐसे गेंदबाज़ हैं जिन्होंने अंडर 19 विश्व कप में तीन बार पारी में चार विकेट लिए हैं।
इंग्लैंड और भारत ही इस टूर्नामेंट में दो ऐसी टीम है, जिनकी ओपनिंग साझेदारी का औसत 45 से अधिक है।
गेंद के साथ, पहला विकेट लेने से पहले भारत का औसत 4.20 का है, जबकि इंग्लैंड का औसत दूसरा 7.20 का है।
प्रेस्ट दूसरे कप्तान है जो इंग्लैंड को अंडर 19 विश्व कप के फ़ाइनल में लेकर गए हैं, इससे पहले 1998 में ओवेश शाह इंग्लैंड को फ़ाइनल में लेकर गए थे।

श्रेष्‍ठ शाह ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।

Customize Your Page
Language
English
Hindi
मैच कवरेज
AskESPNcricinfo Logo

Instant answers to T20 questions

भारत अंडर-19 पारी
<1 / 3>