मैच (15)
ENG v PAK (1)
ENG v PAK (W) (1)
T20WC Warm-up (6)
Vitality Blast (5)
CE Cup (2)
ख़बरें

अब जाकर आख़िरकार जार्वो हुआ गिरफ़्तार

पिछले टेस्ट में मैदान पर जाने से लगी थी पाबंदी, इस बार लंदन पुलिस ने लिया गंभीरता से

Pitch invader Jarvo collides with Jonny Bairstow, England vs India, 4th Test, The Oval, London, 2nd day, September 3, 2021

इस बार तो जॉनी बेयरस्टो से जाकर गले मिल गया जार्वो  •  AFP/Getty Images

ओवल के मैदान पर चौथे टेस्ट के दूसरे दिन, बल्लेबाज़ी कर रहे जॉनी बेयरस्टो को गले लगाने वाला संदिग्ध इंसान पकड़ लिया गया है। जानकर ताज्जुब होगा कि यह शख़्स कोई और नहीं डेविड जार्विस है। वही शख़्स जो पिछले टेस्ट में टीम इंडिया की जर्सी पहने मैदान पर घुस गया था। शुक्रवार को मैदान पर पहुंचने से पहले जार्वो के यूट्यूब चैनल पर एक लाख 23 हजार फॉलोअर्स हो ही चुके हैं और उसकी जर्सी नंबर 69 चर्चा का विषय बन गई है, क्योंकि दोनों ही टीम के खिलाड़ी इस समय बायो बबल में रह रहे हैं।
पुलिस की मानें तो ओवल के मैदान पर चौथे टेस्ट के दूसरे दिन पकड़ा गया जार्वो साउथ लंदन पुलिस स्टेशन में उनकी कस्टडी में ही रहेगा।
अगर इस मैच की बात करें तो, यह वाक्या तब हुआ जब इंग्लैंड और भारत के बीच चौथे टेस्ट का दूसरा दिन खेला जा रहा था। उस वक्त सफेद ड्रेस में दौड़ता हुआ शख़्स इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों को गेंदबाज़ी करने के लिए टूट पड़ा, उस समय क्रीज़ पर पोप थे और वह नॉन स्ट्राइकर ऐंड पर मौजूद जॉनी बेयरस्टो से बातचीत कर रहे थे। जिस वक्त सिक्योरिटी टीम ने उस शख़्स को बाहर निकाला, क्रीज़ पर मौजूद दोनों ही बल्लेबाज़ बेहद गुस्से में थे।
यह तीसरा मौका था जब जार्वो पिच की ओर दौड़ा। यह भी देखने वाली बात रही कि कम से कम पिछले मौकों पर उसके मैदान पर घुसने पर पाबंदी लगा दी गई थी। इससे पहले कि पुलिस पहुंचती ओवल मैदान के प्रबंधकों ने उसको पकड़ लिया था।
लेकिन, मैदान पर उसकी उपस्थिति का स्वागत किया गया। सामान्य तौर पर भीड़ से​ घिरा रहने वाला मैदान, उसकी उपस्थिति पर बेकाबू नज़र आया, क्योंकि सभी ने बू के साथ उसका स्वागत किया। यह उन लोगों के लिए काफ़ी था, जो मैदान पर क्रिकेट का आनंद ले रहे थे।
सरी भी इस वाक्ये से बेहद हताश दिखी, क्योंकि कैसे कोई शख़्स मैदान के अंदर घुस गया और अब वह इस वाक्ये का रिव्यू करेंगे।
वैसे भी खिलाड़ियों और उनके साथियों के लिए कई चीजें मायने रखती हैं। पिछले दोनों टेस्ट में जार्वो पिच तक पहुंचे और खिलाड़ियों के साथ शारीरिक संपर्क बनाया। यह भी कहना ग़लत होगा कि उसने ध्यान खींचने के लिए ऐसा किया, क्योंकि ऐसा करके तो उसने दूसरे लोगों का हौसला ही बढ़ाया, जो मैदान पर खिलाड़ियों से मिलना चाहते हैं।

जॉर्ज डोबेल ESPNcricinfo में वरिष्ठ संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब ​एडिटर निखिल शर्मा ने किया है। @nikss26