मैच (15)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

कोहली की कप्तानी में 'हर मैच जीतने का दृढ़ संकल्प था' : रोहित शर्मा

नए सीमित ओवर के कप्तान ने कहा- हम पिछले कुछ सालों में आईसीसी ट्रॉफ़ी जीतने के बहुत क़रीब थे और बस 'एक अतिरिक्त इंच' से चूक रहे थे

रोहित शर्मा ने पूर्व कप्‍तान विराट कोहली की जमकर तारीफ की  •  Getty Images

रोहित शर्मा ने पूर्व कप्‍तान विराट कोहली की जमकर तारीफ की  •  Getty Images

भारतीय टीम के नए सीमित ओवर के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा है कि उन्होंने सफ़ेद गेंद की कप्तानी पद से हटाए गए विराट कोहली के अधीन खेले गए हर पल का आनंद लिया है और वह ऐसा आगे करना भी जारी रखेंगे।
बीसीसीआईडॉटटीवी के साथ बातचीत में रोहित ने बताया कि पिछले पांच सालों तक कप्तानी करने वाले कोहली के निर्देशन में उन्होंने कितना अच्छा समय बिताया है। साउथ अफ़्रीका दौरे की तैयारियों से इतर रोहित ने कहा, "उन्होंने पांच वर्षों तक टीम की कप्तानी की। उन्होंने हमेशा आगे आकर टीम का नेतृत्व किया। हम मैदान पर उतरते थे और हम हर मैच जीतने के दृढ़ संकल्प के साथ मैच खेलते थे। यही संदेश पूरी टीम के लिए होता था। हमने उनकी कप्तानी में काफ़ी अच्छा समय बिताया है। मैंने व्यक्तिगत रूप से उनकी कप्तानी में काफ़ी क्रिकेट खेला है और हर लम्हे का लुत्फ़ उठाया है। आगे भी यह जारी रहेगा।"
2013 चैंपियंस ट्रॉफ़ी के बाद से कोई आईसीसी ट्रॉफ़ी नहीं जीत पाने के कारण भारतीय टीम को पिछले कुछ सालों में लगातार आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है, हालांकि रैंकिंग में यह टीम लगातार ऊपर ही रही है।
रोहित ने कहा, "अंतिम परिणाम के बारे में सोचने से पहले हमें बहुत सी चीज़ें करने की ज़रूरत है। आख़िरी आईसीसी ट्रॉफ़ी (चैंपियंस ट्रॉफी) हमने 2013 में जीती थी। लेकिन हमने उस चैंपियंस ट्रॉफ़ी के बाद भी कुछ ग़लत नहीं किया। हमने अच्छा खेला और एक टीम के रूप में प्रदर्शन किया लेकिन हमें वह अतिरिक्त इंच नहीं मिला, जो ट्रॉफ़ी जीतने के लिए मिलना चाहिए था।"
उन्होंने आगे कहा, "ऐसा हो सकता है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट बहुत मांग वाला है लेकिन यह चुनौती है क्योंकि हम सभी पेशेवर हैं। बहुत सारे विश्व कप आ रहे हैं और भारत उनमें अच्छा प्रदर्शन करने के लिए तैयार है। हमारा ध्यान चैंपियनशिप जीतने पर है लेकिन एक प्रक्रिया है जिसे हमें एक समूह के रूप में पालन करने की आवश्यकता है। अगर आपको चैंपियनशिप जीतने की ज़रूरत है, तो कई अन्य चीज़ें हैं जिन पर आपको पहले ध्यान देने की ज़रूरत है, फिर अंतिम लक्ष्य पर ध्यान दें।"
रोहित ने कहा कि पहले एक खिलाड़ी के रूप में और फिर सामूहिक रूप से एक टीम के रूप में बेहतर होने पर ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने कहा, "जब चुनौतियां होती हैं, तब आप उन कठिन चुनौतियों का कैसे सामना करते हैं, यह बहुत अहम है और मुझे लगता है अतीत में हमें पहले भी ऐसी स्थितियों का सामना किया है, जहां हमने 10 रन पर तीन विकेट और 15 रनों पर दो विकेट ​गवां दिए और बाद मं संभलने में विफल रहे। यह कुछ ऐसा है जिसे हमें आगे बढ़ते हुए ध्यान में रखना होगा, यह सुधार के क्षेत्रों में से एक है।"
उनके प्राथमिक कार्यों में से एक यह सुनिश्चित करना है कि प्रत्येक खिलाड़ी को इस बात की जानकारी हो कि उसे टीम में क्यों चुना गया है और उससे क्या उम्मीद की जाती है। रोहित ने कहा, "मुझे टीम इंडिया का नेतृत्व करने के लिए सीमित अवसर मिले हैं, लेकिन जब भी मुझे मौक़ा मिला है मैंने इसे आसान रखने की कोशिश की है। मैंने एक बात पर ध्यान रखने की कोशिश की है कि खिलाड़ियों से स्पष्ट संवाद हो।"
उन्होंने कहा, "मैंने यह सुनिश्चित करने की कोशिश की है कि वे अपनी भूमिकाओं को समझें और यही सब कुछ है। उस भूमिका को समझना, मैदान में जाना और उस भूमिका को निभाना। क्योंकि हमारे लिए कोच और कप्तान के रूप में यह महत्वपूर्ण है कि हमारे बीच स्पष्ट संवाद हो और मैं यही करना चाहता हूं, जिससे लोगों को यह समझ में आए कि उन्हें टीम में क्यों चुना गया है।"
रोहित और राहुल द्रविड़ ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ तीन मैचों की T20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ के दौरान एक साथ काम किया और नए कप्तान इस जोड़ी की शुरुआत से बहुत खुश हैं। रोहित ने कहा, 'राहुल भाई के साथ काम करना शानदार था। उन्होंने कहा, "हम जानते हैं कि उन्होंने अपनी क्रिकेट कड़ी और कड़ी मेहनत से कैसे खेली है। साथ ही आराम भी मिला है, क्योंकि माहौल को हल्का और खुशनुमा रखना महत्वपूर्ण है।"