श्रीलंका 100-3 (राजापक्षा 42*, फ़र्नांडो 30*) ने नामीबिया 96 ऑलआउट (क्रेग विलियम्स 29, थीक्षना 3-25, लहिरु 2-9) को सात विकेट से हराया

महीश थीक्षना की मिस्ट्री में फंसी नामीबिया

जिस तरह से कभी अंजता मेंडिस अपनी गेंदों पर ख़ासतौर से विपक्षी टीम के बल्लेबाज़ों को उलझा दिया करते थे, ठीक उसी अंदाज़ में श्रीलंका के नए मिस्ट्री स्पिनर महीश थीक्षना भी कर रहे हैं। नामीबिया के बल्लेबाज़ सोमवार को टी20 विश्वकप में उनकी गेंदों के सामने ऐसे सिर खुजलाते हुए नज़र आए मानो कि किसी तिलिस्म का नख़्शा उनसे गुम हो गया हो। महीश ने पावरप्ले में आते ही अपनी पहली गेंद पर विकेट हासिल कर लिया था, उन्होंने स्टेफ़ान बार्ड को पवेलियन की राह दिखाई थी। इसके बाद ज़ेन ग्रीन भी उनकी गेंद को समझने से पहले ही हवा में मार बैठे थे और फिर 16वें ओवर में उन्होंने आपना तीसरा शिकार क्लीन बोल्ड करते हुए किया। अपने पहली टी20 विश्वकप के मुक़ाबले में महीश ने चार ओवर में 25 रन देकर तीन विकेट लिया।

श्रीलंका के तेज़ गेंदबाज़ों ने भी बोला धावा

इस मैच से पहले नामीबिया ने सिर्फ़ एक टी20 अंतर्राष्ट्रीय फ़ुल मेंबर टीम के ख़िलाफ़ खेला था, और यही वजह थी कि उनके बल्लेबाज़ों ने कभी ऐसे गेंदबाज़ों का सामना कम ही किया होगा जिनकी रफ़्तार 145 किमी प्रति घंटे किमी की हो। और यहां तो एक नहीं बल्कि दो-दो ऐसे गेंदबाज़ मौजूद थे, दुश्मांता चमीरा को विकेट तो एक मिली लेकिन उनकी रफ़्तार का सामना कर पाने में नामीबियाई बल्लेबाज़ असहज थे। उनकी एक गेंद तो 149 किमी प्रति घंटी की तीव्रता से आई और एक गेंद जो 147 किमी रफ़्तार से डाली हुई थी वह सलामी बल्लेबाज़ ग्रीन के हेलमेट में जाकर लगी, पावरप्ले के दो ओवर में उन्होंने सिर्फ़ 11 रन दिए थे।

लहिरु कुमारा उतने तेज़ गेंदबाज़ तो नहीं लेकिन फिर भी उनकी गेंदें 140 की रफ़्तार से ज़्यादा रहती हैं, इस मैच में उन्होंने शानदार गेंदबाज़ी की। एक ओवर उन्होंने पावरप्ले में डाला, दो मिडिल ओवर्स में और फिर एक ओवर उन्होंने डेथ ओवर्स में भी फेंका (जहां सिर्फ़ तीन ही गेंद डाल पाए, क्योंकि नामीबिया ऑलआउट हो गई थी)। लहिरु ने अपने 3.3 ओवर में नौ रन ही ख़र्च किए और दो विकेट झटके।

नामीबिया की पूरी पारी 19.3 ओवर में ही 96 रनों पर ढेर हो गई, नामीबिया की ओर से सिर्फ़ तीन बल्लेबाज़ (क्रेग विलियम्स 29, एरार्ड इरस्मस 20 और जेजे स्मिट 12*) ही दहाई के आंकड़े में पहुंच पाए।

नामीबिया ने श्रीलंका के टॉप ऑर्डर में लगाई सेंध

श्रीलंका का शीर्ष बल्लेबाज़ी क्रम बेहद कमज़ोर है और वह आज फिर साबित हुआ जब पावरप्ले के अंदर ही उनके तीन विकेट गिर गए थे। सबसे पहले कुसल परेरा दूसरे ओवर में ही रुबेन ट्रंपलमन का शिकार हो गए थे, इसके बाद बर्नार्ड स्कोल्ट्ज़ ने पथुम निसंका को विकेट के सामने पकड़ लिया और फिर पावरप्ले के अंतिम ओवर में जेजे स्मिट ने दिनेश चांदीमल को पवेलियन की राह दिखाते हुए श्रीलंकाई ख़ेमें में कुछ देर के लिए हड़कंप मचा दिया था। इस समय श्रीलंका का स्कोर 26/3 रन था।

फ़र्नांडो और राजापक्षा ने जीत की मंज़िल तक पहुंचाया

पहली तीन विकेट जल्दी लेने के बाद नामीबिया के गेंदबाज़ों ने श्रीलंकाई बल्लेबाज़ों पर से लगाम खींच ली थी, अविष्का फ़र्नांडो की शुरुआत धीमी रही लेकिन फिर उनकी नज़रें जमते ही शॉट्स आने लगे थे। भानुका राजापक्षा ने भी अच्छी बल्लेबाज़ी करते हुए काउंटर अटैक भी किया और फिर देखते ही देखते दोनों बल्लेबाज़ों ने नामीबिया के हाथों से मैच छीन लिया। फ़र्नांडो 28 गेंदों पर 30 रन बनाकर नाबाद रहे, जबकि राजापक्षा 27 गेंदों पर 42 रन बनाकर नॉटआउट लौटे। श्रीलंका ने 13.3 ओवर में ही सात विकेटों से मैच अपने नाम कर लिया।

ऐंड्रयू फ‍़िडेल फ़र्नांडो (@afidelf) ESPNcricinfo के श्रीलंकाई संवाददाता हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।