ख़बरें

ओपनिंग करेंगे राहुल, वेंकटेश अय्यर को भी टीम में किया जा सकता है शामिल

पहले दो वनडे में पिच स्पिनरों की कर सकती है मदद

केएल राहुल ने कहा है कि वह साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ तीन मैचों की वनडे श्रृंखला में वह पारी की शुरुआत करेंगे। आपको बता दें कि राहुल इस वनडे श्रृंखला में भारत के कप्तान भी हैं।
नंबर चार या उससे ​निचले क्रम पर बल्लेबाज़ी करते हुए राहुल ने पिछले दो वर्षों में काफ़ी रन बनाए हैं। जनवरी 2020 से उन्होंने दस मैचों में 69.25 की औसत और 109.92 के स्ट्राइक रेट से 554 रन बनाए हैं। हालांकि रोहित शर्मा की गैर मौजूदगी में राहुल सलामी बल्लेबाज़ की भूमिका में होंगे।
पार्ल में खेले जाने वाले पहले वनडे की पूर्व संध्या पर राहुल ने कहा, "पिछले 14-15 महीनों में, मैंने नंबर चार, नंबर पांच जैसे विभिन्न स्थान पर बल्लेबाज़ी की है। उस समय टीम को मेरी मध्य क्रम में ज़रूरत थी। अब मुझे लगता है कि रोहित के यहां नहीं होने से मैं शीर्ष क्रम पर बल्लेबाज़ी करूंगा।"
"हम ऐसी टीम नहीं बनना चाहते हैं जो बहुत अनुमानित हो। कहने का मतलब है कि ऐसे कई मैच हो सकते हैं जहां मुझे मध्य क्रम या निचले क्रम में बल्लेबाज़ी करनी पड़े क्योंकि टीम को उस वक़्त वही चाहिए होगा। वहीं मुझे किसी समय बल्लेबाज़ी की शुरुआत करनी पड़ सकती है। मैं टीम की ज़रूरत के अनुसार किसी भी स्थान पर बल्लेबाज़ी करने के लिए तैयार हूं। एक बात साफ है कि हमें एक टीम गेम में, टीम की रणनीति के अनुसार लचीला होना पड़ेगा। हर किसी को कुछ ख़ास चीज़ों के लिए तैयार रहना होगा जो टीम उनसे करवाना चाहती है।"
टेस्ट श्रृंखला के दौरान, पिचों में स्पिनरों के लिए कुछ ख़ास मदद नहीं थी, लेकिन राहुल के अनुसार बोलैंड पार्क की पिच धीमे गेंदबाज़ों को मदद कर सकती है। ऐसे में पार्ल में खेले जाने वाले पहले दो वनडे मैचों में भारत आर अश्विन और युज़वेंद्र चहल दोनों को टीम में जगह दे सकता है। अगर भारत ऐसा करता है तो जून 2017 के बाद अश्विन का यह पहला वनडे होगा।
2017-18 में पिछली बार भी जब भारत ने साउथ अफ़्रीका का दौरा किया था, तब उन्होंने छह मैचों की वनडे सीरीज़ के दौरान कुलदीप यादव और चहल को टीम में जगह जी गई थी। उस दौरान कुलदीप और चहल दोनों ने क्रमश: 17 और 16 विकेट लेकर भारत को 5-1 से सीरीज़ जीतने में अहम भूमिका निभाई थी।.
राहुल ने कहा, 'हमने बोलैंड पार्क में कुछ दिन अभ्यास किया और ऐसा लग रहा है कि इस पिच पर स्पिनर्स को मदद मिल सकती है। उन्होंने कहा, 'हमारे पास बेहतरीन स्पिनर हैं। अश्विन वनडे टीम में वापस आ रहे हैं और हम सभी जानते हैं कि वह किस तरह की गुणवत्ता के साथ गेंदबाज़ी करते हैं। चहल सालों से हमारे लिए बढ़िया गेंदबाज़ी कर रहे हैं। अगर पिच से स्पिन गेंदबाज़ों को कोई मदद मिलती है, तो मुझे पता है कि ये दोनों गेंदबाज़ वास्तव में इसका फायदा उठाएंगे। उम्मीद है पहले दो मैचों में पिच स्पिन गेंदबाज़ों के लिए मददगार साबित हो सकता है। अगर ऐसा होता है तो टीम के लिए वह दोनों गेंदबाज़ काफ़ी महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं।'
भारत वेंकटेश अय्यर को उनके छठे गेंदबाज़ी विकल्प के रूप में देख रहा है। वेंकटेश वह काम कर सकते हैं जो हार्दिक पांड्या ने अपने इंजरी से पहले किया करते थे। वर्तमान में भारत के शीर्ष छह में कोई बल्लेबाज़ नहीं है जो गेंदबाज़ी करता हो।
अय्यर ने नवंबर में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ टी20 श्रृंखला के दौरान भारत में पदार्पण किया था, लेकिन उन्होंने अभी तक वनडे मैच नहीं खेला है। हाल ही में समाप्त हुई विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी में उन्होंने 63.16 की औसत और 133.92 के स्ट्राइक रेट से 379 रन बनाए। गेंद के साथ उन्होंने अधिकांश मैचों में नौ से दस ओवर फेंके और 5.75 की इकॉनमी रेट से नौ विकेट लिए।
राहुल ने कहा कि अय्यर साउथ अफ़्रीका में भी नेट्स बढ़िया दिख रहे हैं।
"आजकल सफे़द गेंद वाले क्रिकेट में छठा गेंदबाज़़ी विकल्प वास्तव में महत्वपूर्ण है और हम इसे विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं। वेंकटेश अय्यर टीम में आए हैं और हम उन्हें वह मौक़ा देंगे। उन्होंने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ खेले गए दो या तीन मैचों में हमारे लिए अच्छा प्रदर्शन किया है। आईपीएल में भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था। इसलिए वह हमें छठे गेंदबाज़ की तरह दिख रहे हैं।"
"तेज़ गेंदबाज़ी करने वाले ऑलराउंडर हमेशा एक संपत्ति होते हैं और हम हमेशा तेज़ गेंदबाज़ी करने वाले ऑलराउंडर की तलाश में रहते हैं। ऐसे खिलाड़ी वास्तव में अच्छी तरह से टीम को संतुलित करते हैं, इसलिए वेंकटेश अय्यर को लेकर हम बहुत उत्साहित हैं। साउथ अफ्रीका में उसके पास यह एक अच्छा मौक़ा है।"

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।