मैच (15)
आईपीएल (1)
WI vs SA (1)
County DIV1 (3)
County DIV2 (4)
T20WC Warm-up (3)
CE Cup (3)
फ़ीचर्स

रेटिंग्‍स : अश्विन तो अव्‍वल नंबरी हैं लेकिन बाज़ी मारी यशस्‍वी ने

वेस्‍टइंडीज़ बनाम भारत टेस्‍ट मैच में जानिए किसको मिली कितनी रेटिंग्‍स

Yashasvi Jaiswal soaks in the moment after scoring his century, West Indies vs India, 1st Test, Dominica, 2nd day, July 13, 2023

Yashasvi Jaiswal soaks in the moment after scoring his century  •  Associated Press

भारतीय टीम ने 2023-25 डब्‍ल्‍यूटीसी चक्र के पहले मैच में ही पारी और 141 रनों से मैच जीतकर अच्‍छी शुरुआत की है। हर बार की तरह वेस्‍टइंडीज़ दौरे पर आर अश्विन ही चैंपियन द‍िखे लेकिन प्रभावित तो यशस्‍वी जायसवाल ने किया। चलिए तो जानते हैं इस पूरे मैच की कहानी रेटिंग्‍स के तौर पर।

क्या सही क्या ग़लत?

भारत को एक ऐसा ओपनर मिला है जिसमें रन बनाने की लालसा नहीं हैं। यशस्‍वी जायवाल शुरुआत में आधे घंटे तक जिस संयम के साथ गेंद को छोड़ रहे थे उनमें एक अच्‍छा भविष्‍य दिख रहा था। अश्विन को भी अगर आगे मौक़े दिए जाएं तो वह कमाल कर सकते हैं।
ग़लत की बात की जाए, तो प‍िच को देखते हुए तीन तेज़ गेंदबाज़ खिलाने की ज़रूरत नहीं थी वह भी तब जब आपके दो मुख्‍य तेज़ गेंदबाज़ों ने कुल मिलाकर पूरे मैच में 14 ही ओवर डाले हों।

प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)

यशस्‍वी जायसवाल, 10 : घरेलू क्रिकेट में तो अब तक दिखाते ही आए हैं लेकिन इस बार मौक़ा बड़ा था। ऑफ स्‍टंप के बाहर की गेंद को कैसे छोड़ा जाए वह कोई यशस्‍वी से सीखे। इन तीन दिनों के अंदर पहली बार ऐसा हुआ जब उन्‍होंने 10 गेंद के अंदर पहला रन बनाया और वारिकन पर वह छक्‍का तो सौरभ गांगुली की याद दिला गया।
रोहित शर्मा, 9 : लाल मिट्टी की इस पिच पर ऐसा लग रहा था कि दो मुंबई के बल्‍लेबाज़ आज़ाद मैदान पर खेल रहे हैं या किसी अन्‍य लाल मिट्टी की पिच पर। रोहित को अधिकतर स्‍टंप्‍स में गेंद की गई लेकिन उन्‍होंने अपना संयम नहीं खोया ना ही वह शॉर्ट ऑफ़ लेंथ से डरे। एक दिलदार पारी वह खेलकर गए। अब वह कप्‍तान भी हैं और उनके पास दो टॉप क्‍वालिटी स्पिनर भी तो कैसे उनसे ग़लत की उम्‍मीद की जाए, लेकिन वेस्‍टइंडीज़ की एक पनप रही साझेदारी में उन्‍होंने सिराज को ओवर देकर कमाल कर दिया।
शुभमन गिल, 4 : रोहित के मुताबिक शुभमन ही तीसरे नंबर पर आना चाहते थे। वह आए भी लेकिन अभी तक तेज़ गेंदबाज़ों का शुरुआत में सामना करने के बाद ऐसा लगा कि उनका डिफ़ेंस कमज़ोर तो नहीं है? बाक़ी नंबर तीन तो ताज है, जिसने पहना वह सफल हुआ तो सरताज, सफल नहीं हुआ तो बे-ताज।
विराट कोहली, 8 : विराट की इस पारी में संयम दिखा और यह केवल ही नहीं थे, अन्‍य बल्‍लेबाज़ों ने भी पिच का तौर तरीक़ा देखते हुए थोड़ा समय लिया। विराट भी उन ही भारतीय बल्‍लेबाज़ों में से एक थे। पैरों पर गेंद करना उनको आत्‍मविश्‍वास देता है, लेकिन जैसे ही मेज़बान टीम के गेंदबाज़ों को समझ आया कि चौथे स्‍टंप या इससे बाहर की जाए गेंद तो विराट पवेलियन में थे।
अजिंक्‍य रहाणे, 2 : रहाणे को इस मैच में अंक मिलने चाहिए? ना ही कोई कैच और ना ही कोई जुगलबंदी। इस पारी में एक ही बार बल्‍लेबाज़ी आई और वह इस पिच के तौर तरीके़ को समझ नहीं पाए। आउट भी हुए तो बाद में पिच को घूर कर जा रहे थे।
रवींद्र जाडेजा, 7 : जाडेजा ऐसे टीम सदस्‍य हैं जिस पर हमेशा भरोसा किया जा सकता है। तारीफ़ के पुल तो अश्विन के लिए छोड़‍िए लेकिन इस मैच में भी उनके नाम पांच विकेट हैं और 37 रन की नाबाद पारी को कैसे भुलाया जाए। गेंदबाज़ी में वह में हमेशा से ही विकेट पर गेंद रखकर बल्‍लेबाज़ से ग़लती कराते हैं और इस मैच में भी वह ऐसा करने में क़ामयाब रहे।
इशान किशन, 4 : इशान ने भी वही किया जो इस पिच पर जरूरी था। पहली 17 गेंद तक तो उन्‍होंने रन नहीं बनाया था, लेकिन पवेलियन से एक इशारा आया और वह अपना पहला टेस्‍ट रन बना गए। विकेट‍कीपिंग में उनमें चपलता दिखी, जैसे वह इस मिले मौके़ पर अपनी छाप छोड़ना चाहते थे। इसका उदाहरण उनकी स्‍टंपिंग की अपील भी रही जिसने ऐशेज़ में बेयरस्‍टो के रन आउट की याद दिला दी।
रविचंद्रन अश्विन, 10 : अश्विन को अगर मौक़ा मिले तो उनके पास इतनी विविधता है कि बल्‍लेबाज़ का परेशान होना लाज़मी है। पहली पारी में उन्‍होंने अच्‍छे से बताया कि वह अपनी उंगलियों और क्रीज़ का इस्‍तेमाल कितना अच्‍छे से करते हैं और जब से वह राउंड द‍ि विकेट आकर पगबाधा को देख रहे हैं वह और क़ारगर साबित हो रहे हैं।
शार्दुल ठाकुर, 4 : केवल एक विकेट शार्दुल के ख़ाते में इस पूरे मैच में आया है। दूसरी पारी में उन्‍होंने गेंदबाज़ी तक नहीं की। ऐसे में उनको चार अंक दिए जा सकते हैं।
जयदेव उनादकट, कोई अंक नहीं : पहली पारी में उन्‍होंने केवल सात ओवर किए, लेकिन इसके बाद तो पूरे तीन दिन तक वह ग़ायब से दिखे। विकेट भी नहीं मिला तो अंक देना मुनासिब भी कैसे होगा।
मोहम्‍मद सिराज, 6 : यह वह गेंदबाज़ है जिसको देखकर लगता है कि कभी भी विकेट आ सकता है। वेस्‍टइंडीज़ के विकेटकीपर जॉशुआ डासिल्‍वा हल्‍का सा टिकने की ओर इशारा कर रहे थे तो रोहित उनको जाडेजा की जगह लेकर आए और उन्‍होंने अपनी वही अंदर आती गेंद पर जॉशुआ की पारी का अंत कर दिया। इससे पहले पहली पारी में भी अकेले ट‍िके जेसन होल्‍डर को उन्‍होंने ही तो पवेलियन की राह दिखाई थी।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26