मैच (19)
आईपीएल (3)
T20I Tri-Series (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Charlotte Edwards (4)
ENG v PAK (W) (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े : रिकॉर्ड चेज़ के साथ ऑस्ट्रेलिया ने जीता अपना पहला टी20 विश्वकप ख़िताब

टी20 विश्वकप फ़ाइनल मुक़ाबले में बने कुछ बेहतरीन और अनोखे रिकॉर्ड्स पर एक नज़र

David Warner is congratulated by his IPL team-mate Kane Williamson, Australia vs New Zealand, T20 World Cup final, Dubai, November 14, 2021

डेविड वॉर्नर को जीत की मुबारकबाद देते हुए उनके आईपीएल के साथी केन विलियमसन  •  ICC via Getty Images

6 सात में से छह टी20 विश्वकप फ़ाइनल को उस टीम ने जीता है, जिसने टॉस जीता हो।, जबकि दुबई में 2021 टी20 विश्वकप में रात में खेले गए सभी दस मुक़ाबलों को चेज़ करने वाली टीम ने ही जीता है, जिसमें नौ टीमों ने टॉस भी जीता।
173 किसी भी टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में इससे पहले कभी इतना बड़ा स्कोर चेज़ नहीं किया गया था। हालांकि अगर टी20 अंतर्राष्ट्रीय फ़ाइनल की बात करें, तो हरारे में खेली गई त्रिकोणीय सीरीज़ में पाकिस्तान का ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 184 रन चेज़ करने का रिकॉर्ड अभी भी सुरक्षित है। इससे पहले किसी टी20 विश्वकप फ़ाइनल में सबसे बड़े चेज़ का रिकॉर्ड वेस्टइंडीज़ के नाम था, जिन्होंने 2016 टी20 विश्वकप में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ बनाया था। इंग्लैंड ने 156 का लक्ष्य रखा था और वेस्टइंडीज़ ने 161 रन बना डाले थे।
31 मिचेल मार्श पुरुष टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में सबसे तेज़ अर्धशतक लगाने वाले खिलाड़ी बन गए। उन्होंने इसी मैच में 32 गेदों पर अपना अर्धशतक लगाने वाले केन विलियमसन को पीछे छोड़ा। इस मैच से पहले टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में सबसे तेज़ अर्धशतक कुमार संगकारा ने लगाया था, उन्होंने 2014 में 33 गेंद का सामना किया था और 2016 टी20 विश्वकप फ़ाइनल में भी 33 गेंदों में ही जो रूट ने फ़िफ़्टी लगाई थी।
85 केन विलियमसन टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में सबसे बड़ी पारी खेलने के मामले में संयुक्त तौर पर नंबर-1 पर आ गए हैं। 2016 टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मार्लोन सैमुअल्स ने भी 85 रनों की नाबाद पारी खेली थी।
39 मिचेल स्टार्क के ख़िलाफ़ विलियमसन ने इतने रन बनाए, किसी भी टी20 मुक़ाबले में तेज़ गेंदबाज़ के खिलाफ़ किसी एक बल्लेबाज़ का ये सबसे ज़्यादा रन है। इससे पहले विराट कोहली ने 2011 चैंपियंस लीग टी20 में 11 गेंदों पर 32 रन बनाए थे। विलियमसन ने अपनी पारी के दौरान सात चौके और एक छक्का लगाया और उन्होंने स्टार्क की सिर्फ़ 12 गेंदों का सामना किया। किसी भी पुरुष टी20 विश्वकप के मुक़ाबले में एक गेंदबाज़ के ख़िलाफ़ ये सबसे ज़्यादा बाउंड्री का नया रिकॉर्ड बन गया।
289 डेविड वॉर्नर के द्वारा बनाए ये रन किसी एक सीज़न के टी20 विश्वकप में किसी भी ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ का सबसे ज़्यादा रन है। इससे पहले 2007 टी20 विश्वकप में ऑस्ट्रेलिया की ओर से मैथ्यू हेडन ने सबसे ज़्यादा 265 रन बनाए थे। केविन पीटरसन (इंग्लैंड, 2010) और वॉर्नर (ऑस्ट्रेलिया, 2021) ही दो ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें विजेता टीम में रहते हुए टी20 विश्वकप के प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट से नवाज़ा गया है।
627 मार्श ने 2021 में इतने टी20 अंतर्राष्ट्रीय रन बनाए हैं, जो इस कैलेंडर वर्ष में तीसरा सबसे ज़्यादा है। उनसे आगे पाकिस्तान के मोहम्मद रिज़वान (1033) और बाबर आज़म (826) हैं।
60 स्टार्क ने अपने चार ओवर में लुटा दिए इतने रन, ये टी20 अंतर्राष्ट्रीय में किसी भी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज़ दूसरा सबसे ख़राब आंकड़ा है। उनसे आगे सिर्फ़ ऐंड्रयू टाय हैं जिन्होंने 2018 में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ 64 रन ख़र्च कर दिए थे। मिचेल स्टार्क अब सिर्फ़ उन पांच गेंदबाज़ों में शुमार हो गए हैं, जिन्होंने टी20 विश्वकप के मैचों में 60 या उससे ज़्यादा रन दिए हों, जबकि टी20 विश्वकप के फ़ाइनल में इतने रन देने वाले वह एकमात्र गेंदबाज़ बन गए हैं।

संपत बंडारुपल्ली ESPNcricinfo में सांख्यिकीविद हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।