मैच (12)
आईपीएल (1)
USA vs BAN (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
T20I Tri-Series (1)
ख़बरें

बड़ी चोंटों के बाद वापसी पर दीपक चाहर : मानसिक रूप से यह बेहद मुश्किल है

सीएसके के तेज़ गेंदबाज़ी के नेतृत्‍वकर्ता ने कहा कि लय में आने में समय लगेगा और वह डेथ गेंदबाज़ी पर काम करते रहेंगे

Deepak Chahar is pumped after tricking Anmolpreet Singh with a slower ball, Chennai Super Kings vs Mumbai Indians, IPL 2021, Dubai, September 19, 2021

लंबे समय बाद चोट से वापसी कर रहे हैं दीपक चाहर  •  BCCI

दीपक चाहर को लगता है कि 2022 में चोटों के बाद वापसी करना मुश्किल है। वह 2022 के पहले हाफ़ में बाहर रहे और दूसरे हाफ़ में धीमी शुरुआत की। अब वह बिना विकेट के आईपीएल 2023 के दो मैच खेल चुके हैं। उन्‍होंने कहा कि सर्वश्रेष्ठ फ़ॉर्म में आने में अभी समय लगेगा।
चाहर ने कुछ चुनिंदा भारतीय अख़बारों से बात करते हुए कहा, "मानसिक रूप से यह बहुत मुश्किल है। मुझे दो बड़ी चोट लगी थी, जो एक तेज़ गेंदबाज़ के लिए पेचीदा थीं। दूसरे तेज़ गेंदबाज़ भी कमर में स्‍ट्रेस फ़्रैंक्‍चर के साथ जूझ रहे हैं। इससे उबरने में लंबा समय लगता है।
उन्‍होंने कहा, "जब आप दोबारा खेलना शुरू करते हो तो अपने सर्वश्रेष्‍ठ में आने में समय लगता है। इसमें मानसिक और शारीरिक दोनों ही चीज़ हैं। मैं धीरे-धीरे वहां तक पहुंचने की कोशिश कर रहा हूं।"
चाहर को पहले फ़रवरी 2022 में जांघ में चोट लगी थी और इसके बाद वह रिहैब पर गए लेकिन तभी उनकी कमर में चोट लगी। इसके बाद वह स्‍ट्रेस फ़्रैक्‍चर की वजह से छह महीनों के लिए बाहर हो गए। उन्‍होंने अगस्‍त में ज़‍िम्‍बाब्‍वे के ख़‍िलाफ़ वनडे सीरीज़ में वापसी की और दिखाया कि वह वापसी कर रहे हैं। वह टी20 विश्‍व कप टीम में रिज़र्व खिलाड़‍ियों में शामिल थे, लेकिन फ‍िर साउथ अफ़्रीका के ख़‍िलाफ़ वनडे सीरीज़ में उन्‍हें कमर में दिक्‍कत आ गई। उन्‍होंने दिसंबर में बांग्‍लादेश दौरे पर वापसी की लेकिन तीन ही ओवर करने के बाद उनको जांघ की मांसपेशियों में चोट लगी। इसके बाद वह कोई घरेलू सीज़न नहीं खेल पाए और आईपीएल में आने से पहले केवल राजस्‍थान के लिए एक रणज़ी मैच खेल पाए।
आईपीएल से पहले उन्‍होंने चोटों पर बात करते हुए पीटीआई से कहा था, "दोनों ही बड़ी चोटें थीं। आप कई महीनों से टीम से बाहर हो। जो भी लंबे समय के बाद चोट से वापसी करे उसके लिए वापसी करना मुश्किल होता है, ख़ासतौर पर एक तेज़ गेंदबाज़ के लिए। अगर मैं एक बल्‍लेबाज़ होता तो मैं बहुत पहले खेल लिया होता लेकिन एक तेज़ गेंदबाज़ शायद नहीं..."

ब्रावो के बिना चेन्नई की डेथ ओवर की मुश्किल डगर

चाहर, तुषार देशपांडे और राजवर्धन हंगारगेकर जैसे कम अनुभवी गेंदबाज़ों के साथ गेंदबाजी कर रहे हैं और इनके साथ डेथ ओवरों में गेंदबाज़ी करना चेन्नई के लिए ड्वेन ब्रावो की अनुपस्थिति में एक बड़ी कमी उजागर कर रहा है। चाहर लंबे समय से नई गेंद से स्विंग कराने वाले गेंदबाज़ के तौर पर जाने जाते हैं। उन्‍होंने कहा कि वह खेल के हर क्षेत्र में बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं।
चाहर ने कहा, "पावरप्‍ले में आप नई गेंद से गेंदबाज़ी करते हो और दो ही क्षेत्ररक्षक 30 गज़ के घेरे से बाहर रहते हैं, लेकिन स्‍लॉग ओवरों में एक पुरानी गेंद से गेंदबाज़ी करते हुए पांच क्षेत्ररक्षक 30 गज़ के घेरे के बाहर रहते हैं। मैं इसको चुनौती के तौर पर लेता हूं और अभ्‍यास भी अधिक करता हूं। पहले मैं डेथ में अधिक गेंदबाज़ी नहीं करता था क्‍योंकि विकल्‍प अधिक थे। जब से मैंने कई विविधताएं सीखी हैं जैसे यॉर्कर, नकल बॉल, धीमी बाउंसर, लेग कटर, वाइड यॉर्कर, ऑफ़ कटर तो मैं बल्‍लेबाज़ के मुताबिक प्‍लान करता हूं और पिच को देखते हुए काम करता हूं।"
सीएसके के पहले मैच में गुजरात टाइटंस के ख़‍िलाफ़ चाहर ने पावरप्‍ले में केवल दो ही ओवर किए और फ‍िर 17वां और 19वां ओवर किया जहां उन्‍होंने 29 रन देकर कोई विकेट नहीं लिया। लखनऊ सुपर जायंट्स के ख़‍िलाफ़ चेपॉक में 17वें ओवर में आने से पहले पावरप्‍ले में उन्‍होंने तीन ओवर किए। लखनऊ को तब 24 गेंद में 62 रन चाहिए थे, लेकिन उस ओवर में 18 आए और लगातार तीन वाइड जो एम एस धोनी का दिमाग़ ख़राब करने के लिए काफ़ी थीं।
सीएसके को अब अपना अगला मैच वानख़ेड़े में शनिवार को मुंबई इंडियंस के ख़‍िलाफ़ खेलना है।