मैच (15)
IND v ENG (1)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
विश्व कप लीग 2 (1)
BPL 2023 (2)
WPL (1)
PSL 2024 (2)
CWC Play-off (3)
फ़ीचर्स

MI vs CSK रिपोर्ट कार्ड : जाडेजा-सैंटनर ने गेंद से, रहाणे-ऋतुराज ने बल्ले से मुंबई को समेटा

मुंबई का नहीं खु़ला ख़ाता , चेन्‍नई को मिल गए अहम अंक

विवेक शर्मा
08-Apr-2023
रहाणे और गायकवाड़ ने सीएसके को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई  •  BCCI

रहाणे और गायकवाड़ ने सीएसके को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई  •  BCCI

चेन्नई सुपर किंग्‍स (सीएसके) ने शनिवार रात खेले गए एक अहम मुकाबले में मुंबई (एमआई) पर सात विकेट की प्रभावी जीत दर्ज की। कैसा रहा दोनों टीमों का प्रदर्शन और क्या थे मैच के अहम पहलू, एक नज़र रिपोर्ट कार्ड पर।

बल्लेबाज़ी

मुंबई इंडियंस (B)
मुंबई ने बल्लेबाज़ी में अच्छी शुरुआत की और ईशान किशन और रोहित शर्मा ने पहले चार ओवरों में 38 रन जोड़ लिए थे। इसमें रोहित के तीन चौके और एक छक्का शामिल रहा और उन्होंने 21 रन जोड़े। ईशान के कुछ बेहतरीन शाट्स भी, लेकिन इसके बाद बल्लेबाज़ कुछ ख़ास नहीं कर सके। 12वें ओवर तक 102 के स्कोर तक मुंबई के छह खिलाड़ी पवैलियन लौट चुके थे। इसके बाद टिम डेविड (31) और ऋतिक शौकीन के (18) रनों के चलते मुंबई 157 के सम्मानित टोटल तक पहुंच गई।
चेन्नई सुपर किंग्‍स (A++)
डेवन कॉन्वे के शून्य पर पवेलियन लौटने के बाद अजिंक्य रहाणे ने ज़िम्मेदारी संभाली और पूरे मैच का रुख ही पलट दिया। 8वें ओवर तक आते-आते रहाणे रुपी तूफ़ान मुंबई के हौसले ले उड़ा था। रहाणे ने बेहतरीन पारी खेलते हुए तीन छक्के औऱ सात चौको की मदद से धुआंधार 61रन बनाए। चेन्नई के लिए बचा हुआ काम ऋतुराज, शिवम दुबे और अंबाती रायुडू ने कर दिखाया। तीनों ही बल्लेबाज़ों ने प्रभावी अंदाज में बल्लेबाज़ी की और चेन्नई 19वें ओवर में ही मैच जीत गया।

गेंदबाज़ी

चेन्नई सुपर किंग्‍स (A++)
तुषार देशपांडे ने बेहतरीन गेंद से रोहित को पवेलियन भेजा। इसके बाद रवींद्र जाडेजा और मिचेल सैंटनर ने मुंबई के मध्य क्रम में लगाम लगा दी, 9वें ओवर तक 76 के स्कोर पर आधी टीम पवेलियन लौट चुकी थी। इसमें सूर्यकुमार यादव का विकेट सबसे महत्वपूर्ण रहा और धोनी रिव्यू सिस्टम यानि डीआरएस के तहत सूर्यकुमार को आउट करने में कोई चूक नहीं हुई। जाडेजा ने तीन अहम बल्लेबाज़ों किशन, कैमरन ग्रीन और तिलक वर्मा को चलता किया तो सैंटनर ने सूर्यकुमार और अरशद ख़ान को। चेन्नई की कसी हुई गेंदबाज़ी के चलते विकेट भी गिरते रहे।
मुंबई इंडियंस (B)
मुंबई के गेंदबाज़ शुरुआती विकेट लेने के बाद कुछ ज्‍़यादा नहीं कर पाए। रहाणे के बल्ले के सामने भी गेंदबाज़ों के पास कोई प्लान नहीं था और कोई ज़वाबी हमला नहीं हुआ। पीयूष चावला को क़ामयाबी मिली लेकिन आधा मैच हाथ से निकल चुका था। ऋतुराज औऱ शिवम की साझेदारी भी तोड़ने में नाक़ाम रहे और पूरी पारी में चेन्नई के बल्लेबाज़ ही हावी दिखाई दिए।

क्षेत्ररक्षण

चेन्‍नई सुपर किंग्‍स( A ++)
चेन्नई की ओर से सूर्यकुमार का अहम कैच धोनी लेग साइड में नहीं छोड़ा। वहीं जाडेजा ने एक बेहतरीन कैच किया जब बहुत तेज़ी से सीधे उनकी तरफ़ ही गेंद आई। उन्होंने यह कैच करने में कोई ग़लती नहीं की क्योंकि यह कैमरन ग्रीन जैसा अहम विकेट था। सातवें विकेट के रूप में बाउंड्री लाइन पर स्टब्स का कैच लिया तो प्रिटोरियस ने लेकिन बाउंड्री के बाहर गिरते-गिरते उन्होंने गेंद हवा में उछाल दी और गायकवाड़ ने लपक ली। दोनों के बीच बेहतरीन तालमेल दिखाई दिया। धोनी की चेतावनी के बाद इस मैच में सिर्फ़ तीन वाइड गेंद हुई। साथ ही मुंबई के बल्लेबाज़ चार छक्‍के और 15 चौके लगा पाए।
मुंबई इंडिंयस (B)
मुंबई के गेंदबाज़ों ने 14 चौके और पांच छक्के दिए। इसमें मैदानी फ़ील्डिंग के ख़ाते में 14 चौके जाते हैं लिहाज़ा सही समय पर चुस्ती दिखाई नहीं दी।
<\h2>रणनीति
चेन्नई सुपर किंग्‍स (A+)
चेन्‍नई की रणनीति और कप्तानी क़ाबिले तारीफ़ रही। कप्तान धोनी ने पहले तेज़ गेंदबाज़ाें के एंड बदले और फिर सही समय पर स्पिनर्स को लगाकर लगातार सैंटनर-जाडेजा के आठ ओवर निकालकर मुंबई के मध्य क्रम में सेंध लगा दी। कुल मिलाकर धोनी के चक्रव्यूह में मुंबई की टीम फ़ंस गई।
मुंबई (B)
मुंबई की ओर से कोई प्लान दिखाई नहीं पड़ा। बल्लेबाज़ी में सभी खिलाड़ी भी टिककर नहीं खेल सके और गेंदबाज़ी में भी विकेट लेने की कोई योजना मैदान पर नहीं दिखी। दो मैचों में दो हार के बाद मुंबई की टीम अंक तालिका में 2 अंक नहीं ले पाई है और संघर्ष करते हुए दिखाई दे रही है।