मैच (9)
SL v AFG (1)
PSL 2024 (3)
NZ v AUS (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
CWC Play-off (3)
फ़ीचर्स

99 टेस्ट के बाद महान बल्लेबाज़ों की तुलना में कहां पर खड़े हैं विराट?

100वें टेस्ट से पहले विराट कोहली के टेस्ट औसत का विश्लेषण

81 टेस्ट तक विराट कोहली का टेस्ट औसत 55.10 था। साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ अक्तूबर 2019 में पुणे में हुए अपने 81वें टेस्ट में कोहली ने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ नाबाद 254 रन की पारी खेली थी। यह टेस्ट मैचों में उनका 26वां शतक था। तब वह हर 3.1 पारियों में शतक लगाते थे।
तब पहली और एकमात्र बार उनका टेस्ट क्रिकेट में औसत 55 से अधिक हुआ था। उसके बाद से हुए 18 मैचों में उनका औसत सिर्फ़ 30.26 का रहा है और वह सिर्फ़ एक शतक बांग्लादेश के ख़िलाफ़ बना पाए हैं।
यह गिरावट इतना अधिक है कि कोहली का करियर औसत 50 से भी कम होने का ख़तरा मंडरा रहा है। उन्हें अपना 50 का औसत बरकरार रखने के लिए अपने 100वें मैच में कम से कम 38 रन बनाने होंगे।
कोहली का 99 मैच में औसत 50.39 का है। राहुल द्रविड़ का इस दौरान औसत 58.16 और सचिन तेंदुलकर का औसत 57.99 का था। वहीं जावेद मियांदाद, जैक्स कैलिस, रिकी पोंटिंग और कुमार संगकारा का भी औसत उनके 100वें मैच से पहले तक 55 से ऊपर का था।
पिछले दो सालों में कोहली का औसत तेज़ी से गिरा है। हालांकि हमें यह ध्यान रखना होगा कि कोहली उस दौर में खेल रहे हैं, जब टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाज़ों से अधिक गेंदबाज़ों का प्रभुत्व रहा है। जिन 99 टेस्ट में कोहली खेले हैं, उनमें अन्य बल्लेबाज़ों का औसत सिर्फ़ 33.82 का रहा है। द्रविड़ के 99 मैचों तक अन्य बल्लेबाज़ों का यह औसत 39.11 था, जो कि विराट की तुलना में 16% अधिक है।
कोहली ने अपने 84वें टेस्ट में अपना आख़िरी शतक बनाया था। इस दौरान वह 20 बार अपने टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ स्कोरर रहे थे। 84 टेस्ट तक उनसे अधिक बार यह कारनामा सिर्फ़ ब्रायन लारा ने किया था।
l

एस राजेश ESPNcricinfo के स्टैट्स एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के दया सागर ने किया है