मैच (17)
IPL (2)
ACC Premier Cup (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
Comment

मोंगा : रोहित शर्मा को वनडे कप्तानी सौंपना समझदारी भरा फ़ैसला

बोर्ड ने जिस प्रकार कोहली को पद से हटाया वह थोड़ा अजीब था लेकिन यह कोई नई बात नहीं है

तीन महीने पहले रोहित भारतीय टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम के कप्तान बने थे  •  Getty Images

तीन महीने पहले रोहित भारतीय टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम के कप्तान बने थे  •  Getty Images

कप्तानों के प्रति समर्पित इस विवेचना को एक छोटी सी पहेली वाली कहानी से शुरू करते हैं। मान लीजिए एक टीम का कप्तान था। उसका नाम प्लेयर 'ए' था। उसकी टीम के प्रमुख बल्लेबाज़, जो विपक्षियों को तार-तार करने की क्षमता रखता था, उसका नाम प्लेयर 'बी' था, जो एक महत्वपूर्ण मैच से पहले बाहर हो गया। मैच का परिणाम यह था कि प्लेयर ए की टीम हार गई। बाद में एक पत्रकार से पता चला कि प्लेयर ए, जो उस समय भारत के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक था, को कप्तान के पद से बर्ख़ास्त किया जा रहा है। प्लेयर ए ने उस पत्रकार से पूछा, "कप्तानी किसे दी जा रही है?" पत्रकार ने कहा कि प्लेयर बी नया कप्तान बनने जा रहा है।
हालांकि हम अभी उस तरह के साज़िशन राजपोशी के दौर तक नहीं पहुंचे हैं। हालांकि यह हमें याद दिलाता है कि हमें 2011 में एमएस धोनी पर एन श्रीनिवासन के अंध विश्वास के बहकावे में न आकर यह समझना चाहिए कि भारतीय टीम की कप्तानी हमेशा से अनिश्चित काल के लिए रहती है। जब आप इस पद पर होते हैं तो सारी ताक़त आपके पास होती हैं लेकिन यह बात भी सच है कि आपको कभी भी इस पद से हटाया जा सकता है। पहले किसी पत्रकार के ज़रिए आपको यह जानकारी मिलती थी और आज कल यह प्रेस रिलीज़ में एक छोटे से वाक्य से होने लगा है।
इस माजरे को समझने में ग़लती ना करें - इसमें साज़िश तो बहुत है। भारत ने आंकड़ों के अनुसार अपने सबसे सफल वनडे कप्तान को कप्तानी से हटाया है। उस 33 वर्षीय कप्तान को जिसने तीन महीने पहले टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद वनडे और टेस्ट में कप्तानी जारी रखने की इच्छा ज़ाहिर की थी। और तो और यह बदलाव लंबे समय के भविष्य को ध्यान में रखकर नहीं किया गया है क्योंकि नया कप्तान पुराने कप्तान से डेढ़ साल बड़ा है।
भारतीय में इससे पहले कब इस उम्र के क्रिकेटर को कप्तानी सौंपी गई थी - अनिल कुंबले को 37 साल की उम्र में कप्तानी दी गई थी। वैसे वह फ़ैसला भी दीर्घकालिक नहीं था लेकिन उसके पीछे कई तार्किक कारण भी थे। द्रविड़ के इस्तीफ़े के बाद यह नियुक्ति ज़रूरी हो गई थी और एमएस धोनी छोटे फ़ॉर्मेट के क्रिकेट में कप्तानी कर रहे थे। एक बात तय है कि अब जो हो रहा है वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के द्वारा किया गया है।
भारतीय क्रिकेट में कप्तानी में किसी भी बदलाव की पुष्टि बोर्ड अध्यक्ष द्वारा की जानी चाहिए। तो, अभी चयनकर्ता और बीसीसीआई अध्यक्ष स्पष्ट रूप से मानते हैं कि भारतीय क्रिकेट में पिछले कप्तान, जिसके तहत भारत ने हर दो मैच में हार की तुलना में पांच मैच जीते हैं और जिसके नेतृत्व में टीम दो आईसीसी टूर्नामेंटों के फ़ाइनल और सेमीफ़ाइनल में गई, से भी एक बेहतर कप्तान है।
यह भी संभव है कि चयनकर्ताओं और बीसीसीआई ने आंकड़ों के परे किसी और तरीक़े का मापदंड तैयार किया हो। टी20 विश्व कप के अलावा सभी टूर्नामेंटों में आप भारतीय टीम के स्तर को ध्यान में रखते हुए उनसे सेमीफ़ाइनल में प्रवेश करने की उम्मीद करते हैं। और विराट कोहली की कप्तानी में टीम ने बड़ी आसानी ने नॉकआउट चरण में प्रवेश किया है।
कोहली के नेतृत्व में, भारत ने अपने दो सबसे बड़े मैच-विजेताओं को यानि कि दो उंगलियों के स्पिनरों को टीम से बाहर करने का साहसिक कदम उठाया, लेकिन उन्होंने इसमें देर कर दी थी - 2017 चैंपियंस ट्रॉफ़ी में वे एकमात्र ऐसी टीम थी, जिसमें कलाई का स्पिनर नहीं था। इसके लिए कौन ज़िम्मेदार था, यह हमें कभी पता नहीं चल पाएगा।
2019 विश्व कप अधिक निराशाजनक था। 2018 की शुरुआत में, अजिंक्य रहाणे को भारत का नंबर 4 माना जाता था। हालांकि रहाणे के बारे में धोनी का आकलन था कि वह पावरप्ले और गेंद के पुराने होने के बाद संघर्ष करते हैं। उनकी जगह अंबाती रायुडू टीम में आए लेकिन विश्व कप से ठीक पहले एक साधारण सीरीज़ के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। विश्व कप के दौरान, भारतीय टीम में एक बैक-अप ऑलराउंडर था, जिसके पास वनडे मैच में पारी को एंकर करने का कोई पूर्व अनुभव नहीं था। साथ ही टीम में एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ था, जो पहली पसंद नहीं था। टीम के भाग्य ने उसका साथ नहीं दिया और एक अहम मैच में सारी ज़िम्मेदारी इस मध्यक्रम पर आ गई।
बेशक़ चयनकर्ताओं और बीसीसीआई को इस तरह का कोई स्पष्टीकरण देने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि कोहली ने पहले ही टी20 की कप्तानी छोड़कर अपने भाग्य का फै़सला कर लिया था। यह सही निर्णय है कि एक व्यक्ति ही सीमित ओवरों की टीम का नेतृत्व करे। टी20 प्रारूप में कोहली की कप्तानी शक़ के दायरे में थी। आईपीएल में बतौर कप्तान उनका रिकॉर्ड कुछ ख़ास नहीं था और टीम इंडिया में खिलाड़ियों की भूमिकाएं स्पष्ट नहीं थी। रोहित की टीम में अपने खिलाड़ियों के लिए स्पष्ट भूमिकाएं और योजनाएं हैं और वह डेटा का भी इस्तेमाल करते हैं। कोहली भावनाओं पर चलते हैं जबकि रोहित भावनाओं को जगह ही नहीं देते हैं।
अगर इस फ़ैसले के पीछे यही तर्क थे तो 2019 के बाद इस फै़सले को लेने में बीसीसीआई को ढाई साल क्यों लगे? कोहली के बल्ले का ना चलना शायद इस फ़ैसले के पीछे का कारण हो सकता है। जो युवराज सिंह के इस विज्ञापन में कहे गए बात को कहीं ना कही सही ठहराता है। "जब तक बल्ला चल रहा है दुनिया आपकी है।" जब 2017 में धोनी का बल्ला नहीं चल रहा था तो उनके साथ भी ऐसे ही हालात थे लेकिन तब धोनी ख़ुद अपने पद से हट गए और कोहली के साथ जब ऐसा हुआ तो उन्हें अपनी वनडे कप्तानी पर भरोसा था, खुद पर भरोसा था और उन्होंने इस पद को छोड़ने से इंकार कर दिया।
यह कभी आसान नहीं होता है। हालांकि यह बात साफ़ है कि कोहली कप्तानी नहीं छोड़ना चाहते थे, जिसके कारण टीम के नए कप्तान को कप्तानी करने में थोड़ी असहजता हो सकती है। यह महत्वाकांक्षी खिलाड़ी हैं बिना किसी आत्म-संदेह के यहां तक पहुंचे हैं। टीम के माहौल की सफलता जिस पर कोहली को गर्व है, वह इस बात पर निर्भर करेगा कि वे यहां से कितनी परिपक्वता के साथ आगे बढ़ते हैं। हां, हम एक-दूसरे की महत्वाकांक्षाओं का सम्मान करते हैं, अब मामला बस इतने तक है कि इस स्थिति को संभालने के लिए हम कितने परिपक्व हैं।
कोच राहुल द्रविड़ इससे पहले भी इसी तरह की परिस्थिति में रह चुके हैं जब बीसीसीआई ने आख़िरी बार भारतीय कप्तान को बर्ख़ास्त किया था। हालांकि इस बार मामला थोड़ा सा अलग है। टेस्ट कप्तानी अभी भी कोहली के पास है। कोहली के पास अभी भी शानदार रिकॉर्ड और फिटनेस है। कप्तान कोहली ने अतीत में एक बल्लेबाज़ के रूप में रोहित शर्मा का काफ़ी समर्थन किया है; कोई संदेह नहीं है कि कोहली जब एक बल्लेबाज़ के तौर पर टीम में रहेंगे तो रोहित भी उनका समर्थन करेंगे।
सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि भारत सभी प्रारूपों में एक बेहद सफल टीम है, भले ही वह टी 20 विश्व कप से सुपर 12 में बाहर हो गया हों। यह भी महत्वपूर्ण यह है कि रोहित को पर्याप्त मैच और समय मिले ताकि वह 2023 विश्व कप के लिए एक मज़बूत टीम बना सके।
फिर भी यह एक ऐसा परिवर्तन है जिसे सही तरीक़े से संभालने की ज़रूरत है और द्रविड़, कोहली और रोहित इसे पार पा सकते हैं।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।