मैच (6)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
Pakistan vs New Zealand (1)
IRE-W vs THAI-W (1)
SA v SL (W) (1)
फ़ीचर्स

लेंगवेल्ट का विश्वास कि डॉट गेंदों के प्रभाव से साउथ अफ़्रीका जीत सकता है सीरीज़

टीम के गेंदबाज़ी कोच ने यह नहीं बताया कि क्या ओल्ड ट्रैफ़र्ड की तरह दो स्पिनर खिलाएगा मेहमान

लंबे आराम के बाद तीसरा टेस्‍ट खेलेगी साउथ अफ्रीका टीम  •  AFP/Getty Images

लंबे आराम के बाद तीसरा टेस्‍ट खेलेगी साउथ अफ्रीका टीम  •  AFP/Getty Images

इंग्लैंड और साउथ अफ़्रीका के बीच टेस्ट सीरीज़ के दौरान तीसरे और अंतिम टेस्ट से पहले लंबे अवकाश में मेहमान ख़ेमे में कुछ गॉल्फ़ खेला गया। सौभाग्य की बात है कोई चोट नहीं लगी। और अब गेंदबाज़ी कोच चार्ल लेंगवेल्ट के शब्दों में "कोच और खिलाड़ियों के लिए एक लंबे दौरे" के अंत तक टीम का पहला लक्ष्य था गेम से पूरी तरह से ध्यान हटाए रखना।
यह दौरा लगभग हर तरह से बराबरी का रहा है, चाहे बात परिणाम की (दोनों ने एक-एक वनडे जीता, फिर एक-एक टी20 जीतने के बाद साउथ अफ़्रीका ने निर्णायक मैच जीता, और दोनों टीमों के हाथ लगी एक-एक पारी की जीत) हो या खिलाड़ियों के परेशानियों की (रासी वान दर दुसें तीसरा टेस्ट मिस करेंगे और उंगली के विशेषज्ञ से मिलेंगे तो जॉनी बेयरस्टो को टखने के विशेषज्ञ के पास जाना पड़ेगा) और खेल की शैली भी (यह बात मानते हुए कि दोनों टीमों के गेंदबाज़ी क्रम में ख़ासा फ़र्क़ नहीं लेकिन इंग्लैंड का मध्यक्रम कहीं बेहतर ज़रूर है) और अब दोनों के बीच बस एक मुक़ाबला बचता है। लेंगवेल्ट के हिसाब से जीत का मंत्र आसान है: रन बनाओ और गुच्छों में विकेट ले लो।
उन्होंने ओल्ड ट्रैफ़र्ड टेस्ट की ग़लतियों के बारे में लगभग कप्तान डीन एल्गर की बातों को दोहराते हुए कहा, "अगर आप पर्याप्त रन नहीं बनाते तो आप टेस्ट नहीं जीत पाएंगे। गेंद के साथ भी हमने अच्छे स्पेल डाले लेकिन दोनों छोरों से दबाव बरक़रार नहीं कर सके। कभी कभी आप दो ख़राब गेंद डालकर पूरे दबाव को हटा देते हैं। अगर हम इसमें सुधार लाएंगे तो उन्हें सस्ते में निपटा कर दोबारा आउट कर देंगे। कहना आसान है, करना मुश्किल। जब हम बोर्ड पर रन बना लेते हैं तो हमारे पास वह गेंदबाज़ी है कि हम उन पर दबाव डाल सकें। हम मानते हैं कि 18 लगातार डॉट गेंदें एक विकेट लाती हैं।"
वास्तव में साउथ अफ़्रीका ने सीरीज़ में 18 लगातार डॉट बॉल डाले ही नहीं। एक साथ सर्वाधिक डॉट गेंदें उनके द्वारा 15 रहीं हैं और उस के बाद कोई विकेट नहीं आया था। एक विकेट से पहले सर्वाधिक डॉट गेंदें सात थी, जब मार्को यांसन ने जेम्स एंडरसन को आउट करके पहले टेस्ट की समाप्ति की थी।
लेंगवेल्ट स्कोरिंग को रोकने की बात करते हुए बोले, "अगर एक छोर से कोई ज़बरदस्त गेंदबाज़ी कर रहा है और दूसरे छोर पर एक आसान बाउंड्री लग जाए तो क्या फ़ायदा। आप अगर 18 गेंदें एक अच्छी जगह पर डालते हैं तो आप बल्लेबाज़ से कड़े सवाल पूछ रहे हैं और आपको इसका इनाम मिलेगा।"
साउथ अफ़्रीका ने सीरीज़ में औसतन हर 15.5 गेंदों में बाउंड्री लगने दी है, जबकि यही आंकड़ा इंग्लैंड के गेंदबाज़ों के लिए औसतन 20.9 गेंदें है। लेकिन जब साउथ अफ़्रीकी गेंदबाज़ इस पर नियंत्रण रखते हैं तो उन्हें विकेट मिलता है। इस सीरीज़ में इंग्लैंड के 30 विकेटों में से 13 विकेट तब आए हैं जब कम-से-कम दो ओवर तक उनसे बाउंड्री नहीं लगे हैं।
नियंत्रण बनाए रखने में लुंगी एनगीडी की गेंदबाज़ी कारगर रही है। उनकी 2.93 की सीरीज़ इकॉनमी रेट साउथ अफ़्रीका के सारे गेंदबाज़ों में सबसे कम है और उन्होंने सबसे कम बाउंड्री भी खाए हैं - 180 गेंदों में 10, यानी हर 18 गेंदों पर एक बाउंड्री। उनकी गति भी 140 किमी प्रति घंटा पर रहती है।
लेंगवेल्ट ने कहा, "लुंगी ने अपनी गति और फ़िटनेस से मुझे ख़ासा प्रभावित किया है। जब वह आईपीएल गए तो मैंने बस कहा कि आप फ़िटनेस पर काम करिए और कोशिश कीजिए कि आपका एक्शन आसानी से दोहराया जाए। उन्होंने ड्वेन ब्रावो के साथ धीमी गेंद पर काम किया है और साथ ही वाइड यॉर्कर, सीधी यॉर्कर और धीमी बाउंसर पर काफ़ी काम किया है।"
एनगीडी के लगातार विकास के चलते उन्हें दूसरे टेस्ट में यांसन के आगे चुना गया। उस मैच में साउथ अफ़्रीका प्रबंधन ने स्पिन की उम्मीद रखते हुए दो विशेषज्ञ स्पिनरों को टीम में शामिल किया लेकिन तीसरे टेस्ट से पहले पिच पर घास और मौसम को देखते हुए आख़िरी टेस्ट में चार तेज़ गेंदबाज़ लौट सकते हैं। रविवार को चारों गेंदबाज़, और वान दर दुसें की जगह लेने वाले वियान मुल्डर, पूरी ज़ोर के साथ प्रशिक्षण करते दिखे। वैसे तो लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स के नेट्स पर वह शनिवार को ही लौट चुके थे लेकिन सोमवार को आराम के बाद तीसरे टेस्ट की पूरी तैयारी मंगलवार से ही शुरू की जाएगी। इस रोमांचक दौरे का आख़िरी मुक़ाबला जो अपने नाम करना है।

फ़‍िरदौस मूंडा ESPNcricinfo में साउथ अफ़्रीका की संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo में स्‍थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।