मैच (6)
ज़िम्बाब्वे बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
एसए20 (2)
आईएलटी20 (1)
सुपर स्मैश (1)
सुपर स्मैश (W) (1)
ख़बरें

रोहित शर्मा ने एक बार फिर किया विराट कोहली का समर्थन

"उनके जैसे खिलाड़ी को वापसी करने के लिए एक-या दो पारियों की आवश्यकता होती है"

एक बार फिर विराट कोहली अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए  •  AFP via Getty Images

एक बार फिर विराट कोहली अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए  •  AFP via Getty Images

क्यों हो रहा है यार, मुझे समझ में नहीं आता, भाई।
एक पत्रकार द्वारा विराट कोहली पर सवाल उठाए जाने के बाद भारतीय कप्तान रोहित शर्मा की यह प्रतिक्रिया थी।
पिछले कुछ वर्षों में कोहली का फ़ॉर्म राष्ट्रीय चिंतन का विषय बन गया है। पूर्व कप्तान कपिल देव सहित कई लोगों को आश्चर्य हो रहा है कि उन्हें ड्रॉप क्यों नहीं किया जा रहा है। यह चर्चा जारी रहेगी क्योंकि गुरुवार को कोहली एक और अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए और ऐसी गेंद को खेलने के प्रयास में आउट हुए जिसे छोड़ा जा सकता था। उन्होंने लॉर्ड्स में 16 रन बनाए
पीठ में खिंचाव के कारण पहले वनडे से बाहर रहने के बाद कोहली ने मैच से पहले बल्लेबाज़ी के अभ्यास सत्र में हिस्सा लिया। सहज महसूस करने के बाद उन्होंने राहुल द्रविड़ को इशारा किया कि वह खेलने के लिए तैयार हैं। हालांकि उनके मन में कई बातें चल रही होगी। लॉर्ड्स में भारतीय टीम के आगमन से एक घंटा पहले बीसीसीआई ने वेस्टइंडीज़ दौरे पर होने वाली टी20 सीरीज़ के लिए टीम इंडिया की घोषणा की जिसमें उनका नाम नहीं था। यह नहीं साफ़ किया गया कि कोहली को आराम दिया गया है या उन्हें ड्रॉप किया गया है।
कोहली तीसरे ओवर में क्रीज़ पर आए। स्ट्रेट ड्राइव के चौके के साथ उन्होंने अपना खाता खोला। फ़ुल गेंद का आभास करते हुए उन्होंने पैर आगे बढ़ाया और बल्ले का पूरा चेहरा दिखाते हुए गेंद को सीमा रेखा की ओर भेजा। पिछली सात गेंदों में उन्होंने लेग बाई के एक रन के अलावा एक मेडन ओवर खेला था। डेविड विली के उस ओवर की पहली गेंद पर कोहली ऑफ़ स्टंप से बाहर जा रही गेंद को शरीर से दूर खेलने चले गए और बाहरी किनारे पर बीट हुए। हालांकि थोड़ी देर बाद उन्होंने ठीस उसी गेंदबाज़ की वैसी ही गेंद पर अपनी ग़लती दोहराई और कैच आउट हो गए।
यह पूछे जाने पर कि क्या कोहली को इस कठिन दौर में टीम के समर्थन की ज़रूरत है या क्या उन्हें इस तरह के एक सफल करियर के दम पर अकेला छोड़ दिया जाना चाहिए, रोहित ने महसूस किया कि इस विषय में बहस की कोई आवश्यकता ही नहीं है।
मीडिया से बातचीत के दौरान भारतीय कप्तान ने कहा, "उन्होंने (कोहली ने) कई मैच खेले हैं। वह इतने वर्षों से खेलते आ रहे हैं। वह एक बढ़िया बल्लेबाज़ हैं जिन्हें आश्वासन की आवश्यकता नहीं है। मैंने अपनी पिछली प्रेस कॉन्फ़्रेंस में भी कहा था कि फ़ॉर्म ऊपर-नीचे होता रहता है और यह एक क्रिकेटर के जीवन का भाग है। इसलिए उनके जैसे खिलाड़ी, जो इतने लंबे समय से खेलता आ रहा है, जिसने इतने रन बनाए हैं और इतने सारे मैच जिताए हैं, उसे (वापसी करने के लिए) केवल एक या दो पारियों की ज़रूरत है। यह मेरी सोच है और मुझे उम्मीद है कि क्रिकेट के समर्थक भी ऐसा ही सोचेंगे।"
इस इंग्लैंड दौरे पर यह दूसरा मौक़ा है जब रोहित ने सार्वजनिक रूप से कोहली का समर्थन किया हैं। रोहित ने स्वीकार किया कि कोहली ख़राब दौर से गुज़र रहे हैं लेकिन उन्होंने कहा कि टीम प्रबंधन को अब भी उन पर पूरा भरोसा है।
रोहित ने कहा, "हम इस विषय पर बात करते हैं लेकिन हमें इस दौरान सोच-समझकर बात करनी चाहिए। हमने हर खिलाड़ी के प्रदर्शन में उतार-चढ़ाव देखे हैं लेकिन उसकी गुणवत्ता कभी कम नहीं होती। हमें यह महत्वपूर्ण बात ध्यान में रखनी चाहिए। यार, मतलब बंदे ने इतने रन बनाए हैं, उसकी औसत देखो, उसने बनाए गए शतक देखो, उसे इन सब चीज़ों का अनुभव है। हर खिलाड़ी के जीवन में ख़राब दौर आता है, फिर चाहे वह निजी जीवन में ही क्यों ना हो।"
केवल रोहित ही नहीं बल्कि विपक्षी कप्तान जॉस बटलर को भी लगता है कि कोहली के बल्ले से बड़ी पारी जल्द ही आने वाली है।
बटलर ने कहा, "यह एक तरह से हम सभी खिलाड़ियों के लिए अच्छा है कि वह (कोहली) भी मनुष्य है और उनके भी कम स्कोर बन सकते हैं। हालांकि वह वनडे क्रिकेट में विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी नहीं तो सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं।"
उन्होंने आगे कहा, "वह इतने वर्षों से एक बढ़िया खिलाड़ी रहे हैं और यह दर्शाता है कि सभी बल्लेबाज़ उस दौर से गुज़रते हैं जहां प्रदर्शन उम्मीदानुसार नहीं हो पाता है। हालांकि विपक्षी टीम का कप्तान होने के नाते आपको पता होता है कि ऐसे खिलाड़ी से बड़ा स्कोर जल्द ही आएगा। इसलिए आप उम्मीद करते हैं कि वह आपके ख़िलाफ़ ना आए।"
रोहित की तरह बटलर भी अंचंभित है कि क्यों भारत में कोहली के फ़ॉर्म पर सवाल उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा, "मुझे आश्चर्य होता है क्योंकि उनका रिकॉर्ड अविश्वसनीय है। उन्होंने भारत को इतने मैच जिताए हैं तो आप क्यों उन पर सवाल उठाएंगे?"

नागराज गोलापुड़ी ESPNcricinfo में न्यूज़ एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।