मैच (15)
WPL (1)
IND v ENG (1)
PSL 2024 (2)
Nepal Tri-Nation (1)
BPL 2023 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
CWC Play-off (3)
Durham in ZIM (1)
फ़ीचर्स

क्या टी20 की सफलता को वनडे में भी दोहरा पाएंगे सूर्यकुमार यादव?

राहुल और इशान में विकेटकीपर कौन, एकादश में कितने हरफ़नमौला खेलेंगे?

क्या टी20 की सफलता को वनडे में भी दोहरा पाएंगे सूर्यकुमार यादव?  •  Associated Press

क्या टी20 की सफलता को वनडे में भी दोहरा पाएंगे सूर्यकुमार यादव?  •  Associated Press

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी पर क़ब्ज़ा जमाने के बाद भारतीय टीम की नज़रें अब वनडे सीरीज़ पर होंगी। यह सीरीज़ और महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि इसी साल भारत में अक्तूबर और नवंबर में वनडे विश्व कप खेला जाना है और सर्वश्रेष्ठ संयोजन तय करने के लिए हर मैच और सीरीज़ ज़रूरी हो जाता है।
श्रीलंका और न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ में नहीं हिस्सा लेने वाले रवींद्र जाडेजा और केएल राहुल की टीम में वापसी हो रही है। वहीं श्रेयस अय्यर, जसप्रीत बुमराह और ऋषभ पंत अलग-अलग चोटों के कारण टीम से बाहर हैं और उनकी निकट वापसी की कोई तारीख़ तय नहीं है।
कुछ सवाल, जिनका इस सीरीज़ में जवाब मिल सकता है:

श्रेयस की अनुपस्थिति में सूर्यकुमार यादव के लिए बेहतरीन मौक़ा?

श्रेयस ने हाल के सालों में नंबर चार पर बेहतरीन प्रदर्शन किया है। उन्होंने पिछली 20 वनडे पारियों में 47.35 की औसत से दो शतकों और पांच अर्धशतकों की मदद से 805 रन बनाए हैं। हालांकि इस दौरान वह चोटों से भी बहुत ज़्यादा प्रभावित रहे हैं। पीठ में दर्द के कारण वह न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ में हिस्सा नहीं ले पाए थे और अब वह ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ सीरीज़ से भी उसी समस्या के कारण बाहर हो गए हैं।
श्रेयस की अनुपस्थिति उनके मुंबईकर साथी सूर्यकुमार यादव के लिए एक बड़ा मौक़ा हो सकता है। वह न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ दो वनडे मैचों का हिस्सा थे और उन्होंने 31 और 14 का स्कोर बनाया था। हालांकि वह अपनी टी20 फ़ॉर्म को वनडे में बरकरार नहीं रख सके। 50 ओवर की क्रिकेट की 18 पारियों में सूर्यकुमार का औसत सिर्फ़ 28.86 है और उनके नाम सिर्फ़ दो अर्धशतक है। इसलिए यह तीन वनडे सूर्यकुमार के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है।

इशान किशन क्या रिज़र्व ओपनर हैं?

सूर्यकुमार की मध्यक्रम में जगह के लिए लड़ाई इशान किशन और राहुल के साथ हो सकता है। न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ सीरीज़ में इशान मध्यक्रम में खेले थे, लेकिन सफल नहीं हुए थे।
बांग्लादेश में दोहरा शतक लगाने के बाद लग रहा था कि वह कप्तान रोहित शर्मा के साथ भारत के पहले ओपनर विकल्प हैं, लेकिन शुभमन गिल ने अपने प्रदर्शन से किसी के लिए कोई मौक़ा नहीं छोड़ा है। गिल ने पिछली छह वनडे पारियों में 70, 21, 116, 208, 40* और 112 का स्कोर बनाया है।
पहले वनडे में रोहित की अनुपस्थिति के कारण हो सकता है कि इशान, शुभमन के साथ ओपनिंग करते हुए दिखे। लेकिन रोहित की वापसी के बाद वह शायद टीम के रिज़र्व ओपनर ही रहेंगे। इसका कारण इशान का हालिया फ़ॉर्म भी हो सकता है। चटगांव में दोहरा शतक बनाने के बाद उन्होंने नौ पारियों में सिर्फ़ 37 का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाया है। किशन के पक्ष में सिर्फ़ एक चीज़ है कि वह बाएं हाथ के बल्लेबाज़ हैं और शिखर धवन और पंत की अनुपस्थिति के कारण टीम में बाएं हाथ के शीर्षक्रम विकल्प उपलब्ध नहीं हैं।

केएल राहुल- पंत की अनुपस्थिति में विकेटकीपिंग के पहले विकल्प?

नंबर पांच पर राहुल ने 16 वनडे पारियों में बल्लेबाज़ी करते हुए 50 से ऊपर की औसत और 100 से ऊपर के स्ट्राइक रेट के साथ 658 रन बनाए हैं। इसमें एक शतक और छह अर्धशतक शामिल है। टेस्ट क्रिकेट में अपनी जगह खोने के बाद राहुल के पास वनडे क्रिकेट में जगह बनाने का यह आख़िरी मौक़ा हो सकता है।

ऑलराउंडर्स कौन होंगे?

भारत के पास इस समय उपकप्तान हार्दिक पंड्या, जाडेजा, वॉशिंगटन सुंदर, शार्दुल ठाकुर और अक्षर पटेल सहित पांच ऑलराउंड विकल्प है। अगर बल्लेबाज़ी गहरी करने के लिए भारत इनमें से दो स्पिन और एक तेज़ गेंदबाज़ी ऑलराउंड विकल्प के साथ जाता है तो कुल तीन ही विशेषज्ञ गेंदबाज़ खेल सकते हैं। ऐसे में तेज़ गेंदबाज़ी और स्पिनरों का क्या संतुलन होगा, यह देखने वाली बात होगी। वैसे भी कुलदीप यादव और युज़वेंद्र चहल में से कोई एक ही कलाई का स्पिनर टीम में जगह बना पाएगा। तेज़ गेंदबाज़ी में मोहम्मद शमी, मोहम्मद सिराज, उमरान मलिक और बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ी विकल्प जयदेव उनादकट के बीच टक्कर होगी।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं