मैच (11)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
आईएलटी20 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
बीबीएल (1)
एसए20 (1)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
ख़बरें

पंत: मेरे आंकड़ों का हिसाब तब किया जाए जब मैं 30-32 साल का हो जाऊंगा

भारतीय विकेटकीपर का कहना है कि वह टी20 में ओपनिंग करना चाहते हैं जबकि वनडे और टेस्ट में वह मध्यक्रम में बल्लेबाज़ी करना चाहते हैं

पंत ने कहा है कि अभी किसी भी तरह की आंकड़ों की तुलना करना मेरे जीवन का हिस्सा नहीं है  •  Getty Images

पंत ने कहा है कि अभी किसी भी तरह की आंकड़ों की तुलना करना मेरे जीवन का हिस्सा नहीं है  •  Getty Images

ऋषभ पंत ने कहा है कि वह वनडे और टेस्ट में मध्यक्रम में बल्लेबाज़ी जारी रखते हुए टी20 में ओपनिंग करना पसंद करेंगे। क्राइस्टचर्च में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ तीसरा वनडे शुरू होने से पहले बोलते हुए, पंत ने कहा कि वह अभी केवल 25 वर्ष के हैं। साथ ही टेस्ट, वनडे और टी20 में उनके आंकड़ों की तुलना तब की जाए, जब वह 30-32 साल के हो जाएं। उससे पहले ऐसी तुलनाओं का "कोई तर्क नहीं" है।
पंत ने प्राइम वीडियो पर हर्षा भोगले से कहा, "मैं टी20 में ओपनिंग करना चाहता हूं, वनडे में नंबर 4-5 नम्बर पर और टेस्ट में मैं पहले से ही नंबर 5 पर बल्लेबाज़ी कर रहा हूं।"
इसके बाद भोगले ने पंत से पूछा कि टेस्ट क्रिकेट में उनके आंकड़े इतने अच्छे कैसे हैं जबकि वह एक सफ़ेद गेंद के खिलाड़ी के रूप में भारतीय क्रिकेट में उभरे थे। इस संदर्भ में पंत ने जवाब दिया, "रिकॉर्ड सिर्फ़ एक नंबर है। मेरा सफ़ेद गेंद की क्रिकेट में भी रिकॉर्ड भी ख़राब नहीं है।" जब भोगले ने कहा कि वह केवल पंत के टेस्ट और सफ़ेद गेंद के रिकॉर्ड की तुलना कर रहे हैं, तो पंत ने कहा, "तुलना मेरे जीवन का हिस्सा नहीं है, मैं अभी सिर्फ़ 24-25 साल का हूं। इसलिए जब मैं 30-32 का हो जाऊं तो आप तुलना कर सकते हैं। अभी तुलना करने में कोई तर्क नहीं है।"
पंत ने फ़रवरी 2017 में टी20 अंतर्राष्ट्रीय में पदार्पण किया था। इसके बाद 2018 के अगस्त महीने में टेस्ट की शुरुआत की और दो महीने बाद अक्टूबर में वनडे की शुरुआत की। पंत के शॉट्स को देखा जाए तो वह कई बार अपरंपरागत शॉट्स खेलते हैं, जिससे यह दिखता है कि वह सफ़ेद गेंद की क्रिकेट के बल्लेबाज़ हैं। इसके बावजूद ऐसा लगता है कि फ़िलहाल वह भारत के वनडे और टी20 टीम से कहीं ज़्यादा टेस्ट टीम में चयनित होने के लिए उपयुक्त हैं।
हाल के टी20 विश्व कप में दिनेश कार्तिक को पहले चार मैचों में पंत से पहले जगह दी गई। इसके बाद पंत को मुख्य रूप से मध्यक्रम में बल्लेबाज़ी करने के लिए टीम में लाया गया था क्योंकि भारत को उस पोज़िशन पर एक बाएं हाथ का बल्लेबाज़ चाहिए था। हालांकि पंत ने सेमीफ़ाइनल में ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ केवल तीन और इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सिर्फ़ छह रन बनाए थे। न्यूज़ीलैंड में टी20 में पंत ने ओपनिंग की लेकिन पहला गेम धुल जाने के बाद दूसरे और तीसरे मैच में 6 और 11 का स्कोर बनाया।
मौजूदा वनडे मैचों में वह टी20 की तरह ही उप-कप्तान हैं। इस दौरान दो बार वह पुल शॉट लगाने के चक्कर में आउट हुए। उन्होंने पहले एकदिवसीय मैच में 23 गेंदों पर 15 रन बनाए और बुधवार को तीसरे एकदिवसीय मैच में वह 16 गेंदों में सिर्फ़ 10 रन पर बनाने में सफल रहे।
पंत ने पहले कहा था कि वह वनडे में ज़्यादा पूर्वचिंतन नहीं करते क्योंकि इसकी ज़रूरत नहीं है।
उन्होंने कहा, "यह (पूर्व चिंतन) अधिकतर टी20 में होता है, व्हाइट-बॉल क्रिकेट में ऐसा नहीं होता। वनडे क्रिकेट में पूर्वचिंतन करने की कोई आवश्यकता नहीं है लेकिन टी20 में आपको यह करना पड़ता है।"
पंत का 31 टेस्ट मैचों में पांच शतकों की मदद से 43.32 का औसत है, जिनमें से चार शतक एशिया के बाहर और केवल एक भारत में आया है। वनडे मैचों में भी वह मध्य क्रम का हिस्सा रहे हैं। ख़ासकर 2019 विश्व कप के बाद से उन्होंने 17 पारियों में 638 रन बनाते हुए लगभग 40 की औसत से 110.76 की स्ट्राइक से एक शतक और पांच अर्धशतक बनाए हैं।