मैच (10)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
बीबीएल (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
एसए20 (1)
आईएलटी20 (1)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
फ़ीचर्स

2023 विश्‍व कप में कैसी दिखेगी भारतीय टीम?

अंतिम 15 के कई दावेदार हैं, लेकिन मेज़बानों के लिए चुनौती अभी और टूर्नामेंट में सही संयोजन बैठाना है

Tभारत की वनडे विश्‍व कप की तैयारी शुरू हो चुकी है  •  Associated Press

Tभारत की वनडे विश्‍व कप की तैयारी शुरू हो चुकी है  •  Associated Press

आधुनिक क्रिकेट के शेड्यूल को देखते हुए भारत के असफल टी20 विश्‍व कप अभियान का रिव्‍यू भी बहुत कम ही देखने को मिला और अब अगले साल अक्‍तूबर और नवंबर में घर में होने वाला वनडे विश्‍व कप सिर पर है। भारतीय टीम वैसे अभी 2023 वनडे विश्‍व कप के रास्‍ते पर नहीं है, उनके पास अभी राष्‍ट्रीय चयनकर्ता नहीं हैं, जब वे आएंगे तो टीम प्रबंधन के साथ बातचीत कर तैयारियां शुरू होंगी। हालांकि विश्‍व कप से पहले भारत जो 21 वनडे खेलेगा उसमें से तीन की शुरुआत शुक्रवार से न्‍यूज़ीलैंड में हो रही है और पिछले तीन सालों से नंबर तीन पर रखे गए इस प्रारूप में जल्‍द से जल्‍द ढलना होगा।
भारत ने 2019 विश्‍व कप से 39 वनडे खेले हैं और चोट या कार्य प्रबंधन की वजह से केवल छह ही खिलाड़ी 20 या उससे ज्‍़यादा मैच खेल पाए हैं। रोहित शर्मा, ऋषभ पंत, युज़वेंद्र चहल और रवींद्र जाडेजा ने 18-18 मैच खेले हैं, हार्दिक पंड्या ने 12 खेले हैं। इस दौरान भारत ने 44 खिलाड़‍ियों का खिलाया।
यह बताने के लिए काफ़ी है कि भारत की विश्‍व कप की तैयारी अभी पूरी नहीं हुई है। वहीं कई सारे नए विकल्‍प आए हैं। बहुत जल्‍द हमें साफ़ तस्‍वीर दिखेगी कि टीम कहां जा रही है लेकिन चयनकर्ताओं के लिए यह आसान नहीं होने वाला है। आइए एक नज़र डालते हैं कि विश्‍व कप की 15 सदस्‍यीय टीम में कौन दावेदार हो सकते हैं।

शीर्ष क्रम

वनडे में शीर्ष क्रम भारत की ताक़त रहा है लेकिन टी20 की तरह अब यह डिबेट होने लगी है कि भारत को शुरुआत से ही आक्रमण की दरकार है। वे इस पर तीन साल से काम कर रहे हैं, जो दिखाता है कि पावरप्‍ले में भारत इंग्‍लैंड के बाद दूसरा सबसे तेज़ शुरुआत करता है। यहां देखिए कि जिन 11 मैच में रोहित शर्मा, शिखर धवन और विराट कोहली तीनों खेले हैं, वहां भारत का पावरप्‍ले रन रेट 5.41 से 4.97 का हो गया है।
आने वाले महीनों में भारत को निजी और टेंपो बनाने की ज़रूरत होगी कि वे कैसे जाना चाहते हैं। इसको ध्‍यान में रखते हुए यहां कुछ शीर्ष क्रम के दावेदार हैं और ये नंबर उनके 2019 वनडे विश्‍व के बाद से हैं।
पारी - 29, रन - 1192, औसत - 46, स्‍ट्राइक रेट - 83
धवन ने इस दौरान किसी भी भारतीय खिलाड़ी से ज्‍़यादा वनडे खेले हैं। भारत शीर्ष क्रम पर बायें हाथ का विकल्‍प मिलने के कारण उनके साथ जा सकता है।
पारी - 17, रन 718, औसत 45, स्‍ट्राइक रेट 96
वनडे के बेहतरीन खिलाड़‍ियों में से एक और कप्‍तान भी। रोहित अब पिछले तीन सालों में टी20 में बने फ़ोकस को हटाकर वनडे में ध्‍यान लगाने की सोचेंगे।
पारी 24, रन 1042, औसत 45, स्‍ट्राइक रेट 91
एक और वनडे के बेहतरीन खिलाड़‍ियों से एक विराट अब फ़ॉर्म में आ गए हैं और वह वनडे में भी रिदम में लौटने की सोचेंगे।
पारी- 10, रन 563, औसत 70, स्‍ट्राइक रेट 106
गिल स्‍पष्‍ट रुप से कोहली के उत्तराधिकारी हैं लेकिन कोहली के रहते हुए भी उन्हें टीम में बाहर रखना नामुमकिन बनता जा रहा है। वे अन्य खिलाड़ियों को भी अपने फ़ॉर्म को बरकरार रखने पर मजबूर करेंगे।
अन्‍य विकल्‍प : पृथ्‍वी शॉ और इशान किशन

मध्‍य क्रम

भारत 2019 विश्‍व कप की कहानी को नहीं दोहराना चाहेगा, जहां वे कमज़ोर मध्‍य क्रम के साथ गए और सेमीफ़ाइनल में मध्‍य क्रम की पोल खुल गई और भारत यह मैच हार गया। जिन विकल्‍पों को इस दौरान आज़माया गया है उनमें श्रेयस अय्यर, केएल राहुल और ऋषभ पंत से अच्‍छे परिणाम मिले हैं। हार्दिक पंड्या की तो जगह बनती ही है क्‍योंकि वह हर मैच में आपको पांच ओवर का विकल्‍प देते हैं। तो चलिए और जानकारी के साथ मध्‍य क्रम के दावेदारों के बारे में बताते हैं।
पारी 11, रन 603, औसत 67, स्‍ट्राइक रेट 109
राहुल ने विश्‍व कप के बाद से जो 22 मैच खेले हैं, उनमें 10 में वह शीर्ष क्रम पर उतरे हैं लेकिन परिणाम अच्‍छे नहीं रहे, मध्‍य क्रम में राहुल शानदार रहे हैं।
पारी 22, रन 928, औसत 49, स्ट्राइकरेट 99
छोटी गेंद से दिक़्क़त को छोड़ दिया जाए तो श्रेयस ने लंबी बल्‍लेबाज़ी करने और तेज़ी से रन बनाने की क़ाबिलियत दिखाई है। वह मध्‍य ओवरों में स्पिनरों को सेटल नहीं होने देते हैं।
पारी 15, रन 613, औसत 44, स्‍ट्राइक रेट 114
वह वनडे में अपना थोड़ा समय लेते हैं और एक बार जब वह ऐसा कर लेते हैं तो ख़तरनाक हो जाते हैं।
पारी 10, रन 429, औसत 48, स्‍ट्राइक रेट 116
ऑस्‍ट्रेलिया में 2020-21 में उन्‍होंने सिर्फ़ बल्‍लेबाज़ी करके अपनी क़ाबिलियत दिखाई थी। उनकी गेंदबाज़ी तो बोनस है ही।
पारी 12, रन 340, औसत 34, स्‍ट्राइक रेट 99
टी20 में उनकी शानदार फ़ॉर्म को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है, लेकिन इन सभी को आप एक साथ कैसे फ़‍िट करेंगे?
अन्‍य दावेदार: भारत को अभी भी राहुल त्रिपाठी, रजत पाटीदार, दीपक हुड्डा और संजू सैमसन को मौक़े देने बाक़ी हैं।

ऑलराउंडर्स

हार्दिक के अलावा भारत के पास कुछ स्पिन गेंदबाज़ी के ऑलराउंडर विकल्‍प हैं। जब रवींद्र जाडेजा फ़‍िट हो जाएंगे तो वह पहली पसंद होने चाहिए, लेकिन उनकी अनुपस्थिति में दूसरों के पास अभी मौके़ हैं। हार्दिक के बाद नंबर सात पर भारत को एक ऐसे भरोसेमंद ऑलराउंडर की ज़रूरत है जो 10 ओवर कर सके। यहां देखते हैं कि 2019 विश्‍व कप के बाद से यह कौन से विकल्‍प हैं।
मैच - 18, रन - 335, स्‍ट्राइक रेट - 95, विकेट - 13, इकॉनमी - 5.4
कुछ सालों में लगातार चोटिल हुए जाडेजा अभी भी नंबर सात पर भारत के सर्वश्रेष्‍ठ खिलाड़ी हैं।
मैच 6, रन 92, स्‍ट्राइक रेट 137, विकेट 8, इकॉनमी 4.2
वह जाडेजा की जगह भरने के सबसे क़रीबी हैं। वह अच्‍छे ओवर कर सकते हैं और नीचे बल्‍लेबाज़ी भी।
मैच 5, रन 57, स्‍ट्राइक रेट 76, विकेट 7, इकॉनमी 4.8
वह ऑफ़ स्पिन का विकल्‍प देते हैं लेकिन कई बार चोट से जूझते दिखे हैं।
अन्‍य विकल्‍प : शाहबाज़ अहमद

स्पिनर

स्पिन ऑलराउंडर जहां ड‍िफ़ेंसिव होगा तो वहीं भारत एक विकेट चटकाने वाले अन्‍य स्पिनर को देखेगा, जहां दो नाम सबसे आगे हैं कुलदीप यादव और युज़वेंद्र चहल। दोनों ही न्‍यूज़ीलैंड में हैं लेकिन बांग्‍लादेश में होने वाले वनडे मैचों में उन्‍हें आराम दिया गया है, जहां भारत दो स्पिन ऑलराउंडरों को खिलाकर अपनी बल्‍लेबाज़ी में गहराई लाएगी।
मैच 18, विकेट 34, इकॉनमी 5.6, स्‍ट्राइक रेट 28
वह 2019 विश्‍व कप से भारत के लिए सबसे ज्‍़यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं, उन्‍होंने हर 28 गेंद में एक विकेट निकाला है। वह बदक़िस्मत रहे कि पिछले दो टी20 विश्‍व कप में नहीं खेल पाए।
मैच 21, विकेट 25, इकॉनमी 5.8, स्‍ट्राइक रेट 45
कुछ साल पहले आत्‍मविश्‍वास डगमगाने के बाद कुलदीप ने अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट में अच्‍छी वापसी की है और बायें हाथ का कलाई का स्पिनर भारत के लिए अंतर पैदा कर सकता है।

तेज़ गेंदबाज़

यह भारत की सबसे बड़ी मुसीबत में से एक है क्‍योंकि भारत अभी तक अपने सबसे अच्‍छे संयोजन के साथ नहीं उतर सकता है। फ़‍िट होने के बाद जसप्रीत बुमराह वापस आने चाहिए। प्रसिद्ध कृष्‍णा मध्‍य ओवरों में हार्ड लेंथ करने वाले एक दावेदार बनकर उभरे हैं। शार्दुल ठाकुर ने रन लुटाए हैं लेकिन विकेट भी निकाले हैं। अर्शदीप सिंह को नज़रअंदाज़ करना बहुत मुश्किल होगा। मोहम्‍मद सिराज भी शानदार दिखे हैं। क्‍या भारत स्विंग गेंदबाज़ भुवनेश्‍वर या दीपक चाहर के साथ जाएगा? मोहम्‍मद शमी भी टीम में जगह बनाने से ज्‍़यादा दूर नहीं है। कुलदीप सेन को बांग्‍लादेश भेजा गया है। उमरान मलिक अभी न्‍यूज़ीलैंड में टीम के साथ हैं।
मैच 14, विकेट 18, इकॉनमी 5.2, स्‍ट्राइक रेट 44
उनका स्‍ट्राइक रेट ज़रूर ज़्यादा है लेकिन उनकी क्‍वालिटी पर कोई सवाल नहीं।
मैच 14, विकेट 25, इकॉनमी 5.3, स्‍ट्राइक रेट 27
भारत ने मार्क वुड के स्‍टाइल वाले गेंदबाज़ प्रसिद्ध पर काफ़ी निवेश किया है। प्रिसद्ध ने 27 के स्‍ट्राइक रेट से विकेट चटकाकर कमाल किया है।
मैच 12, विकेट 18, इकॉनमी 4.5, SR 32
उनके अंदर विकेट लेने का दमखम है और वह हार्ड लेंथ पर गेंदबाज़ी कर सकते हैं।
बायें हाथ के कोण के साथ उन्‍होंने टी20 में खु़द को साबित कर दिया है लेकिन उनका वनडे डेब्‍यू अभी होना है। वह हाल में उतने घरेलू लिस्‍ट ए मैच भी नहीं खेल पाए हैं। इन सभी में एक ही कमी है, वह है कि यह चारों नंबर 11 पर बल्‍लेबाज़ी की कमी को दर्शाते हैं। इसी वजह से दीपक और शार्दुल पिक्‍चर में आ सकते हैं। भुवनेश्‍वर के अनुभव को भी नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है, लेकिन वह दीपक और शार्दुल से बल्‍लेबाज़ी में कमज़ोर हैं।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्‍टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।