मैच (16)
आईपीएल (1)
T20I Tri-Series (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
CE Cup (2)
ENG v PAK (1)
USA vs BAN (1)
WI vs SA (1)
ख़बरें

रमीज़ राजा की चाहत भारत और पाकिस्तान सहित सालाना चार-टीमों की सीरीज़ खेली जाए

रमीज़ ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो को बताया कि द्विपक्षीय टी20 सीरीज़ के मॉडल के बारे में दोबारा सोचना होगा

Ramiz Raja addresses the media after taking over as the new PCB chairman, Lahore, September 13, 2021

रमीज राजा की ही तरह बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली भी ऐसे टूर्नामेंट का विचार रख चुके हैं।  •  Associated Press

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के चेयरमैन रमीज़ राजा ने पाकिस्तान, भारत, इंग्लैंड और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच चतुष्कोणीय सीरीज़ के आयोजित करने की बात कही है। राजा यह विचार मार्च में होने वाली आईसीसी बोर्ड मीटिंग में रखेंगे, क्योंकि उनका मानना है कि द्विपक्षीय सीरीज़ में उस तरह का फ़ायदा नहीं हो पाता है, लेकिन इस तरह की सीरीज़ के होने से सभी देशों को फ़ायदा पहुंचेगा।
राजा ने ईएसपीएनक्रिकइंफो को बताया, "मेरा विचार है टीमों की पूलिंग और आय के बंटवारे के आधार पर एक नया ढांचा बनाया जाना चाहिए। विचार एक ऐसी कंपनी को पंजीकृत करने का है, जो आईसीसी के तहत काम करती है और उसके पास एक समर्पित मुख्य कार्यकारी अधिकारी है जो पूरे वित्तीय मॉडल को नियंत्रित करता है, जिसमें आय सभी सदस्यों के बीच विभाजित होती है। ऐशेज़, पाकिस्तान-भारत प्रतिद्वंद्विता जैसे कई टूर्नामेंट हैं। ऐसे में यह हो सकता है, "जब चार टी20 टीमें एक-दूसरे के साथ खेलती हैं तो ग़लत नहीं होता। हमें प्रशंसकों की भूख को कम करने की ज़रूरत है क्योंकि वे थक रहे हैं, और हमें एफ़टीपी के बाहर कुछ सोचने की ज़रूरत है।"
राजा ने यह विचार मंगलवार को ट्विटर पर साझा किया, जहां उन्होंने आईसीसी को इस सुझाव की ओर सोचने की बात कही, जहां पर भारत, पाकिस्तान, ऑस्‍ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच में टी20 प्रारूप में सुपर सीरीज़ आयोजित की जा सके। उन्होंने विस्तार से बताया क यह विचार छह यूरोपीय देशों के बीच आयोजित किए जाने वाले छह देशों के टूर्नामेंट की तरह ही है। उन्होंने आगे कहा, " मैं द्विपक्षीय टी20 सीरीज का प्रशंसक हूं और यह आज के समय की ज़रूरत है। पांच द्विपक्षीय टी20 सीरीज़ खेलने की जगह मुझे लगता है कि अगर तीन या चार देशों के बीच ऐसी सीरीज़ होगी तो इससे सभी को अच्छा मुनाफ़ा होगा। यह ऐसा नहीं है कि हम कह रहे हों कि बड़े चार देशों को फ़ायदा होगा। असल बात यह है कि इससे लोगों की रूचि बढ़ेगी और सभी बोर्डों को फ़ायदा पहुंचेगा।"
इस साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप के लिए चार चरणों वाली क्वालीफ़िकेशन प्रक्रिया शुरू होगी, जिसका अंत तो 16-टीम के वैश्विक क्वालीफ़ायर के साथ होगा, जो मुख्य टूर्नामेंट में शामिल हो सकेंगे। हां, इसमें श्रीलंका और वेस्टइंडीज़ शामिल होंगे, लेकिन पूर्ण सदस्यों द्वारा खेला जाने वाला अधिकांश टी20 क्रिकेट द्विपक्षीय होगा और इससे ऑस्ट्रेलिया को अपनी तैयारियों को पुख़्ता करने का मौक़ा मिलेगा।
काग़जों पर तो यह विचार अच्छा लगता है, लेकिन सही मायनों में भारत और पाकिस्तान केवल आईसीसी या एशियन क्रिकेट काउंसिल (एसीसी) के टूर्नामेंट में आपस में भिड़ती हैं। दोनों ही देशों के बीच पिछले काफ़ी समय से द्विपक्षीय सीरीज़ का आयोजन नहीं हो रहा है, लेकिन जब भी यह दो देश आपस में भिड़ते हैं तो आईसीसी को अच्छा मुनाफ़ा होता है।
2019 में भी इसी तरह का एक मॉडल प्रस्तावित किया गया था जब बीसीसीआई के नवनिर्वाचित अध्यक्ष सौरव गांगुली ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के साथ 'सुपर सीरीज' की योजना के बारे में विचार रखे थे। ऐसा प्रस्तावित टूर्नामेंट जिसमें चौथी टीम लगातार बदलने वाली टीम थी। राजा ने कहा कि उन्हें पिछले विचार के बारे में पता नहीं था, लेकिन वह जल्द ही इसे अमलीजामा पहनाने की कोशिश करेंगे।
भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे मनमुटाव पर बात करते हुए राजा ने कहा कि हम आगे बढ़ना चाहते हैं। उन्होंने आगे कहा, " आप टी20 विश्व कप के नंबरों को देखिए। जब यह दोनों देश आपस में खेलते है। तो दुनिया देखती है और रूक जाती है। हमें देखना होगा कि प्रशंसक क्या चाहते हैं और क्या सही है। हमें इस बारे में बात करनी होगी और सोचना होगा कि क्या हम करना चाहते हैं। जो मैं चाहता हूं उस बारे में आईसीसी से कई बार बात हो चुकी है और देखना होगा कि यह अब कि ओर आगे बढ़ता है।"

उमर फ़ारूक़ ESPNcricinfo में पाकिस्‍तान के संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।