ख़बरें

निकोलस पूरन के लिए पहले वनडे में मिली हार में भी जीत की महक थी

वेस्टइंडीज़ के कप्तान ने अपनी टीम के सभी खिलाड़ियों को काफ़ी सराहा

क्वींस पार्क ओवल में वेस्टइंडीज़ के पास रिकॉर्ड तोड़ चेज़ करने का मौका था। इस मैदान पर अब तक सर्वाधिक 272 रनों का पीछा किया गया है। हालांकि इस चेज़ में वेस्टइंडीज़ बस कुछ रन पीछे छूट गई। आख़िरी गेंद पर वेस्टइंडीज़ को जीतने के लिए पांच रनों की आवश्यकता थी लेकिन मोहम्मद सिराज के एक शानदार यॉर्कर ने वेस्टइंडीज़ को जीत से दूर कर दिया।
हालांकि वेस्टइंडीज़ ने शुक्रवार को जिस तरह से भारत के ख़िलाफ़ संघर्ष किया, उससे वेस्टइंडीज़ के कप्तान और स्टेडियम में मौजूद दर्शक काफ़ी ख़ुश थे। निकोलस पूरन को लगा कि यह इस मैच में उनकी टीम को जीत ही मिली है। ख़ास कर के बांग्लादेश के ख़िलाफ़ खेली गई सीरीज़ में वेस्टइंडीज़ को जिस तरीक़े से हार मिली थी। उसके बाद इस तरह का संघर्ष जीत के ही बराबर है।
पूरन ने मैच के बाद मेज़बान प्रसारक से कहा, "यह निश्चित रूप से हमारे लिए एक जीत की तरह था। कुल मिला कर यह परिणाम एक ही समय पर कड़वा और मीठा दोनों था।हालांकि एक बात यह भी है कि हम 50 ओवर बल्लेबाज़ी करने के बारे में पिछले कुछ समय से बोलते रहे हैं और आज हमने 50 ओवर बल्लेबाज़ी की और 300 से अधिक रन बनाए।"
"जाहिर है कि एक समूह के रूप में हम अपनी टीम का पुनर्निर्माण कर रहे हैं और वनडे क्रिकेट में सफलता के रास्ते का तलाशने का प्रयास कर रहे हैं। आज हमने अपनी प्रतिभा के साथ न्याय किया है।"
टॉस जीत कर पूरन ने भारतीय टीम को बल्लेबाज़ी करने के लिए बुलाया था। इसके जबाव में शिखर धवन और गिल ने बढ़िया शुरुआत की। हालांकि वेस्टइंडीज़ की टीम ने बाद के ओवरों में बढ़िया वापसी की और भारतीय टीम को 308 के स्कोर पर रोक दिया। एक समय पर ऐसा लग रहा था कि भारतीय टीम 350 से अधिक का स्कोर बनाएगी।
पूरन ने कहा, "निश्चित तौर पर मुझे गेंदबाज़ों को श्रेय देना चाहिए। जाहिर है कि हमें इन परिस्थितियों में अच्छी शुरुआत नहीं मिली। हम समझते हैं कि यह एक बल्लेबाज़ी ट्रैक था, लेकिन हमने एकदूसरे से वाटर ब्रेक पर बात की और कहा कि हम उन्हें 315 के स्कोर तक रोक सकते हैं। (गुडाकेश) मोती, अकील (हुसैन) और अल्ज़ारी (जोसेफ़) - सभी ने आकर आज अपने कौशल का बेहतरीन प्रदर्शन किया। बांग्लादेश श्रृंखला के बाद आज हमने जिस तरह से संघर्ष किया, वह गर्व की बात है।"
वेस्टइंडीज़ की टीम के लिए 309 रनों का लक्ष्य कई बार पहुंच से बाहर दिखा। हालांकि काइल मेयर्स और ब्रेंडन किंग के अर्धशतक से वेस्टइंडीज़ कभी भी इस मैच से बाहर नहीं गया। साथ ही पूरन और अकील और रोमारिया शेफ़र्ड ने भी छोटी लेकिन कारगर पारी खेली।
"हमें एक-दूसरे पर विश्वास करने की ज़रूरत है। हम एक इकाई के रूप में क़रीब आने की कोशिश कर रहे हैं, यहां कुछ ऐसा विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं जो अंततः सकारात्मक परिणाम दे सके। मैं सभी को बताता रहता हूं कि यह हमारी कहानी है और यही हमारी यात्रा है और इसमें बहुत सारी चुनौतियां आने वाली हैं। लेकिन मुझे खु़शी है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo के सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।