मैच (6)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

टी विश्व कप का लेखा-जोखा, टॉस और स्पिन का रहा बोलबाला

बल्लेबाज़ों के लिए थोड़ा मुश्किल रहा यह टूर्नामेंट

विश्व कप के साथ ऑस्ट्रेलियाई टीम  •  Getty Images

विश्व कप के साथ ऑस्ट्रेलियाई टीम  •  Getty Images

टी20 विश्व कप समाप्त हुआ, लेकिन अपने साथ कई दिलचस्प आंकड़ों और ट्रेंड्स को छोड़ गया। आइए डालते हैं इन पर एक नज़र
टॉस जीतो, मैच जीतो
इस टूर्नामेंट में सफल होने का एकमात्र मंत्र रहा- टॉस जीतो, मैच जीतो। कुल 45 में से 30 मैच (लगभग 67%) उन टीमों ने जीते, जिन्होंने टॉस भी जीता। यह किसी भी टी20 विश्व कप में रिकॉर्ड है। 2016 में यह रिकॉर्ड लगभग 63% था, जब 33 में से 21 मैच टॉस जीतने वाली टीम ने जीता था।
इसके अलावा इस टूर्नामेंट में लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम को फ़ायदा मिला। 81% टीमों ने लक्ष्य का पीछा करते हुए यह टूर्नामेंट जीता। 2014 में बांग्लादेश में हुए टी20 विश्व कप में यह रिकॉर्ड 60% था, जब लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम ने 35 में से 21 मैच जीते थे।
टॉप थ्री का दबदबा
आईपीएल की तरह विश्व कप में भी शीर्ष तीन बल्लेबाज़ों का दबदबा रहा और उन्होंने टूर्नामेंट के कुल 54.38% रन बनाए, जो कि टी20 विश्व कप के इतिहास में सर्वाधिक है। टूर्नामेंट के सर्वाधिक चार रन बनाने वाले बल्लेबाज़ बाबर आज़म, डेविड वॉर्नर, मोहम्मद रिज़वान और जॉस बटलर ओपनर हैं, वहीं पांचवें बल्लेबाज़ चरिथ असलंका भी शीर्ष क्रम के ही बल्लेबाज़ हैं।
टॉस जीतो, टूर्नामेंट जीतो
चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने टूर्नामेंट के सात मैचों में छह में टॉस जीता और पहले गेंदबाज़ी करते हुए ये सभी मैच जीते। उन्होंने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ टॉस गंवाया, तो मैच जीतने का मौक़ा भी गंवा दिया। 2012 और 2016 में वेस्टइंडीज़ ने भी छह टॉस जीतते हुए टूर्नामेंट जीता था।

संपत बंडारूपल्ली ESPNcricinfo में सांख्यिकीविद हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के दया सागर ने किया है