मैच (16)
T20 वर्ल्ड कप (6)
CE Cup (2)
T20 Blast (8)
फ़ीचर्स

रूट के शतक के बाद इंग्लैंड की पहली हार और लॉर्ड्स में भारत की तीसरी जीत

लॉर्ड्स टेस्ट के दिलचस्प आंकड़े

3- यह लॉर्ड्स में भारत की तीसरी जीत है। 1986 में कपिल देव की टीम ने 5 विकेट और 2014 में धोनी की टीम ने 95 रन से यहां जीत हासिल की थी।
6- पांचवें दिन के आख़िरी सत्र में भारतीय टीम ने 6 विकेट लिए। 2001 के बाद यह सिर्फ तीसरी बार हुआ है, जब भारत ने अंतिम दिन के अंतिम सत्र में 6 या 6 से अधिक विकेट लिए हैं। 2001 में ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध कोलकाता टेस्ट में भारत ने आख़िरी सत्र में 7 विकेट लिए थे, वहीं 2016 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ ही चेपॉक में भारत ने मैच के आख़िरी सत्र में 6 विकेट लेकर जीत दर्ज की थी।
8/126- सिराज ने इस मैच में 8/126 के आंकड़े पेश किए, जो कि लॉर्ड्स में किसी भी भारतीय गेंदबाज़ का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इससे पहले 1982 में कपिल देव ने 8/168 के आंकड़े दर्ज किए थे।
19- सीरीज़ के पिछले मैच में 20 विकेट लेने के बाद इस मैच में भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों ने 19 विकेट लिए। यह भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों का संयुक्त रूप से संयुक्त रूप से दूसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। 2018 में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ जोहानसबर्ग में भी भारतीय टीम ने 20 विकेट लिया था।
180*- जो रूट ने इस मैच की पहली पारी में 180* रन बनाए, जो कि किसी टेस्ट हार में इंग्लैंड का छठा सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है। इसके अलावा यह किसी कप्तान का किसी टेस्ट हार में चौथा सबसे बड़ा स्कोर है।
1- रूट के शतक लगाने के बाद उनकी टीम इंग्लैंड पहली बार किसी टेस्ट मैच में हारी। यह रूट का 22वां शतक था, जिसमें इंग्लैंड को अभी सिर्फ एक टेस्ट में हार का सामना करना पड़ा है। यह रिकॉर्ड ग्रैम स्मिथ के नाम है, जिनके नाम बिना टेस्ट हारे 27 शतक दर्ज हैं।
89- मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह ने 9वें विकेट के लिए नाबाद 89 रन की साझेदारी की। इससे पहले 2014 में भी इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दसवें विकेट के लिए शमी ने भुवनेश्वर कुमार के साथ 111 रन की साझेदारी की थी। उसके बाद से यह 9 या उससे नीचे के विकेट के लिए यह सर्वाधिक रनों की साझेदारी है।
7- इस मैच में इंग्लैंड की तरफ से 7 शून्य (डक) के स्कोर हुए, जो कि संयुक्त रूप से सर्वाधिक है। इसके अलावा चार और मौकों पर इंग्लैंड की तरफ से 7 डक हुए हैं। इससे पहले 199 में जोहानसबर्ग में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ ऐसा हुआ था।
1- सैम करन लॉर्ड्स में किंग पेयर (पहली ही गेंद पर दोनों पारियों में शून्य) पर आउट होने वाले पहले बल्लेबाज़ बने। वह ऐसा अनचाहा रिकॉर्ड बनाने वाले सिर्फ चौथे इंग्लिश बल्लेबाज़ हैं। करन से पहले जेम्स एंडरसन 2016 के विशाखापट्टनम टेस्ट में भारत के ख़िलाफ़ किंग पेयर पर आउट हुए थे।

संपत बंडारुपल्ली ESPNcricinfo के स्टैटिस्टिशियन हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के दया सागर ने किया है।