मैच (13)
WPL (1)
AFG v IRE (1)
BPL 2023 (1)
NZ v AUS (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
QAT v HKG (1)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

किशन: मैं 300 मार सकता था लेकिन चूक गया

ओपनिंग में दोहरा शतक लगाने के बावजूद किसी भी क्रम पर बल्लेबाज़ी करने को तैयार है यह खब्बू बल्लेबाज़

भारतीय टीम में जगह मिलना मुश्किल है और अपनी पसंद की जगह पर बल्लेबाज़ी मिलना तो और भी मुश्किल। इशान किशन यह बात अच्छी तरह से समझते हैं। वनडे क्रिकेट में सबसे तेज़ दोहरा शतकवीर बनने के बाद किशन ने कहा कि उन्हें मिल रहे हर मौक़े को भुनाते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा।
इस पारी से पहले किशन ने अपने अंतिम वनडे मुक़ाबले में 93 रन बनाए थे। लेकिन इसके बाद भी उन्हें टीम में जगह नहीं मिली और उन्हें भारत के पांच वनडे मैचों से बाहर रहना पड़ा। उन्हें टीम में जगह तब मिल पाई जब रोहित शर्मा चोटिल होकर बाहर हुए। यह भी हो सकता है कि जब रोहित फ़िट होकर वापस आएं, तब भी उनकी टीम में जगह नहीं बचे।
इन सबके बीच वह अपने आपको कैसे मोटिवेट करते हैं? इस सवाल के जवाब में किशन ने कहा, "मैं बड़े खिलाड़ियों की तरफ़ देखता हूं। उनकी फ़िटनेस, उनका तरीक़ा, वह मैच में किस तरह से जाते हैं। विराट [कोहली] भाई कैसे ख़ुद को तैयार करते हैं, रोहित भाई का क्या अप्रोच रहता है? मैं हार्दिक [पंड्या] भाई के साथ बहुत समय गुजारता हूं। इन सबको देखकर मैंने सीखा है कि प्रदर्शन तो मायने रखता है, लेकिन इससे भी अधिक मायने यह रखता है कि क्या आप पूरी तैयारी करके अपने देश के लिए 100% दे रहे हैं?"
बल्लेबाज़ी क्रम के सवाल पर उन्होंने कहा, "जो भी टीम में आता है, वह अपनी जगह बनाकर आता है। वे हर जगह पर बल्लेबाज़ी करने को तैयार रहते हैं तो मैं अपने बल्लेबाज़ी क्रम के लिए शिकायत नहीं कर सकता। इस स्तर पर अगर आपको मौक़े मिलते हैं तो आपको हर मौक़ों को भुनाना होगा और अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा। तभी कोई खिलाड़ी बड़ा कहलाता है, जब वह हर मौक़े को भुनाता है।"
किशन को यह भी पता है कि इतने सारे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों में से किन्हीं 11 को चुनना भी एक कठिन कार्य है। उन्होंने कहा, "मैंने आज राहुल [द्रविड़] भाई के चेहरे पर ख़ुशी और संतुष्टि देखी। उन्हें पता है कि वह सबको मौक़े नहीं दे सकते हैं। इसलिए जब मैंने यह पारी खेली तो वह ख़ुश दिखे।"
रिकॉर्डतोड़ पारी खेलने के बाद किशन ने कहा कि वह तो तिहरे शतक के बारे में सोचने लगे थे। उन्होंने कहा, "जब मैं आउट हुआ तो 15 ओवर बचे थे। इन 90 गेंदों में अगर मुझे 45 गेंद भी मिलता तो भी मैं आराम से 300 तक पहुंच सकता था। मैं अपनी ज़ोन में था और गेंदबाज़ दबाव में थे। दुर्भाग्य से यह संभव नहीं हो सका लेकिन कई लीजेंड्स के साथ अपना नाम दर्ज करवाना मेरे लिए बहुत स्पेशल है।"
जब रोहित आ जाएंगे तो आपका क्या होगा? इस सवाल के जवाब में किशन ने कहा, "मुझे नहीं पता और मैं इन सबके बारे में सोचता भी नहीं हूं। मुझे जहां और जब भी मौक़ा मिले, मैं बस प्रदर्शन करना चाहता हूं। मैं इस बारे में अधिक बोलना भी नहीं चाहता हूं, मैं चाहता हूं कि मेरा बल्ला बोले।"

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं