मैच (15)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's Tri-Series (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्‍स : चहल रहे एक नंबरी, रोहित ने भी किया कमाल

राहुल और कोहली की ख़राब रेटिंग्‍स ने बिगाड़ा काम

रोहित ने अर्धशतक लगाकर तो चहल ने तीन विकेट लेकर भारत की कराई थी मैच में वापसी  •  ACC

रोहित ने अर्धशतक लगाकर तो चहल ने तीन विकेट लेकर भारत की कराई थी मैच में वापसी  •  ACC

श्रीलंका से छह विकेट से मिली हार के बाद भारत की एशिया कप के फ़ाइनल में पहुंचने की उम्‍मीदों को करारा झटका लगा है। अब निर्णय अफ़ग़ानिस्‍तान और श्रीलंका की पाकिस्‍तान पर जीत पर आकर टिक गया है लेकिन उससे पहले भारत को अफ़ग़ानिस्‍तान को भी हराना होगा। पल दो पल बदलते इस मैच के कई पहलू रहे हैं, जिसमें कभी भारतीय खिलाड़ी हावी हुए तो कभी श्रीलंका के खिलाड़ी, लेकिन इस हार के बावजूद इस मैच में भारतीय एकादश के खिलाड़ियों को मिले अंकों पर एक नज़र डालते हैं।

क्या सही और क्या ग़लत?

एक अहम मुक़ाबला हारे हैं लेकिन दिल तो कप्‍तान रोहित शर्मा और युज़वेंद्र चहल ने जीत ही लिया है। किस समय पर आक्रमण करना था यह रोहित अच्‍छे से जानते थे। वह वही कर रहे थे लेकिन दिलशान मदुशंका तो कुछ और ही मन बनाकर आए थे। तब भी अगर देखा जाए तो एक समय श्रीलंका का स्‍कोर 11 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 97 रन था। भारतीय टीम मध्‍य ओवरों में वापसी करने में क़ामयाब रही और अंत तक भी यह मैच किसी भी दिशा में जा सकता था।
टी20 विश्‍व कप से पहले भारत वरिष्‍ठ खिलाड़‍ियों के बिना अपने अहम टी20 मुक़ाबले एशिया कप से पहले खेलता दिखा था, लेकिन जैसे ही यह वरिष्‍ठ खिलाड़ी टीम में वापस लौटे, कहीं ना कहीं टीम का संतुलन बिगड़ चुका था। चाहें आप केएल राहुल की चोट से वापसी कहें या विराट कोहली का लंबा आराम। इस अहम मुक़ाबले में यह दोनों ही बल्‍लेबाज़ दहाई का अंक भी नहीं छू सके। यही इस मैच में टीम के साथ सबसे ग़लत भी हुआ है। वहीं प्‍वाइंट पर रहकर जिस तरह से रवींद्र जाडेजा अपना काम करते थे, आज उनकी भी कमी टीम को खली थी क्‍योंकि लगातार दो थ्रो ग़लत गए थे और दो रन आउट के मौक़े भारत ने गंवाए भी।

प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)

केएल राहुल, 4 : टीम के बाहर चल रही सुगबुगाहट ने शायद राहुल पर भी दबाव बना दिया है। यही वजह है कि आपने उनको पिछले मैच में पाकिस्‍तान के ख़‍िलाफ़ तेज़ गति से रन बनाते देखा, लेकिन श्रीलंका के ख़‍िलाफ़ भी वह कुछ अलग नहीं करने जा रहे थे लेकिन एक हवा में तैरती हुई स्पिनर की गेंद सीधा उनके जूते पर जाकर लगी और थर्ड अंपायर भी बैट एंड पैड का निर्णय नहीं ले पाए और आख़‍िरकार बॉल ट्रैकिंग ने उनको पवेलियन भेज दिया।
रोहित शर्मा, 9 : रोहित यहां पर बल्‍लेबाज़ों में सबसे ज्‍़यादा अंक लेने के हक़दार बनते हैं। एक के बाद एक दो विकेट भारत पावरप्‍ले के अंदर गंवा चुका था, लेकिन वह डटे थे। उन्‍होंने पूरी कोशिश की कि मध्‍य ओवरों में भारत की रनों की गति को आगे बढ़ाया जाए। वह इसमें लगभग क़ामयाब भी हो चुके थे, लेकिन जब समय पांचवें गियर में जाने का समय था, वह एक गेंद पर विफल हो गए, लेकिन उनकी 41 गेंद में 72 रनों की पारी के मायने बहुत हैं, क्‍यों‍कि उनके अलावा बाक़ी बल्‍लेबाज़ सभी मिलकर 101 रन ही बना पाए थे।
विराट कोहली, 3 : पता नहीं कि कोहली करना क्‍या चाहते थे। यह पहली ही गेंद से आक्रमण करने का ही शायद कारण था, लेकिन उससे बड़ी समस्‍या यह है कि वह अपने सबसे पसंदीदा शॉट को ही आजकल मिस कर रहे हैं। मिडविकेट की ओर उनकी हवा में जाती फ़्लिक उनका ट्रेडमार्क शॉट रहा है। कोई भी बल्‍लेबाज़ इस पर चूक सकता है, लेकिन कोहली की आत्‍मा उनकी आक्रामकता से जुड़ी है। जिस समय भारत मुश्किल में था, उस समय रोहित को सलाह देने के लिए केवल उनके पास ऋषभ पंत, हार्दिक पंड्या थे। क्षेत्ररक्षण में भी उनकी आक्रामकता जैसे खो सी चुकी है।
सूर्यकुमार यादव, 7 : सूर्यकुमार ने अपनी पारी की शुरुआत संभलकर की। वह जानते थे कि एक और विकेट गिरा तो मुश्किल हो सकती है। जब समय आया तो उन्‍होंने अहम मौक़ों पर बड़े शॉट भी लगाए लेकिन शायद श्रीलंका के कप्‍तान उनकी बल्‍लेबाज़ी की अदाकारी को अच्‍छे से समझते थे। उन्‍होंने धीमी गति की बाउंसर डालकर उन्‍हें अपर कट पर मजबूर किया लेकिन तब तक वह अपना काम कर चुके थे।
हार्दिक पंड्या, 5 : हार्दिक तेज़ गेंदबाज़ों का इंतज़ार ही करते रह गए, लेकिन शानका जैसे उनके लिए पूरी तरह से तैयार थे। उनके ज़ोन में गेंदबाज़ी करके उनको अपने शॉट के लिए मजबूर करना आज उनका हार्दिक का विकेट ले गया। लेग स्‍टंप पर पैरों पर गेंद, जहां हार्दिक हेलीकॉप्‍टर शॉट में कभी नहीं चूकते हैं, लेकिन क्षेत्ररक्षक वाइड लॉन्ग ऑन की दिशा में खड़ा था और वहीं हार्दिक कैच थमा बैठे। गेंदबाज़ी की बात की जाए तो वह आज धीमे विकेट को देखकर धीमी गति की गेंदों पर ज्‍़यादा विश्‍वास करते दिखे जो उनके पक्ष में कतई नहीं गया।
ऋषभ पंत, 6 : जिस समय पंत से पहले हार्दिक को भेजने का निर्णय लिया गया तो पंत के चेहरे पर एक निराशा सी थी। हालांकि, अगला विकेट जैसे ही गिरते हुए उन्‍हें मौक़ा मिला वह ताबड़तोड़ रन बनाने में जुट गए। उनके सारे शॉट एकदम ग्राउंड से सटे जा रहे थे, लेकिन विकेटकीपिंग में उन्‍होंने अंक गंवा दिए। फ‍िर भले ही उनके पास थ्रो विकेट से दूर आए हों, लेकिन उनका श्रीलंका की जीत में अंतिम रन के वक्‍़त नॉन स्‍ट्राइकर छोर पर थ्रो ग़लत साबित हो गया, क्‍योंकि अगर वह थ्रो नहीं भी करते तो एक गेंद पर एक ही रन रहता, एक रिस्‍क ने मैच पूरी तरह से ख़त्‍म कर दिया था।
दीपक हुड्डा, 4 : बात चाहे शानका के ओवर में दूसरी बाउंसर पर कैच होने के बाद नॉटआउट करार दिए जाने की हो या फ़्री हिट का फ़ायदा उठाने की, हुड्डा कहीं भी संभल नहीं सके। यहां पर तो श्रीलंका के कप्‍तान को बधाई देनी होगी कि 30 गज़ के घेरे में पांच क्षेत्ररक्षकों को रखने की मजबूरी दिखाते हुए उन्‍होंने अपने गेंदबाज़ को स्‍टंप्‍स पर ही गेंद डालने को कहा। हुड्डा बोल्‍ड हुए और उसके बाद इस मैच में कुछ नहीं बचा था।
भुवनेश्वर कुमार, 5 : 2022 में पावरप्‍ले में सबसे ज्‍़यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ भुवनेश्‍वर कुमार ही हैं। पहले ओवर में केवल एक रन और दूसरे ओवर में आठ रन। यह उनकी ख़ासियत रही है। हालांकि, पिछले मैच की तरह वह इस बार भी 19वें ओवर में महंगे साबित हो गए और उनको सवालों के घेरे में ला दिया।
रवि अश्विन, 7 : पहले बल्‍लेबाज़ी में अहम सात गेंद में 15 रन बनाए और उसके बाद जब भारत विकेट को तरस रहा था तो वह सामने निकलकर आए और दनुष्‍का गुनातिलका का अहम विकेट चटकाकर भारत की मैच में वापसी करा चुके थे।
युज़वेंद्र चहल, 10 : अगर इस मैच में सबसे ज्‍़यादा अंक मिलने चाहिए तो वह चहल ही हैं। 100 रन के क़रीब बनने वाले थे और श्रीलंका ने एक भी विकेट नहीं गंवाया था। यह चहल ही थे जिन्‍होंने एक के बाद एक विकेट लेकर भारत की मैच में वापसी करा दी थी। निसंका और मेंडिस अर्धशतक लगाने के बाद उनकी गेंद पर आउट हुए और ख़तरनाक असलंका को भी उन्‍होंने आउट किया। वह अपना काम कर चुके थे, लेकिन अंतिम ओवरों में तेज़ गेंदबाज़ ख़ुद को साबित नहीं कर पाए।
अर्शदीप सिंह, 7 : अर्शदीप की जितनी तारीफ़ की जाए वह कम ही है। अंतिम ओवर में छह गेंद पर केवल सात रन चाहिए थे, लेकिन श्रीलंका 19.5 ओवर में जाकर यह मैच जीता। सटीक यॉर्कर, सटीक प्‍लान उनको लगातार अच्‍छे डेथ ओवर गेंदबाज़ की ओर लेकर जा रहा है। पाकिस्‍तान के ख़‍िलाफ़ पिछले मैच में भी उन्‍होंने कुछ ऐसा ही करके दिखाया था।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26