मैच (8)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम इंग्लैंड (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
बांग्लादेश ए बनाम इंडिया ए (1)
एलपीएल (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
फ़ीचर्स

टेनिस बॉल क्रिकेट की याद दिलाने वाले मैच में निखरे अक्षर

उन्होंने अपने करियर की शुरुआत गुजरात में छह से आठ ओवरों के मैचों से ही की थी

नागपुर में गेंदबाज़ी समाप्त करने के बाद जसप्रीत बुमराह और अक्षर पटेल अपने बचपन की यादों को ताज़ा कर रहे थे जहां उन्होंने अपने करियर की शुरुआत छह से आठ ओवरों के टेनिस बॉल मैचों से की थी।
अक्षर ने बुमराह को बताया कि इस आठ ओवरों के मैच ने उन्हें बचपन की याद दिलाई। अक्षर ने कहा, "फ़ुल फ़ील आया। यहां पहली गेंद से ही डेथ ओवरों का माहौल होता है और बल्लेबाज़ विकेट की परवाह किए बिना बल्ला चलाते जाता है।"
इस सूची में पंड्या बंधुओं को जोड़ दें तो आपके पास चार समकालीन खिलाड़ी होंगे जिन्होंने अपरंपरागत मार्ग अपनाया। पूर्व भारतीय कप्तान सुनिल गावस्कर का मानना है कि गुजराती लोग व्यावहारिक होने के साथ-साथ क्रिकेट के खेल से बहुत प्रेम करते हैं। लंबे समय तक केवल राजघराने के लोग इस खेल से जुड़े थे। आम गुजराती लोग क्रिकेट में तभी उतरे जब माता-पिता अपने बच्चों के लिए एक उज्जवल भविष्य देख सकते थे।
इसकी शुरुआत स्थानीय टूर्नामेंटों से हुई जहां अच्छी पुरस्कार राशि मिलती और प्रतिभाशाली खिलाड़ी थोड़े पैसे कमा सकते। जब खेल के प्रति प्रेम और उद्दम मिले, अहमदाबाद और जामनगर ही नहीं बल्कि पूरा गुजरात एक मज़बूत पक्ष बन गया। अधिकांश गुजराती क्रिकेटरों के लिए कड़ी टक्कर वाले यह टेनिस बॉल मैच बहुत मायने रखते हैं।
मैच की अवधि से अक्षर को कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता है। उन्हें पावरप्ले में गेंदबाज़ी करने की आदत है और यह छोटा मैच इससे अलग नहीं था। बाहर से देखने वाले के लिए यह थोड़ा जटील हो सकता है लेकिन अक्षर के अनुसार खेल बहुत सरल है : स्टंप्स के भीतर रहो, बल्लेबाज़ से गेंद को दूर रखो और अच्छी गेंद पर बाउंड्री लगने पर निराश ना हो।
दूसरे टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में अक्षर ने लॉन्ग ऑन और डीप मिडविकेट को सीमा रेखा पर रखकर पावरप्ले में अपनी गेंदबाज़ी की शुरुआत की। तुरंत बल्लेबाज़ों ने लेग साइड पर हटकर स्पिन के साथ शॉट लगाने का प्रयास किया। हालांकि अक्षर ने या तो आर्म बॉल या क्रॉस सीम गेंद डालकर उन्हें ऐसा करने नहीं दिया। लेंथ पर उनका नियंत्रण हमेशा की तरह बेहतरीन था।
अपने दूसरे और अंतिम ओवर में तो अक्षर ने बाएं हाथ के बल्लेबाज़ मैथ्यू वेड को लगातार चार डॉट गेंदें डाली। वेड ने क्रीज़ में हलचल की, दोनों तरह की स्वीप भी लगाई लेकिन अक्षर अपनी लाइन और लेंथ से चूके नहीं।
पावरप्ले में एक ओवर डालने के बाद अक्षर ने इस मैच में केवल 13 रन दिए। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो के सुपरस्टैट्स के अनुसार उन्होंने केवल 3.42 स्मार्ट रन ख़र्च किए। प्रभाव के मामले में ऐडम ज़ैम्पा ने एक अतिरिक्त विकेट लेकर अक्षर को पीछे छोड़ा लेकिन अक्षर के स्पेल ने भारत के लिए मैच बनाया।
रवींद्र जाडेजा के चोटिल होने के कारण अक्षर टीम में आए हैं लेकिन पिछले दो-तीन वर्षों में यह साफ़ हो गया है कि वह सबसे छोटे प्रारूप में जाडेजा से बेहतर गेंदबाज़ हैं। वो तो जाडेजा की बल्लेबाज़ी ने अक्षर को टीम से बाहर रखा है। अब जब वह टीम में आए हैं, अक्षर को बल्ले के साथ भी योगदान देना होगा।
दिल्ली कैपिटल्स ने उन्हें इस आईपीएल सीज़न में फ़िनिशर की भूमिका दी थी और भारतीय टीम में उनका इस्तेमाल दिनेश कार्तिक को 15वें ओवर तक बचाए रखने के रूप में किया जा रहा है। अक्षर कहते हैं कि वह नेट में इसी चीज़ का अभ्यास कर रहे हैं - छोटी और प्रभावशाली पारी खेलना।
जैसा कि गावस्कर आपको बताएंगे, अगर आप क्रिकेट के दीवाने गुजराती को किसी भी चीज़ के अंत में अदायगी दिखाएंगे, तो वह किसी भी हद तक जाने को तैयार हो जाएगा।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।