मैच (13)
T20 वर्ल्ड कप (4)
SL vs WI [W] (1)
T20 Blast (8)
फ़ीचर्स

IPL 2024 के दिलचस्‍प क़िस्से : कोहली की नाराज़गी से लेकर धोनी के बल्‍लेबाज़ी क्रम तक

लीग मैचों के दिलचस्‍प क़िस्‍सों पर एक नज़र, जिसने सभी का ध्‍यान खींचा

Virat Kohli had a lot to say to the umpires on being given out off a high full toss, found to be a legal ball on review, Kolkata Knight Riders vs Royal Challengers Bengaluru, IPL 2024, Kolkata, April 21, 2024

अंपायर से बात करते कोहली और डुप्‍लेसी  •  BCCI

IPL 2024 अब अपने प्‍लेऑफ़ दौर में पहुंच गया है। दो महीनों के इस लंबे सफ़र में सभी 10 टीमों ने हमें कई रोमांचक मौक़े दिए और कई दिलचस्प यादें भी हासिल हुई। कोई खिलाड़ी अंपायर के निर्णय से खुश नहीं था तो कोई अपनी बल्लेबाज़ी का नया रूप लेकर उतरा। कुछ प्रशंसक अपने नए कप्तान से खुश नहीं थे और एक टीम ऑनर अपने कप्तान से। ऐसे ही लीग मैचों के दिलचस्‍प क़िस्सों पर एक नज़र डालते हैं।

कोहली का नो बॉल पर टकराव

21 अप्रैल को सीज़न के 36वें मैच में ईडन गार्डंस में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के ख़‍िलाफ़ रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB) 222 रनों का पीछा कर रही थी। तीसरा ओवर हर्षित राणा करने आए। विराट कोहली पॉपिंग क्रीज़ से बाहर खड़े हुए थे। हर्षित राणा ने पहली ही गेंद ऊंची फुल टॉस डाली और कोहली भौचक्‍के रहकर डिफ़ेंस करने गए लेकिन गेंद सीधा वापस हर्षित के हाथों में चली गई। अंपायर ने नो बॉल नहीं दी लेकिन कोहली ने तुरंत रिव्‍यू लिया। बाद में टीवी अंपायर ने पाया कि अगर कोहली पॉपिंग क्रीज़ में होते तो यह गेंद उनकी कमर की ऊंचाई से नीची ही रहती। तीसरे अंपायर ने भी मैदानी अंपायर के फ़ैसले को सही ठहराया और इसके बाद कोहली को मैदानी अंपायरों से बहस करते देखा गया। इस बहस में दूसरे छोर पर खड़े कप्‍तान फ़ाफ़‍ डुप्‍लेसी भी उतर गए। इस घटना से कोहली पर मैच फ़ीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगा था। IPL में पहली बार नो बॉल की ऊंचाई मापने के लिए नई बॉल-ट्रैकिंग तक़नीक का इस्‍तेमाल किया गया था।
तब डुप्‍लेसी ने मैच के बाद कहा था, "यह अजीब है, लेकिन नियम तो नियम हैं। विराट और मैं सोच रहे थे कि गेंद कमर से ऊपर थी। ऐसे फ़ैसले से हमेशा एक टीम खुश होती है तो दूसरी निराश होती है।"

धोनी का बल्लेबाज़ी क्रम

चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के बल्‍लेबाज़ एमएस धोनी ने इस सीज़न 11 पारियों में 161 रन बनाए हैं। वह अधिक 18 से 20वें ओवर में बल्‍लेबाज़ी करने आए लेकिन इस बार वह अलग ही लय में नज़र आ रहे थे। वह इतनी क्‍लीन हिटिंग कर रहे थे कि यह चर्चा का विषय बन गया कि वह बल्‍लेबाज़ी क्रम में ऊपर क्‍यों नहीं आते। कई पूर्व दिग्‍गज खिलाड़‍ियों ने भी उनके बल्‍लेबाज़ी क्रम पर ऊपर आने की बात कही। इस बीच टीम के प्रमुख कोच स्‍टीफ़न फ़्लेमिंग को भी इसको लेकर जवाब देना पड़ गया था। फ़्लेमिंग से पूछे जाने पर उन्‍होंने कहा कि धोनी के घुटने में पिछले साल वाली चोट और उनकी उम्र को देखते हुए उनका वर्कलोड मैनेज किया जा रहा था। फ़्लेमिंग ने कहा था, "अभी हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती यह है कि हमारे पास एक ही अच्‍छा बैकअप कीपर है, लेकिन वह एमएस धोनी नहीं है। हम चाहते हैं कि धोनी मैदान पर रहकर अपना सर्वश्रेष्‍ठ दें जो दो-तीन-चार ओवर बल्‍ले से और अपनी कीपिंग से, वहीं एक नए कप्‍तान के लिए मैदान पर उनकी सलाह भी बहुत अहम है।"

हार्दिक पंड्या की हूटिंग

हार्दिक पंड्या को MI ने सीज़न शुरू होने से पहले गुजरात टाइटंस (GT) से कैश डील में अपने साथ लिया था और उन्‍हें कप्‍तान बनाया गया था। यहीं से हार्दिक की हूटिंग का सिलसिला पहले सोशल मीडिया पर शुरू हुआ। इसके बाद जब टीम अहमदाबाद में अपना पहला मैच खेलने गई तो यहां पर पहली बार मैदान में हार्दिक की हूटिंग की शुरुआत हुई। कई फ़ैंस ने जाहिर किया कि वे रोहित शर्मा को कप्‍तानी से हटाए जाने पर खुश नहीं है। इसके बाद यह पूरे सीज़न ख़ासकर मुंबई के वानखेड़े स्‍टेडियम में चलता रहा। कई बार तो कोहली और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों को फ़ील्ड में दर्शकों से संकेत करना पड़ा कि वे ऐसा ना करें। MI ने अंक तालिका में सबसे आख़‍िर में समाप्‍त किया। सीज़न के अंत में टीम के प्रमुख कोच मार्क बाउचर ने भी स्वीकार किया कि हार्दिक इस बात से काफ़ी आहत हुए हैं और इसका असर उनके प्रदर्शन पर भी पड़ा है।
सीज़न के आख़‍िरी मैच में हार के बाद बाउचर ने कहा था, "फ़ैंस के द्वारा इस तरह की प्रतिक्रियाओं को सुनना अच्छा अनुभव नहीं था। मुझे हार्दिक के लिए काफ़ी बुरा लग रहा था। इस तरह के अनुभव से गुजरना कहीं से भी आसान नहीं होता है। टीम में कई ऐसी चीज़ें हैं, जिनके बारे में हमें चर्चा करनी होगी। हालांकि अभी तुरंत उन चीज़ों पर चर्चा करना सही नहीं है। अभी टीम का हर सदस्य काफ़ी भावुक और निराश है। इसी कारण से हम अभी कोई फ़ैसला नहीं लेने वाले हैं। सबसे पहले हमें यह मूल्यांकन करना है कि हमने कहां ग़लती की।"

संजू सैमसन की कैच पर नाराज़गी

7 मई को 56वें मैच में राजस्थान रॉयल्स (RR) दिल्ली में दिल्ली कैपिटल्स (DC) के ख़‍िलाफ़ खेल रही थी और 222 रनों का पीछा कर रही थी। यशस्‍वी जायसवाल और जॉस बटलर के आउट होने के बाद संजू सैमसन और रियान पराग में अच्‍छी साझेदारी पनप रही थी और वे टीम को जीत की ओर ले जा रहे थे। मुकेश कुमार 16वां ओवर करने आए और चौथी गेंद पर सैमसन ने लांग ऑन की ओर उठाकर शॉट खेला। शे होप लांग ऑन पर खड़े थे। वह अपनी बायीं ओर गए और छाती पर कैच लपका। यह कैच बाउंड्री के बेहद नज़दीक लपका गया था। मैदानी अंपायरों ने कैच की सफ़ाई के लिए तीसरे अंपायर का सहारा लिया, जहां तीसरे अंपायर होप से संतुष्‍ट दिखे। 86 रनों पर अंपायर के आउट देने के बाद सैमसन को मैदानी अंपायरों से बहस करते हुए पाया गया और बाद में उन पर मैच फ़ीस का 30 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया और RR 20 रनों से यह मैच हार गई। तब मैच के बाद RR के टीम डायरेक्‍टर कुमार संगकारा ने एक मुश्किल फै़सला लेने के लिए तीसरे अंपायर से सहानुभूति व्यक्त की थी।
मैच के बाद पत्रकार वार्ता में उन्‍होंने कहा था, "यह रिप्‍ले और एंगल पर निर्भर करता है और कई बार आप सोचते हैं कि पैर छुआ है। लेकिन तीसरे अंपायर के लिए जज करना मुश्किल है। मैच बहुत अहम मोड़ पर था तो क्रिकेट में ऐसा होता है। हमारी इस बार अलग-अलग राय है। दिन के अंत में आपको उस फ़ैसले को स्‍वीकार करना होता है जो अंपायर ने लिया। अगर हमारी इस पर कुछ अलग राय है तो हम अंपायर से इस पर बात करेंगे और मामले को सुलझा लेंगे। लेकिन उस‍ विकेट के बावजूद हमें मैच जीतना चाहिए था।"

राहुल-गोयनका की कैमरे पर बहस

8 मई को 57वें मैच में LSG घर में सनराइज़र्स हैदराबाद (SRH) का सामना कर रही थी। पहले बल्‍लेबाज़ी करते हुए LSG ने चार विकेट पर 165 रनों का स्‍कोर बनाया। जवाब में SRH ने मात्र 9.4 ओवर में ही बिना कोई विकेट गंवाए इस लक्ष्‍य को हासिल कर लिया। अभिषेक शर्मा और ट्रेविस हेड ने गेंदबाज़ों की जमकर ख़बर ली और कप्‍तान केएल राहुल समझ ही नहीं पा रहे थे कि क्‍या किया जाए। मैच जब ख़त्‍म हुआ तो टीम मालिक संजीव गोयनका को केएल राहुल से बातचीत करते देखा गया। वीडियो में गोयनका के हावभाव से समझ आ रहा था कि वह राहुल से नाराज हैं और उन पर अपना गुस्‍सा जाहिर कर रहे हैं, जबकि राहुल इस बीच केवल उनकी बात सुन रहे थे। यह मामला तूल पकड़ गया और गोयनका की सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हुई। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो के टाइमआउट शो पर मिचेल मैक्‍लेनघन ने कहा था, "मैं राहुल के बारे महसूस कर सकता हूं। उन्‍हें खुलेआम इस तरह से राहुल पर नहीं बरसना चाहिए था।"
इसके कुछ दिन बाद LSG ने सफ़ाई के लिए एक पोस्‍ट शेयर किया जिसमें गोयनका, राहुल के साथ हाथ मिलाते नज़र आए। पोस्ट में कहा गया कि गोयनका ने अपने दिल्ली स्थित आवास पर राहुल और बाक़ी सदस्‍यों को डिनर पर आमंत्रित किया था। तब टीम के कोचिंग स्टाफ़ में शामिल लांस क्‍लूजनर और जस्टिन लैंगर ने कहा था कि यह मामला तभी ख़त्‍म हो गया था, लेकिन यह LSG के लिए निराशाजनक सीज़न रहा है।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26