मैच (19)
IPL (3)
SA v SL (W) (1)
USA vs CAN (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

जेफ़ थॉमसन : बुमराह को अब तीनों फ़ॉर्मेट नहीं खेलने चाहिए

तेज़ गेंदबाज़ के लगातार चोटिल रहने से चिंतित है पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी

जसप्रीत बुमराह पीठ की चोट के चलते टी20 विश्व कप 2022 से बाहर हो गए  •  Associated Press

जसप्रीत बुमराह पीठ की चोट के चलते टी20 विश्व कप 2022 से बाहर हो गए  •  Associated Press

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ जेफ़ थॉमसन का मानना है कि जसप्रीत बुमराह को अगर अपना करियर लंबा करना है तो वह तीनों फ़ॉर्मेट में लंबे समय तक नहीं खेल सकते हैं। उनका कहना है कि अगर इस कार्यभार के साथ कोई भी तेज़ गेंदबाज़ तीनों फ़ॉर्मेट खेलेगा तो उसके चोटों से जूझने का ख़तरा बढ़ जाएगा।
फ़िलहाल बुमराह पीठ की चोट के कारण भारतीय टीम से बाहर हैं। इस चोट के कारण ही वह 2022 में बहुत अधिक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल सके हैं और उन्हें टी20 विश्व कप से भी बाहर होना पड़ा।
51 टेस्ट में 200 विकेट लेने वाले अपने समय के घातक गेंदबाज़ थॉमसन कहते हैं, "तीनों फ़ॉर्मेट खेलने के कारण बुमराह के शरीर पर बहुत भार है और हमेशा उनके चोटिल होने का ख़तरा बना रहता है। यह निर्णय बुमराह को ही लेना होगा कि वह कौन सा फ़ॉर्मेट खेलना चाहते हैं और कौन सा नहीं। हां, वनडे में आपको बस 60 और टी20 में बस 24 गेंदें मिलती है, वहीं टेस्ट में आपको अपना कौशल दिखाने के लिए कोई बंदिश नहीं होती। अब इस तर्क से आप समझ सकते हैं कि उन्हें कौन सा फ़ॉर्मेट खेलना चाहिए।"
हालांकि थॉमसन ने यह भी कहा कि अब लगभग हर साल आईसीसी के सीमित ओवर के वैश्विक टूर्नामेंट होते हैं, ऐसे में बुमराह को एक व्यवहारिक निर्णय लेना चाहिए। वह कहते हैं, "कोई भी खिलाड़ी बस एक दशक तक ही अपने खेल में शीर्ष पर रह सकता है। तो खिलाड़ियों को भावुक होकर नहीं बल्कि बहुत सोच-समझ कर खेलना चाहिए। आपको देखना होगा कि आप कब और कहां खेलकर, अपना सर्वश्रेष्ठ देकर, अपने देश की सेवा कर सकते हैं। अगर वह सीमित ओवर क्रिकेट खेलकर अपनी टीम को विश्व कप जितवा सकते हैं तो उन्हें निश्चित रूप से सफ़ेद गेंद क्रिकेट भी खेलना चाहिए। हां, मेरा बस यह कहना है कि जिस तरह से वह बार-बार चोटिल हो रहे हैं, उन्हें हर फ़ॉर्मेट नहीं खेलना चाहिए।"
अपने यॉर्कर और बाउंसर से बल्लेबाज़ों को डराने वाले थॉमसन का मानना है कि हालिया समय में तेज़ गेंदबाज़ी के स्तर में गिरावट आई है। वह कहते हैं, "सबको पता है कि अंतिम ओवरों में यॉर्कर सबसे प्रभावी गेंद होती है लेकिन कौन सा तेज़ गेंदबाज़ निरंतरता के साथ एक ही ओवर में 4-5 यॉर्कर डाल सकता है? क्यों गेंदबाज़ यॉर्कर के बाद कोई ख़राब गेंद फेंक देते हैं? अगर आप निरंतरता के साथ गेंदबाज़ी नहीं कर सकते हैं तो निश्चित रूप से स्तर में गिरावट आएगी।"