मैच (11)
आईपीएल (2)
RHF Trophy (4)
Pakistan vs New Zealand (1)
WT20 Qualifier (4)
फ़ीचर्स

तमिलनाडु, मुंबई और एक रोचक सेमीफ़ाइनल

इस सीज़न दोनों ही टीम लय में नज़र आ रही हैं

तमिलनाडु ने पिछली बार 2016-17 में रणजी का सेमीफ़ाइनल खेला था  •  PTI

तमिलनाडु ने पिछली बार 2016-17 में रणजी का सेमीफ़ाइनल खेला था  •  PTI

तमिलनाडु ने पिछली बार 2016-17 में रणजी ट्रॉफ़ी सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई थी। तब अपना प्रथम श्रेणी डेब्यू कर रहे पृथ्वी शॉ ने उनके ख़िलाफ़ दूसरी पारी में शतक जड़कर मुंबई की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। अब 2023-24 में एक बार फिर यह दोनों टीमें सेमीफ़ाइनल में एक दूसरे के ख़िलाफ़ भिड़ेंगी। तमिलनाडु ने अंतिम बार 2014-15 में रणजी ट्रॉफ़ी का फ़ाइनल खेला था।
मुंबई ने इस सीज़न 38 टीमों में सर्वाधिक अंक अर्जित किए हैं। जबकि पहले दो मैच में सिर्फ़ एक अंक अर्जित करने वाली तमिलनाडु की टीम ने अपने पिछले छह में से पांच मैच जीते हैं। तमिलनाडु के पास कोचिंग स्टाफ़ में सुलक्षण कुलकर्णी मौजूद हैं जोकि मुंबई के लिए बतौर खिलाड़ी और कोच भी रणजी ट्रॉफ़ी जीत चुके हैं। उनके दल में वॉशिंगटन सुंदर, बी साई सुदर्शन के साथ साथ बी इंद्रजीत और एन जगदीशन मौजूद रहेंगे।
पिछले कुछ समय में तमिलनाडु ने भारतीय क्रिकेट के परिदृश्य में अपनी एक अलग पहचान बनाई है, जिसका श्रेय बहुत हद तक तमिलनाडु प्रीमियर लीग को भी जाता है जिसने वरुण चक्रवर्ती, टी नटराजन और शाहरुख़ ख़ान जैसे खिलाड़ियों को तलाशा है। तमिलनाडु रेड बॉल क्रिकेट में उतना भी पीछे नहीं रहा है लेकिन इस दौर में आर अश्विन, मुरली विजय, दिनेश कार्तिक, अभिनव मुकुंद, एस बद्रीनाथ और एल बालाजी जैसे अनुभवी खिलाड़ियों के खेलने के बावजूद वह अच्छी लय को बरकरार नहीं रख पाया है।
कुलकर्णी ने ESPNcricinfo से कहा, "जब मैं पहली बार तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन के साथ मीटिंग के लिए चेन्नई आया तब एन श्रीनिवासन सर ने मुझसे पहला सवाल यही पूछा कि 'आप तमिलनाडु रणजी ट्रॉफ़ी कैसे जिताएंगे?' यह एक ऐसा लक्ष्य है जिसे तमिलनाडु काफ़ी समय से हासिल करना चाहता है।"
तमिलनाडु की गेंदबाज़ी सबसे अधिक उनके स्पिनर्स पर निर्भर करती है, जिसमें सर्वाधिक 47 विकेट हासिल करने वाले आर साई किशोर और 38 विकेट चटकाने वाले एस अजीत राम शामिल हैं।
यही वजह है कि उन्हें कुलदीप सेन को अपने दल में शामिल करना पड़ा, हालांकि कुलदीप को वैसे अवसर नहीं मिल पाए जैसी उन्हें उम्मीद थी। लेकिन संदीप वारियर ने उनके लिए बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। वारियर ने तीन सीज़न पहले केरला का साथ छोड़ दिया था और इस सीज़न उन्होंने अपनी गेंदबाज़ी और ख़ासकर लंबे स्पेल डालने की क्षमता से प्रभावित भी किया है। उन्होंने अब तक 22.82 की औसत से 23 विकेट लिए हैं।
कुलकर्णी ने कहा, "संदीप ने काफ़ी प्रभावित किया है और उनकी गेंदबाज़ी देखते ही बनती है। साई किशोर ख़ुद भी गेंदबाज़ों के कप्तान हैं। उनकी कप्तानी के भीतर विपक्षी टीम को पूरी तरह से धराशाई करने और वापसी ना करने देने की सोच है। सीज़न की शुरुआत हमारे लिए अच्छी नहीं रही थी लेकिन इसके बावजूद यह टीम घबराई नहीं।"
तमिलनाडु के सामने मुंबई की चुनौती है लेकिन ख़ुद मुंबई इस समय में अपनी आंतरिक चुनौतियों से जूझ रही है। कप्तान अजिंक्य रहाणे को अपनी फ़ॉर्म की तलाश है। सरफ़राज़ ख़ान इस समय भारतीय टीम के साथ मौजूदा हैं, ऑलराउंडर शिवम दुबे साइड स्ट्रेन के चलते पहले ही बाहर हो चुके हैं। शॉ ने भी हाल ही में चोट के बाद वापसी की है। हालांकि इस दल में मुशीर ख़ान, शार्दुल ठाकुर और शम्स मुलानी जैसे खिलाड़ी भी हैं जिन्होंने टूर्नामेंट में ज़रूरत पड़ने पर टीम के लिए अहम भूमिका निभाई है।
इन सबके बीच रहाणे को भी भरपूर बैकिंग मिल रही है, जो अब तक दस परियों में सिर्फ़ 115 रन बना पाए हैं। इसके श्रेय ख़ुद रहाणे को भी जाता है क्योंकि राष्ट्रीय टीम से बाहर होने के बावजूद उन्होंने घरेलू क्रिकेट खेलने का फ़ैसला किया वह भी तब जब IPL बनाम रणजी ट्रॉफ़ी की बहस के बीच श्रेयस अय्यर और इशान किशन को सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से हाथ धोना पड़ गया। अय्यर के लिए भी सेमीफ़ाइनल मुक़ाबला ख़ुद को साबित करने का एक सुनहरा अवसर है। जहां तक रहाणे की बात है तो भले ही उनके लिए भारतीय टीम के दरवाज़े फ़िलहाल बंद नज़र आ रहे हों लेकिन लगभग एक दशक पहले उन्होंने लगातार 14 मैच तक गैंग पर बैठे रहने के बावजूद मुंबई के लिए ही रन बनाकर भारतीय टेस्ट इलेवन में अपनी जगह बनाई थी।
इससे अधिक रणजी में रोचक सेमीफ़ाइनल और क्या होगा?

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं