मैच (13)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
फ़ीचर्स

आंकडे़ झूठ नहीं बोलते: एडिलेड में हमेशा सुपरहिट रहे हैं कोहली

इस विश्व कप में इंग्लैंड का सिरदर्द बन रहे हैं स्पिन गेंदबाज़

कोहली ने एडिलेड में दो टी20 मैच खेले हैं और दोनों  मैचों में उन्होंने अर्धशतक लगाया है  •  AFP via Getty Images

कोहली ने एडिलेड में दो टी20 मैच खेले हैं और दोनों मैचों में उन्होंने अर्धशतक लगाया है  •  AFP via Getty Images

गुरुवार को एडिलेड में होने वाले टी20 विश्व कप के दूसरे सेमीफ़ाइनल में भारत और इंग्लैंड आमने-सामने है। भारत ने जहां बिनी किसी तकलीफ़ के सेमीफ़ाइनल में जगह बनाई थी तो इंग्लैंड मेज़बान ऑस्ट्रेलिया से रन रेट के के कारण अंतिम चार में पहुंचा था। आइए उन आंकड़ों को टटोलते हैं जिनका प्रभाव इस मैच पर पड़ने वाला है।
कोहली ने इस मैदान पर शतकों का पंजा खोला है
ऑस्ट्रेलिया में विराट कोहली का बल्ला ख़ूब बोलता है। यहां उन्होंने 15 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में 77.4 की औसत और 143 के स्ट्राइक रेट से हुए 697 रन बनाए हैं। साथ ही एडिलेड में वह बल्लेबाज़ी का पूरा लुत्फ़ उठाते हैं। यहां खेले दोनों टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में उन्होंने अर्धशतक लगाया है। इस मैदान पर वनडे और टेस्ट में उनका औसत 60 से ज़्यादा का है। यही वह मैदान है जहां कोहली ने सबसे ज़्यादा पांच शतक लगाए हैं।
भारतीय प्रशंसकों के लिए ख़ुश होने का एक और कारण यह है कि टी20 अंतर्राष्ट्रीय में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों के मामले में कोहली दूसरे नंबर पर हैं। उन्होंने इंग्लैंड के विरूद्ध 19 मैचों में 39.3 की औसत और 137 के स्ट्राइक रेट से 589 रन बनाए हैं।
इंग्लैंड के लिए स्पिन बनी समस्या
इंग्लैंड के बल्लेबाज़ इस विश्व कप में तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ 9 के रन रेट से रन बना रहे हैं लेकिन स्पिन के ख़िलाफ़ उनका प्रदर्शन काफ़ी ख़राब है। धीमे गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ उनके बल्लेबाज़ों का रन रेट छह का हो जा रहा है। तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ इंग्लैंड के बल्लेबाज़ औसतन हर छठी गेंद पर बाउंड्री मारते हैं लेकिन स्पिन के ख़िलाफ़ वे एक बाउंड्री मारने के लिए औसतन 15.6 गेंद लेते हैं।।
रो-अब-हिट करो
रोहित शर्मा के लिए यह विश्व कप एक बल्लेबाज़ के तौर पर कुछ ख़ास नहीं रहा है। अब तक उन्होंने कुल पांच मैचों में सिर्फ़ 89 रन बनाए हैं, जिसमें नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ एक अर्धशतक शामिल है। इस साल टी20 मैचों में वह 15 बार 20 से कम के स्कोर पर आउट हुए हैं। इस विश्व कप में वह चार बार 20 से कम के स्कोर पर आउट हुए हैं।
यही नहीं 2011 से 2021 तक रोहित अपने सबसे प्रिय शॉट (पुल) से टी20 अंतर्राष्ट्रीय में 331 रन बनाते हुए 10 बार आउट हुए थे। उस दौरान पुल शॉट पर उनका औसत 33.1 का था। वहीं 2022 में रोहित ने पुल शॉट लगाते हुए सिर्फ़ 117 रन बनाए हैं और आठ बार आउट हुए हैं। इस दौरान उनका औसत 14.6 का रहा है।
राहुल के बल्ले को बोलना ज़रूरी
पिछले चार सालों में के एल राहुल का स्ट्राइक रेट और औसत दोनों में गिरावट देखने को मिल रहा है। 2019 और 2020 में राहुल का औसत क्रमश: 44.5 और 44.9 का था। वहीं उनका स्ट्राइक रेट इस दौरान 142 और 141 का था लेकिन पिछले दो सालों में उनका औसत 28.9 और 30.6 का रहा है, जबकि उनका स्ट्राइक रेट 131 और 127 का है। 2021 के बाद से राहुल जब भी 30 के कम रन बनाते हैं तो उनका स्ट्राइक रेट 84 का रहता है।
हार्दिक हार्ड हिट करने अलावा विकेट भी ले रहे हैं
साल दर साल टी20 अंतर्राष्ट्रीय में विकेट लेने के मामले में इस साल हार्दिक पंड्या ने सबसे ज़्यादा विकेट(20) लिए हैं। साथ ही इस विश्व कप में भारत के तरफ़ से वह दूसरे सबसे ज़्यादा (8) विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं। हालांकि हार्दिक का हालिया बल्लेबाज़ी फ़ॉर्म संदेह के घेरे में है। हार्दिक ने इस साल खेले गए अपने पहले सात मैचों में 62.8 की औसत और 174 के स्ट्राइक रेट से कुल 251 रन बनाए थे। वहीं पिछले 15 मैचों में उन्होंने सिर्फ़ 250 रन बनाया है। इस दौरान उनका औसत 20.8 और स्ट्राइक रेट 113 का रहा है।
पहले बल्लेबाज़ी करते हुए आक्रामक हो गई है भारतीय टीम
पिछले विश्व कप तक भारतीय टीम पहले बल्लेबाज़ी करते हुए सिर्फ़ 7.7 के रन रेट से रन रन बनाती थी। हालांकि उसके बाद भारतीय टीम के बल्लेबाज़ों ने काफ़ी आक्रामक बल्लेबाज़ी की है और अब वह पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 9.3 की रन गति से रन बनाते हैं। इस मामले में सिर्फ़ इंग्लैंड और साउथ अफ़्रीका ही ऐसी टीम है, जो भारत से आगे है।

राजन राज ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं