मैच (6)
आईपीएल (2)
T20I Tri-Series (1)
ENG v PAK (1)
CE Cup (1)
USA vs BAN (1)
ख़बरें

एमसीसी ने आईसीसी से कहा खेल को तेज़ बनाइए

एमसीसी ने यह भी सिफ़ारिश की है कि अंपायर बार-बार समय बर्बाद करने के लिए पेनाल्टी रन से संबंधित कानूनों को लागू करें, जिससे ड्रिंक्‍स ब्रेक का समय बेहतर होगा

The England players ponder whether or not to go for a review, England vs South Africa, 2nd Test, Manchester, 3rd day, August 27, 2022

इंग्लैंड-न्यूज़ीलैंड टेस्ट सीरीज़ में प्रत्येक दिन के खेल में औसतन 31.5 मिनट गंवाए गए  •  Getty Images

मेरिलेबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने अपनी विश्व क्रिकेट समिति के माध्यम से आईसीसी से डीआरएस की समीक्षा कर इसको फिर से शुरू करने और खेल में धीमी ओवर दरों के मुद्दे को हल करने के लिए डीआरएस प्रक्रिया को मज़बूत करने के लिए कहा है।
क्रिकेट के नियमों के रक्षक एमसीसी ने जून में इंग्‍लैंड और न्यूज़ीलैंड के बीच तीन टेस्ट मैचों के दौरान प्रत्येक दिन के खेल में कितना समय गंवाया, इस पर शोध के बाद सिफ़ारिशें कीं। इसने यह भी सिफ़ारिश की है कि अंपायर पेनाल्‍टी रनों पर खेल के कानूनों को सख्‍़ती से लागू करें जिससे अब तक समय की बर्बादी होती आई है। ऐसा होने से ड्रिंक्‍स ब्रेक के समय को बेहतर किया जा सकता है।
यह सिफ़ारिशें ख़ास तौर से टेस्‍ट क्रिकेट के लिए हैं।
कैसे डीआरएस की प्रक्रिया को तेज़ किया जा सकता है
यह सिफ़ारिशें डीआरएस प्रक्रिया के दो पहलू पर हैं। पहली, खिलाड़ी बेवजह रिव्‍यू लेने में समय बर्बाद नहीं करें, दूसरी अंपायर रिव्‍यू प्रक्रिया में बेवजह अनावश्‍यक कदम उठाते हुए समय नष्‍ट नहीं करें।
एमसीसी ने एक बयान में कहा, "सामान्य तौर पर एमसीसी की सिफ़ारिशें उस पर है जब खेल के मैदान पर दस्ताने, ड्रिंक्स आदि के साथ विकल्प की अनुमति दी जाती है। ऐसे समय पर मापदंडों को कड़ा बनाने के लिए आईसीसी के खेल नियमों की समीक्षा की जानी चाहिए। ख़ास तौर पर जब फ़ी‍ल्‍डिंग टीम एक नॉट आउट फ़ैसले पर रिव्‍यू लेती है या जब अंपायर नॉट आउट के ऑफ़्ट सिग्नल पर रिव्‍यू लेते हैं तो फ़ी‍ल्‍डिंग को ज़ल्‍द ही अपनी पॉज़‍िशन पर लौटाना चाहिए और अगली गेंद डालने के लिए तैयार रहना चाहिए।
"बल्‍लेबाज़ों को भी निकट में रहना चाहिए जिससे तुरंत खेल शुरू हो सके। अगर फ़ैसला आउट में तब्‍दील होता है तो तुरंत ड्रिंक्‍स नहीं होना चाहिए, जिससे फ़ी‍ल्‍डिंग टीम के पास जश्‍न मनाने का समय तो बचेगा।"
डीआरएस की समीक्षा में तेज़ी लाने के लिए, एमसीसी ने सिफ़ारिश की है कि "जैसे ही टीवी प्रोडक्शन टीम को पता चले कि यह नॉट आउट है तो मानक प्रोटोकॉल को छोटा कर दिया जाना चाहिए। उदाहरण के तौर पर, अभी एलबीडब्‍ल्‍यू पर इन साइड ऐज़ की भी समीक्षा की जाती है, यही देखने के लिए कि गेंद स्‍टंप्‍स पर नहीं लग रही है। अगर बॉल ट्रेकिंग आ जाती है और फै़सला नॉट आउट रहता है तो टीवी अंपायर को इसको तुरंत बताया जाना चाहिए।"
समय बर्बादी के लिए पेनाल्‍टी रन
साफ़ तौर पर एमसीसी चाहती है कि अंपायर समय की बर्बादी को लेकर अधिक सतर्क रहें। आईसीसी के कानून की धारा 41.9 और 41.10 के मुताबिक़ अगर गेंदबाज़ी या बल्‍लेबाज़ी टीम देरी करती है तो अंपायर को यह हक़ है कि वह आधिकारिक चेतावनी जारी करें यदि किसी भी अनावश्‍यक वजह से मैच में देरी हो रही हो या टीम किसी अन्‍य वजह से समय की बर्बादी कर रही हो तो इसको दोबारा दोहराने पर पांच रनों की पेनाल्‍टी होनी चाहिए।
आईसीसी के कानून की धारा 41.9 कहती है, "अगर ओवर के बीच में समय की बर्बादी होती है, तो अंपायर सीधा क्षेत्ररक्षण टीम के कप्‍तान से गेंदबाज़ को सस्‍पैंड करने को कह सकता है। इसके बाद वह गेंदबाज़ दोबारा से इस पारी में गेंदबाज़ी नहीं कर सकता है।"
ड्रिंक्‍स मैच के प्रवाह को बनाने के लिए होनी चाहिए ना कि इसमें बाधा डाले ने के लिए
एमसीसी की रिसर्च ने पाया कि टेस्‍ट के दौरान ड्रिंक्‍स तभी लिया जा रहा था जब रिव्‍यू लिया जाए या फ‍िर विकेट गिरे।
इसके लिए खोए गए समय में कटौती करने के लिए इसमें कहा गया है कि ड्रिंक्‍स के अंतराल को खेल में अन्य स्वाभाविक रूप से होने वाले ब्रेक के साथ मेल खाने के लिए समायोजित किया जाना चाहिए। "यदि कोई विकेट गिरता है या डीआरएस की समीक्षा उनके निर्धारित समय के 15 मिनट के भीतर की जाती है, तो ड्रिंक्‍स अंतराल तुरंत लिया जाना चाहिए और अगले निर्धारित ब्रेक पर इसको दोबारा नहीं लिया जाना चाहिए।"
मैच के दौरान असल में कितने समय की कटौती हो रही है?
एमसीसी ने पाया है कि इंग्‍लैंड बनाम न्‍यूज़ीलैाड टेस्‍ट सीरीज़ के दौरान एक दिन में में 31.5 मिनट का समय गंवाया गया है। इसमें से ओवरों के बीच खेल को दोबारा शुरू करने में लगने वाला समय देरी का प्रमुख स्रोत था।
तीन मिनट की बर्बाद गेंद को देखने या बदलने में हुई ढाई मिनट का समय अन्‍य साजो सामान को बदलने में लगा दो मिनट का समय तब लगा जब गेंदबाज़ साइटस्‍क्रीन को एडज़स्‍ट करने में ले गए
  • 20 मिनट एंड्स को बदलने में लगे
  • चार मिनट रिव्‍यू के दौरान गंवाए गए
  • तीन मिनट की बर्बाद गेंद को देखने या बदलने में हुई
  • ढाई मिनट का समय अन्‍य साजो सामान को बदलने में लगा
  • दो मिनट का समय तब लगा जब गेंदबाज़ साइटस्‍क्रीन को एडज़स्‍ट करने में ले गए
एमसीसी ने अपनी रिसर्च में यह भी पाया कि काउंट्री चैंपियनशिप में टेस्‍ट क्रिकेट की तुलना में 10 से 15 सेकेंड जल्‍द ओवर समाप्‍त हुआ। जबकि ओवर के बदलने में औसतन टेस्‍ट में 55 सेकेंड और काउंटी में 45 सेकेंड का समय लगा।
वहीं डीआरएस की प्रक्रिया में एमसीसी ने पाया कि सीरीज़ के दौरान 64 मिनट का नुकसान हुआ। 47 मिनट खिलाड़ी के रिव्‍यू लेने में और 11 मिनट अंपायर के रिव्‍यू लेने पर। "वहीं डीआरएस के बाद क्षेत्ररक्षण टीम को दोबारा से अगली गेंद करने में 25 सेकेंड का समय लगा, जब अंपायर ने डीआरएस के बाद बताया कि फ़ैसला नॉट आउट है।"
विश्‍व कमेटी में कौन हैं?
माइक गैटिंग (चेयरमैन), जेमी कॉक्‍स, सूज़ी बेट्स, एलेस्टर कुक, कुमार धर्मसेना, सौरव गांगुली, टिम मे, ब्रैंडन मक्‍कलम, रमीज़ राजा, कुमार संगाकारा, वींस वान डेर बिज्‍ल और क्रिकेट वेस्‍टइंडीज़ के अध्‍यक्ष रिकी स्‍केरिट।

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।