Matches (13)
WI v BDESH (1)
ENG v NZ (1)
IND-W in SL (1)
IRE v IND (1)
IND in ENG (1)
Ranji Trophy (1)
County DIV1 (4)
County DIV2 (3)
News

आशा और प्रेरणा खोना आसान है, लेकिन मैं ऐसा नहीं करूंगा : अश्विन

2017 के बाद से यह एक टी20 गेंदबाज़ के रूप में उभरे ऑफ़ स्पिनर ने कहा, फ़िंगर स्पिन की धारणा को बदलने की ज़रूरत

R Ashwin celebrates with his team-mates, Afghanistan vs India, T20 World Cup, Group 2, Abu Dhabi, November 3, 2021

अश्विन ने अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ काफ़ी किफ़ायती गेंदबाज़ी की थी।  •  Associated Press

वर्तमान में जीना, चुनौतियों को स्वीकार करना, परिस्थितियों को समझना, कम समय में प्रदर्शन करने की तैयारी करना, जीवन के चक्रों को समझना और को पूरा करना और जीवन के पैटर्न को समझना। रविचंद्रन अश्विन को एक प्रेरक वक्ता के रूप में ग़लत माना जा सकता था, लेकिन वह केवल अपने विचार बता रहे थे कि कैसे वह 35 साल की उम्र में अपने क्रिकेट और जीवन को आगे बढ़ा रहे हैं।
बुधवार को अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ अश्विन चार साल बाद भारत के लिए नीली जर्सी में दिखे। इस पर उन्होंने कहा कि वह कुछ समय के लिए निराशा या परिस्थितियों से प्रभावित हुए बिना आगे बढ़ रहे थे। इस मैच में उन्होंने अपने चार ओवरों में 14 रन देकर दो विकेट लिए, जिसने बीच के ओवरों में अफ़ग़ानिस्तान को ख़ासा प्रभावित किया। उन्होंने भारत को वह नियंत्रण दिया जो उन्हें पिछले दो मैच में नहीं मिल पाया था।
शुक्रवार को स्कॉटलैंड के ख़िलाफ़ मुक़ाबले से पहले उन्होंने कहा, "मेरे विश्व कप के लिए चुने जाने की ख़बर खुशी देने वाली थी, मुझे इस ख़बर को सुनकर मज़ा आया। मेरे पास विश्व कप में खेलने के विशेष सपने थे, टीम के लिए विशेष चीजें करना चाहता था और एक समय के बाद मैं ख़ुद को साबित करना चाहता था, चाहे वह सही हो या ग़लत, किसी और के लिए नहीं बल्कि ख़ुद के लिए।
"दुर्भाग्य से पहली दो हार के बाद, मैंने इसके बारे में थोड़ा कम महसूस किया, यह विशेष नहीं था, ऐसा कभी नहीं होता जब आप मैच हारते हैं। हो सकता है कि हमारे क्वालीफ़िकेशन की संभावना में थोड़ी कमी आई हो, लेकिन कल (बुधवार) की जीत के बाद (अफ़ग़ानिस्तान के ऊपर), हम अभी भी उम्मीद करते हैं कि चीज़ें सही होंगी। लेकिन हां, यह एक विशेष रात थी। हर एक गेंद जिसे मैं अंजाम देना चाहता था, वह सही थी।"
अश्विन 2017 में ऐसे समय में टीम स बाहर हुए जब टीम प्रबंधन कलाई के स्पिनरों के बारे में सोच रहे क्योंकि युज़वेंद्र चहल और कुलदीप यादव सीमित ओवरों के क्रिकेट में भारत के दो फ्रंटलाइन स्पिन विकल्प के रूप में उभरे। यह उस समय के आसपास था जब अश्विन एक शानदार रेड-बॉल फ़ॉर्म में चल रहे थे और एक टेस्ट गेंदबाज़ के रूप में शिखर पर थे।
सबसे पहले, उनके चयन नहीं होने को उन्हें "आराम" करना कहा गया। हालांकि, बाद में यह जल्द ही स्पष्ट हो गया कि चयनकर्ता और टीम प्रबंधन अलग-अलग दिशाओं में देख रहे थे। अश्विन का मानना ​​​​है कि उन्होंने अपने कौशल को दिखाने के लिए समय का बुद्धिमानी से उपयोग किया, जिसका वह अब टी20 विश्व कप में प्रदर्शन कर रहे हैं। उस दौरान कड़ी मेहनत करने के बाद अश्विन को अब उम्मीद है कि उंगलियों के स्पिनरों के बारे में धारणा बदल जाएगी।
उन्होंने कहा, "मैं यह नहीं कह सकता कि समय आ गया है, लेकिन उंगलियों के स्पिनरों के प्रति धारणा को बदलने की ज़रूरत है। 2017 के बाद से, जहां मैं अपने टेस्ट करियर के बहुत अच्छे दौर से गुजर रहा था, मुझे ऐसा लगा कि मैं अद्भुत स्टॉक गेंदें फ़ेंक रहा हूं और मुझे किसी और चीज की आवश्यकता नहीं है। लेकिन चैंपियंस ट्रॉफ़ी फ़ाइनल ( अश्विन का अफ़गानिस्तान से पहले सफेद गेंद का मैच) उन स्टेशनों में से एक था जहां मुझे रुकना था और अपने क्रिकेट के बारे में सोचना था।"
"तब से मैं एक टी20 गेंदबाज़ के रूप में विकसित हुआ हूं, मैंने बहुत अधिक ऐसी गेंदें फ़ेंकी हैं जिन्हें लोग कैरम बॉल, ऑफ़ स्पिन और आर्म बॉल कहते रहते हैं। मैं अलग-अलग कोण बनाने की कोशिश कर रहा हूं। गुलबदीन नायब (बुधवार को) को आउट करने के लिए कैरम बॉल के अलावा भी उसमें बहुत कुछ था।"
"मैंने इस पर काम किया है, और मेरे पास 2017 की तुलना में अब कई विकल्प हैं। जब मैं दायें हाथ के गेंदबाज़ को गेंदबाज़ी करता हूं, तो मैं बायें हाथ के स्पिनर या लेग स्पिनर की तरह सोचता हूं और जब मैं बायें हाथ के बल्लेबाज़ को गेंदबाज़ी करता हूं, तो मैं एक ऑफ़ स्पिनर की तरह सोचता हूं। सोच इरादे का को बढ़ाती है और इरादा अभ्यास से तब्दील हो जाता है।"
अश्विन ने कहा कि टीम से बाहर होने पर उन्होंने अपने कौशल पर काम किया, जिससे उन्हें सुधार का रास्ता खोजने में मदद मिली।
उन्होंने कहा, "मेरा मानना ​​​​है कि जीवन एक चक्र है, कुछ लोगों के लिए यह छोटा है, कुछ के लिए यह बड़ा है। यह निश्चित रूप से हमारे हाथ में नहीं है। मेरे लिए, मेरे जीवन और करियर में पैटर्न को समझना कुछ ऐसा है जो मैंने पिछले कुछ वर्षों में बहुत अच्छा किया है। जब भी मेरे पास बहुत अच्छा फ़ॉर्म रहा है, मैंने उसके बाद लंबे समय तक अच्छा नहीं किया, जिनके बारे में मैं बात नहीं करना चाहता, यह एक पैटर्न है जिसे मैंने अपनाया है।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सब ए़़डिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी सीनियर सब ए़डिटर निखिल शर्मा ने किया है।