ख़बरें

रोहित से कोहली : जो स्‍पेस मुझे आपसे और टीम प्रबंधन से मिला उसने मुझे निश्चिंत महसूस कराया

"टी20 क्रिकेट में हम बड़े हिट की बात करते हैं, लेकिन यह शतक सही उदाहरण है कि कैसे आप बड़े हिट पर फ़ोकस किए बिना अपनी पारी को बना सकते हैं"

रोहित शर्मा ने विराट कोहली के "काम के तरीक़ों" और अफ़गानिस्‍तान के ख़‍िलाफ़ उनके पहले टी20 अंतर्राष्‍ट्रीय शतक लगाने में "कुछ भी हो जाए हार नहीं मानने" वाले रवैये की तारीफ़ की है। इसके जवाब में कोहली ने भी वापसी का श्रेय रोहित और राहुल द्रविड़ को दिया। विराट छह सप्‍ताह के ब्रेक के बाद वापसी कर रहे थे।
बीसीसीआई के आधिकारिक वेबसाइट पर एक वीडियो इंटरव्‍यू में कोहली ने रोहित से कहा, "निजी तौर पर कहूं तो उस ब्रेक के दौरान मैंने 13-14 साल के लंबे समय में बल्‍ला भी नहीं उठाया था। मुझे आप लोगों [रोहित की ओर इशारा करते हुए] और टीम प्रबंधन से बहुत स्पष्टता मिली, मुझे बस बल्लेबाज़ी पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति दी। यह बहुत महत्वपूर्ण था
"जो स्‍पेस मुझे मिला उसने मुझे तनाव मुक्त अहसास कराया। जब मैं वापस आया तो मैं उत्‍साहित था कि किस तरह से टीम के लिए कुछ कर सकता हूं। इस तरह से खेलना मेरे लिए अहम था क्‍योंकि विश्‍व कप बड़ी चीज़ है और अगर मैं खेलता हूं तो मैं टीम के लिए बड़ा योगदान करना चाहता हूं।
"मैंने राहुल [द्रविड़] भाई से तीन चार दिन पहले बात की, जब पहले बल्‍लेबाज़ी आए तो ख़ासतौर पर मध्‍य ओवरों में कैसे मैं अपना स्‍ट्राइक रेट बढ़ा सकता हूं। मेरा केवल लक्ष्‍य यही था कि मुझे क्‍या बेहतर कना है, मैंने यह एशिया कप में कोशिश की। दिल से कहूं तो मैंने टी20 अंतर्राष्‍ट्रीय में शतक की उम्‍मीद नहीं की थी। मैं चौंक गया था और तुमने भी मुझसे कहा कि कोई भी तुमसे शतकों के सूखे को ख़त्‍म करने के लिए इस प्रारूप में नहीं देख रहा था। मुझे सुखद आश्चर्य हुआ, मैं ईमानदारी से कहता हूं आभारी हूं।"
कोहली ने एशिया कप की पांच पारियों में 147.59 के स्‍ट्राइक रेट से 276 रन बनाए। अफ़ग़ानिस्‍तान के ख़‍िलाफ़ शतक लगाने के बाद वह इस टूर्नामेंट में सबसे ज्‍़यादा रन बनाने वाले बल्‍लेबाज़ बने। उन्‍होंने दो अर्धशतक और एक शतक लगाया और यह 71वां शतक उनका पिछले तीन सालों में पहला शतक भी था।
उनका यह ख़ास शतक भी था। पहली 40 गेंद में उन्‍होंने 59 रन बनाए लेकिन अगली 21 गेंद में उन्‍होंने 63 रन बना डाले और उनके अंदर 1020 दिन के शतक के सूखे का कोई भी घबराहट भी नहीं थी। जब वह 94 रन पर थे तो उन्‍होंने छक्‍का लगाकर शतक पूरा किया।
वह स्पिन के ख़‍िलाफ़ आगे निकलकर रन बना रहे थे, यह देखने वाली बात थी, जो वह एशिया कप में ज्‍़यादा करते नज़र नहीं आए हैं। वह रन बनाने के विकल्‍प देख रहे थे। एक अप्रैल 2018 से एशिया कप की शुरुआत तक वह 7.9 प्रति गेंद पर टी20 में कदम निकालते थे। इस एशिया कप में ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो के डाटा के अनुसार उन्‍होंने प्रति 4.9 गेंद में यह काम किया।
कुछ अलग करने की चाहत में कोहली ऐसे शॉट खेले जो वह अक्‍सर नहीं खेलते हैं, जैसे स्‍वीप शॉट। मुजीब उर रहमान पर लगाया गया स्‍वीप शॉट उनका टी20 करियर में केवल 24वां स्‍वीप था, वह भी 1200 से ज्‍़यादा गेंद खेलते हुए। इसमें स्‍वीप, स्‍लॉग स्‍वीप सब शामिल है।
कोहली ने विस्‍तार से बताया कि कैसे उनका क्रिकेट के सभी अच्‍छे शॉट खेलने पर फ़ोकस है, यह नहीं सोचते हुए कि स्‍ट्राइक रेट क्‍या है या छक्‍का लगाना है। यह ऐसा था जो उनको लंबे समय से परेशान कर रहा था। उन्‍होंने स्‍वीकार किया कि उस समय वह ऐसा कुछ करना चाह रहे थे जो उनके गेम में नहीं था।
उन्‍होंने कहा, "मेरा लक्ष्‍य हमेशा से तीनों प्रारूप खेलने का था और मेरे पास अच्‍छे क्रिकेट शॉट थे। मैं जब भी किसी टूर्नामेंट या सीरीज़ में आता तो मैं छक्‍के लगाने की सोचता था। मैं छक्‍के लगा सकता हूं, जब ज़रूरत हो, लेकिन अब मैं गैप ढूंढ़ने और बाउंड्री लगाने में क़ामयाब हो रहा हूं, तो जब तक मैं बाउंड्री लगा रहा हूं टीम का लक्ष्‍य पूरा हो रहा है।
"मैंने कोचों को भी बताया था कि मैं टी20 क्रिकेट में स्‍ट्राइक रेट बढ़ाने के लिए छक्‍के लगाने की जगह गैप ढूंढने पर काम कर रहा हूं। यही चीज़ मैंने इस टूर्नामेंट में अपने सिस्‍टम से निकाल दी और मैं वापसी कर पाया, लेकिन बात अच्‍छा स्‍पेस मिलने की है और मैं बल्‍लेबाज़ी का लुत्‍फ़ ले रहा हूं।
"हम कई तरह से खेल सकते हैं, लेकिन मेरा रोल परिस्थिति के मुताबिक़ खेलने का है और अगर स्थिति ऐसी है कि मुझे अधिक स्‍कोरिंग रेट से रन बनाने हैं तो मुझे वह करने में क़ाबिल होना चाहिए। मेरा लक्ष्‍य था कि अगर मैं अपने ज़ोन में रह सकता हूं और शांत रह सकता हूं क्‍योंकि मैं जानता हूं कि 10-15 गेंद मुझे सेट होने के लिए लगेंगी, इसके बाद मैं अगले गियर में बल्‍लेबाज़ी कर सकता हूं। मैं बहुत ख़ुश हूं कि ख़ासकर टीम के नज़रिये से कि मैं उस राह पर लौट आया हूं जहां मैं जाना चाहता था क्‍योंकि मैं कुछ ऐसा करना चाहता था जो मेरे गेम में नहीं था।"
रोहित यह इंटरव्‍यू ले रहे थे और वह कोहली की बात से सहमत दिखे जैसे उन्‍होंने अपनी पारी को बढ़ाया। उन्‍होंने कहा, "बिल्‍कुल टी20 क्रिकेट में हम बड़े हिट की बात करते हैं। लेकिन यह शतक सही उदाहरण है कि कैसे आप बड़े हिट पर फ़ोकस किए बिना अपनी पारी को बना सकते हैं। यह देखकर अच्‍छा लगा। मैं यह निजी तौर पर जानता हूं क्‍योंकि मैंने आपको लंबे समय से बल्‍लेबाज़ी करते देखा है।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।