मैच (10)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
आईएलटी20 (1)
एसए20 (1)
बीबीएल (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
फ़ीचर्स

स्टीवन स्मिथ की टी20 विश्व कप में खेलने की उम्मीदें हो रही है कम

टिम डेविड ने एक बार फिर दिखाया कि क्यों उन्हें एकादश से बाहर नहीं रखा जा सकता

स्टीवन स्मिथ गाबा में तेज़ गति से रन नहीं बना पाए  •  Getty Images

स्टीवन स्मिथ गाबा में तेज़ गति से रन नहीं बना पाए  •  Getty Images

स्टीवन स्मिथ जानते हैं कि अब उन्हें बल्लेबाज़ी में अधिक आक्रामकता और सकारात्मकता दिखानी होगी।
गुरुवार को वेस्टइंडीज़ पर दूसरे टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में जीत दर्ज करने के बाद उन्होंने कहा, "मुझे अधिक आक्रामक विचारधारा के साथ खेलना होगा। मैं बहुत रक्षात्मक होकर खेल रहा था और बस खेल को चलाने की कोशिश कर रहा था।"
परेशानी यह है कि स्मिथ यह आक्रामकता नहीं दिखा रहे हैं और आगामी टी20 विश्व कप से पहले समय उनके हाथ से निकला जा रहा है। टिम डेविड ने गाबा में 20 गेंदों पर 42 रन बनाकर फिर एक बार दर्शाया कि क्यों उन्हें ऑस्ट्रेलियाई एकादश से बाहर नहीं रखा जाना चाहिए।
शुक्रवार को स्मिथ के पास बढ़िया मौक़ा था। मिचेल मार्श को आराम दिया गया था और स्मिथ चौथे नंबर पर बल्लेबाज़ी करने उतरे। हालांकि पहली नौ गेंदों पर उन्होंने केवल चार सिंगल लिए। उन्होंने एक भी बड़ा शॉट नहीं लगाया और पिच को समझने में अपना समय लिया। इस दौरान दूसरे छोर पर डेविड वॉर्नर ने 11वें ओवर में लगातार चार डॉट गेंदें होते हुए देखी और 75 रनों की शानदार पारी खेलकर आउट हुए।
आठ गेंदों बाद ग्लेन मैक्सवेल एक जोखिमभरा रन लेने के प्रयास में रन आउट हुए और स्मिथ अब भी टाइमिंग के लिए संघर्ष कर रहे थे। वैसे तो इस मैच में तीसरे नंबर पर उतरे ऐरन फ़िंच को भी टाइमिंग मिल नहीं रही थी और उन्होंने 19 गेंदों पर 15 रन बनाए। हालांकि फ़िंच टीम के कप्तान हैं और विश्व कप में उनका ओपन करना लगभग तय है।
पिछले 12 महीनों में जहां स्मिथ का स्ट्राइक रेट 112.77 का रहा है, फ़िंच ने 121.17 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। इतना ही नहीं, इस दौरान फ़िंच ने आधी से ज़्यादा पारियों में 20 रनों का आंकड़ा पार किया है जबकि स्मिथ ने केवल एक तिहाई पारियों में ऐसा किया है।
स्मिथ अपनी सर्वश्रेष्ठ पारियों में भी धीमी शुरुआत की भरपाई नहीं कर पाए हैं। पल्लेकेले में श्रीलंका के विरुद्ध वह पहली बाउंड्री लगाने से पहले 17 गेंदों पर 15 रन बनाकर खेल रहे थे और अंत में उन्होंने 27 गेंदों पर कुल 37 रन बनाए। पिछले महीने मोहाली में जहां कैमरन ग्रीन 200 से अधिक के स्ट्राइक रेट पर खेल रहे थे, स्मिथ का स्कोर था नौ गेंदों पर आठ रन। अपनी पारी में उन्होंने 24 गेंदों पर 35 रन ज़रूर बनाए लेकिन जब दोनों टीमों का कुल स्ट्राइक रेट 170 का था, स्मिथ के लिए यह आंकड़ा 145.83 से ऊपर नहीं गया।
वह डेविड की तरह अपनी ताक़त के साथ इस अंतर की भरपाई नहीं कर सकते हैं और स्मिथ इस बात को भली-भांति जानते हैं।
स्मिथ ने गाबा मैच से एक दिन पहले कहा था, "मैं अन्य खिलाड़ियों की तरह ताक़तवर नहीं हूं लेकिन कुछ पिचों पर आपको चतुराई के साथ गेंद को पंच और टाइम करना होता है।"
हालांकि वह यह भी तो नहीं कर पा रहे हैं। वॉर्नर की पारी अच्छे शॉट से भरी हुई थी। टाइमिंग के अलावा उन्होंने विकेटों के बीच बढ़िया दौड़ लगाई। स्मिथ भी ऐसा कर सकते हैं लेकिन अब वह टी20 क्रिकेट में गेंदबाज़ों के मन में डर नहीं पैदा कर रहे हैं जैसा कि वह वनडे और टेस्ट क्रिकेट में करते हैं।
डेविड की ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी ने विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया की विपक्षी टीमों में अभी से डर पैदा कर दिया होगा। वेस्टइंडीज़ के गेंदबाज़ों ने क़रीब से इस आतिशबाज़ी को महसूस किया। वॉर्नर तो डेविड की बल्लेबाज़ी से अचंभित रह गए।
वॉर्नर ने कहा, "वह एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं और उनकी ताक़त हमारे मध्य क्रम को मज़बूती देती है। अपने कद और अपनी ताक़त से वह जिस प्रकार खेलते हैं, वह हमारे लिए बढ़िया है। अब वह टीम में कहां फ़िट होंगे और उनकी भूमिका क्या होगी? मुझे लगता है कि इस कठिन पिच पर यह भूमिका निभाने से हमारी आंखें खुल गई है और अब हम कैसे इसका इस्तेमाल करेंगे?"
उन्होंने आगे कहा, "आपको ऐसे खिलाड़ी हर दिन नहीं मिलते हैं। आगे चलकर यह हमारे लिए अच्छा होगा और संभवतः उनके लिए स्थान होगा। यह चयनकर्ताओं के लिए सिरदर्द होगा।"
पारंपरिक सोच यह कहेगी कि डेविड के आने से मार्कस स्टॉयनिस का स्थान ख़तरे में है। डेविड ने छठे नंबर पर आकर अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी का प्रदर्शन तो किया है लेकिन वह गेंदबाज़ी नहीं करते हैं। ऑस्ट्रेलिया अपने शीर्ष छह बल्लेबाज़ों में चार ऐसे खिलाड़ी नहीं रख सकता जो गेंदबाज़ी ना कर सके। रविवार को पर्थ में इंग्लैंड के विरुद्ध स्टॉयनिस का खेलना लगभग तय है और वह गेंदबाज़ी भी कर सकते हैं।
अब स्मिथ ख़तरे के दायरे में आ चुके हैं। ऑस्ट्रेलियाई टीम प्रबंधन को आत्मविश्वास था कि स्मिथ इस साल टी20 क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। उन्हें भरोसा था कि टीम का संकटमोचक मध्य क्रम में लगातार खेलकर अपने स्ट्राइक रेट की समस्या का समाधान निकाल लेगा।
हालांकि ऐसा हुआ नहीं है और टी20 विश्व कप ख़िताब का बचाव करने वाली टीम को शायद अब उनकी आवश्यकता नहीं है।

ऐलेक्स मैल्कम ESPNcricinfo में एसोसिएट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।