मैच (19)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
ख़बरें

श्रीलंकाई स्पिनर दिलरूवान परेरा ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया

उन्होंने श्रीलंका के लिए 43 टेस्ट, 13 वनडे और तीन टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले

43 टेस्ट मैचों में 35.9 की औसत से उनके नाम 161 विकेट हैं  •  Associated Press

43 टेस्ट मैचों में 35.9 की औसत से उनके नाम 161 विकेट हैं  •  Associated Press

श्रीलंकाई ऑफ़ स्पिनर दिलरूवान परेरा ने 39 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। उन्होंने 43 टेस्ट मैच खेले थे, जिसमें उन्होंने 35.9 की औसत से 161 विकेट चटकाए थे। इसके अलावा उन्होंने 13 वनडे और तीन टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में भी श्रीलंका का प्रतिनिधित्व किया था। उन्होंने अपना आख़िरी अंतर्राष्ट्रीय मैच जनवरी, 2021 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ घरेलू टेस्ट सीरीज़ में खेला था। श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) के प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार उन्होंने सिर्फ़ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया है, घरेलू क्रिकेट खेलना वह जारी रखेंगे।
परेरा एक अच्छे स्पिनर के साथ निचले क्रम के एक उपयोगी बल्लेबाज़ भी थे। उनके नाम टेस्ट क्रिकेट में आठ अर्धशतक दर्ज़ है। हालांकि उनके क्रिकेटिंग करियर के सर्वश्रेष्ठ दिन रंगना हेराथ के साये में गुजरे। एशियाई ज़मीन पर वह हेराथ के साथ दूसरे स्पिनर के रूप में खेलते थे। इसलिए एशिया में उनके नाम 43 में से 35 टेस्ट हैं। वह अपने शुरुआती करियर में बहुत प्रभावशाली थे और वह श्रीलंका की तरफ़ सबसे तेज़ 50 टेस्ट विकेट पूरे करने वाले गेंदबाज़ थे। उन्होंने 11वें टेस्ट में यह कारनामा किया था। हालांकि इसके बाद वह थोड़े धीमे पड़ते चले गए।
परेरा ने गॉल में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 2016 की ऐतिहासिक जीत में 10 विकेट लिए थे। इस सीरीज़ में श्रीलंका ने क्लीन स्वीप किया था। उन्होंने इसके बाद 2018 में फिर से गॉल में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 10 विकेट लिए।
घूमती हुई पिचों पर वह हेराथ जितने ही प्रभावशाली थे। बल्ले से वह लेग साइड की बाउंड्री की तरफ़ अक्सर देखा करते थे। उन्हें स्वीप और रिवर्स स्वीप बखूबी लगाना आता था। उन्होंने अपने डेब्यू मैच में ही पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 95 रन की शानदार पारी खेली थी, जो कि उनका सर्वश्रेष्ठ टेस्ट स्कोर भी है।
हालांकि पिछले दो साल में उनका प्रदर्शन कुछ ख़ास नहीं रहा था। लसिथ एम्बुलडेनिया, प्रवीण जयाविक्रमा और रमेश मेंडिस के आने के बाद से एकादश में भी उनकी जगह पक्की नहीं लग रही थी।

ऐंड्रयू फ़िडेल फ़र्नांडो ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो के श्रीलंकाई संवाददाता हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के दया सागर ने किया है