मैच (5)
हज़ारे ट्रॉफ़ी (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
WTC (1)
बांग्लादेश ए बनाम इंडिया ए (1)
न्यूज़ीलैंड बनाम बांग्लादेश (1)
फ़ीचर्स

देर से खिले ग्लीसन ने टी20 पदार्पण पर छोड़ी अपनी छाप

34 वर्षीय तेज़ गेंदबाज़ ने केवल एक बाउंड्री खाई और रोहित, कोहली, पंत के विकेट लिए

Richard Gleeson had Rohit Sharma, Virat Kohli and Rishabh Pant as his first three wickets in international cricket, England vs India, 2nd men's T20I, Birmingham, July 9, 2022

टी20 पदार्पण में ही ग्लीसन ने कमाल का प्रदर्शन किया  •  Getty Images

"आख़िरकार दिन के अंत में वे सभी इंसान ही तो हैं।"
यह बात रिचर्ड ग्लीसन ने पिछले सप्ताह ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो से कही थी। वह रोहित शर्मा, विराट कोहली और ऋषभ पंत को डेब्यू पर किस तरह गेंदबाज़ी करेंगे इसका जवाब उन्होंने इस तरह से दिया था। अब शनिवार को एजबेस्टन में उन्होंने चार गेंदों के भीतर इन तीनों को आउट कर दिया।
यह इंग्लैंड की तीन दिन के भीतर भारत के ख़िलाफ़ दूसरी हार है। पहले मैच में उन्हें 50 रनों से हार मिली तो दूसरे मैच में 49 रनों से हार झेलनी पड़ी। पिछले साल टी20 विश्व कप में ग्रुप मैच में साउथ अफ़्रीका से मैच हारने के बाद यह इंग्लैंड की नौ मैचों में सातवीं हार है।
लेकिन टी20 द्विपक्षीय सीरीज़ में क्या ज़्यादा ज़रूरी है, जीतना या सीखना? जॉस बटलर ने कहा कि वह हार से निराश है लेकिन जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टोक्स, आदिल रशीद और मार्क वुड इस साल विश्व कप तक वापस लौटेंगे जिसके बाद अक्तूबर में होने वाले विश्व कप में यह टीम बिल्कुल अलग दिखेगी।
इस सीरीज़ की बात की जाए तो इंग्लैंड की प्रमुख समस्या डेथ ओवरों की गेंदबाज़ी रही है। पिछले दो सालों में यह टीम दुनिया की सबसे ज़्यादा रन ख़र्च करने वाली टीम रही है। ग्लीसन का चयन इसी समस्या के समाधान के लिए था क्योंकि इस साल टी20 ब्लास्ट में उन्होंने लंकाशायर के लिए यॉर्कर डालते हुए कमाल किया था।
यहां तक की नई गेंद से भी वह बेहद ही घातक गेंदबाज़ हैं। चार ओवर में भारत ने बिना कोई विकेट गंवाए 43 रन बना लिए थे और बटलर अब ग्लीसन को लेकर आए। उन्होंने पहली गेंद 144किमी प्रति घंटा की गति से शॉर्ट ऑफ़ गुड लेंथ की। उनकी दूसरी गेंद पर मिडविकेट पर चौका लगा दिया गया लेकिन यह उनके चार ओवरों में केवल अकेली बाउंड्री रही। पांचवीं गेंद पर रोहित ने रूम बनाकर ऑफ़ साइड में खेलने का प्रयास किया लेकिन ग्लीसन की गेंद ने उनके शरीर का पीछा किया और गति से चौंकाया। गेंद बल्ले का किनारा लेकर बटलर के पीछे गई और उन्होंने पीछे भागते हुए कैच लपक लिया।
दूसरे ओवर की पहली दो गेंद पर ग्लीसन ने कोहली को गुड लेंथ डाली। कोहली उन पर मिडविकेट पर शॉट लगाना चाहते थे लेकिन गेंद किनारा लेकर बैकवर्ड प्वाइंट की ओर गई जहां डाविड मलान ने भागते हुए कैच लपका। पंत भी रोहित की तरह रूम बनाकर खेलना चाहते थे लेकिन गेंद पंत के बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर बटलर के पास चली गई।
आठ गेंद में तीन विकेट और वह भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के बड़े नाम। आठ महीने पहले, ग्लीसन का करियर मुश्किल में था क्योंकि पीठ फ्रैक्चर से धीमी रिकवरी ने उन्हें संन्यास के बारे में सोचने पर मज़बूर कर दिया था।
उनका बाक़ी का स्पेल भी प्रभावित करने वाला था। उन्होंने हार्दिक पंड्या को चार डॉट गेंद डाली। इसके बाद छह गेंद में पांच दिने कार्तिक को खाली डाली। जिसके लिए उन्हें चुना गया था वह काम ग्लीसन ने बखूबी निभाया। उन्होंने चार ओवर में 15 रन देते हुए तीन विकेट लिए, जो टी20 डेब्यू करते हुए किसी इंग्लैंड के गेंदबाज़ का दूसरा सर्वश्रेष्ठ है।
उन्होंने कहा, "मैं अपनी गति से खुश हूं। इस साल मैंने कुछ अधिक गति से गेंदबाज़ी की है। मैं इंग्लैंड टीम में चयन के बारे में नहीं सोच रहा था। मैं बस उच्चतम मानक पर खेलना चाहता था। मैं सिर्फ़ क्रिकेट खेलना और इसका आनंद लेना चाहता हूं, और जब तक मैं खेल सकता हूं तब तक खेलना चाहता हूं। कौन जानता है, अगर मैं प्रदर्शन करता रहा तो कुछ भी हो सकता है।"
"मुझे जो भी रोल मिलेगा मैं निभाने के लिए तैयार हूं। यह आज अलग था लेकिन आज यह अलग़ था लेकिन मैं डेब्यू पर गेंद को पकड़ने और अपने को शांत रखने की कोशिश कर रहा था। मैं हार्ड लेंथ पर गेंदबाज़ी करना चाहता था, इसके बाद कुछ यॉर्कर। जिस तरह का विकेट था उस पर हार्ड लेंथ करना अच्छा था।"
ग्लीसन का लंकाशायर के साथ करार टी20 ब्लास्ट के फ़ाइनल तक ख़त्म हो जाएगा लेकिन अब टी20 विश्व कप की टीम में वह जगह बना सकते हैं। उन्होंने कहा, "आप बड़े मौक़ों पर खेलना चाहते हो, ऐसा ही है ना? "तो क्यों नहीं?" अभी के लिए उन्होंने इतना कर दिया है कि इस माह के अंत में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ होने वाली सीरीज़ में उन्हें चुना जा सके।
ग्लीसन का सफ़र शानदार रहा है। ना केवल उनकी देर से ​एंट्री बल्कि पीठ की कई चोट से जूझने के बाद भी उससे वापसी करना। उन्हें इस श्रृंखला में खेलने की अनुमति के लिए प्रेस्टन में अपने नियोक्ता मायर्सकॉफ़ कॉलेज से पूछना पड़ा, जब वह अगले सप्ताह काम पर लौटेंगे तो उनके बीटेक छात्र उनका नायक के रूप में स्वागत करेंगे।

मैट रोलर ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।