मैच (6)
वर्ल्ड कप सुपर लीग (1)
एशिया कप (2)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
लेजेंड्स लीग (1)
ख़बरें

हार्दिक 2.0 का स्वागत कीजिए

हालिया समय में हार्दिक ने अपने फ़ॉर्म और फ़िटनेस को बख़ूबी साबित किया है

Hardik Pandya hits a six during his 33-ball 51 , England vs India, 1st T20I, Southampton, July 7, 2022

युवराज के बाद हार्दिक ही एक ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं, जिसने एक टी20 मैच में 50 रन भी बनाए और चार विकेट भी लिए  •  Getty Images

हार्दिक पंड्या चोटिल होने के कारण 2018 से 2020 तक क्रिकेट से दूर रहे। इस दौरान उनके करियर पर कई सवाल उठाए गए। यह भी कहा गया कि उनका करियर ज़्यादा लंबा नहीं चलेगा।
क्या वह पुराने हार्दिक बन पाएंगे? क्या वह चोट मुक्त रह सकते हैं? क्या वह गेंदबाज़ी कर सकते हैं? यदि हां, तो क्या वह अपनी गति और मैदान पर अपनी पुरानी तीव्रता को फिर से वापस ला सकते हैं ?
फिर आईपीएल 2022 की शुरुआत में आपने सोचा कि वह कप्तानी के दबाव को कैसे झेल पाएंगे और अपने खेल को कैसे आगे बढ़ा पाएंगे?
सीज़न की शुरुआत में फिर आपने सोचा कि क्या वह गुजरात टाइटंस के बल्लेबाज़ी क्रम को मज़बूत बनाने के लिए अतिरिक्त दबाव ले रहे हैं और ख़ुद बल्लेबाज़ी क्रम के सारे कार्यों को पूरा कर रहे हैं। वह नंबर तीन और चार पर बल्लेबाज़ी करते हुए पारी ख़त्म होने तक बल्लेबाज़ी कर रहे थे। कुल मिलाकर एक खिलाड़ी कई काम एक साथ पूरी ज़िम्मेदारी के साथ करना चाह रहा था।
शुक्रवार को हार्दिक ने ज़बरदस्त खेल दिखाया। टी20 विश्व कप के बाद भारत के लिए यह सबसे कठिनतम मैचों में एक था। इंग्लैंड की टीम इस फ़ॉर्मेंट में काफ़ी अच्छी है। इस मैच में हार्दिक ने पहले अर्धशतक बनाया और फिर चार विकेट लिए। इससे पहले एक ही मैच में 50 रन बनाते हुए चार विकेट लेने का काम सिर्फ़ युवराज सिंह ने किया था।
हार्दिक ने कहा, " मैं अपने क्रिकेट का आनंद ले रहा हूं। मैंने अपने शरीर पर काफ़ी काम किया है और मैं इसके लिए लगातार तैयारी कर रहा था। मैंने पिछले साल एक लंबा ब्रेक लिया था। इसी कारण से मैं इस चीज़ पर पूरा ध्यान दे रहा था कि मैं मैदान पर बढ़िया प्रदर्शन करने लिए बिल्कुल तैयार रहूं और मैं इस प्रयास में सफल रहा।" "मैं अपने खेल पर पूरा ध्यान देना चाहता था लेकिन एक समय ऐसा भी आया कि मुझे एक ब्रेक की आवश्यकता थी। अगर मैं अपने खेल का आनंद नहीं ले सकता हूं तो मेरा खेलना कहीं से भी सार्थक नहीं है। मेरे लिए पूरा मामला तीव्रता और प्रयास का है। जब मैंने उस मामले में संतोषजनक कार्य कर लिया तो मुझे काफ़ी संतुष्टि हुई।" हार्दिक फ़िलहाल काफ़ी बढ़िया लय में हैं। उनका करियर हालिया समय में काफ़ी सकारात्मक तरीक़े से आगे बढ़ा है। उन्होंने गुजरात की कप्तानी करते हुए आईपीएल का ख़िताब अपने नाम किया। इसके बाद आयरलैंड में भारतीय टीम का भी नेतृत्व किया। हार्दिक के अनुसार "वह इस बात की फ़िक्र नहीं कर रहे हैं कि भविष्य में क्या होगा और अपने वर्तमान का आनंद ले रहे हैं।"
हार्दिक को अपनी क्षमताओं पर काफ़ी विश्वास हैं। हार्दिक की अनुपस्थिति भारतीय टीम को लगातार खल रही थी। अगर हार्दिक टीम में रहते हैं तो टीम के पास गेंदबाज़ी में छह विकल्प काफ़ी आसानी से होंगे।
"भविष्य में मैं खेलूंगा या नहीं खेलूंगा, यह तो बस समय ही बताएगा। फ़िलहाल मैं इस बात पर फ़ोकस कर रहा हूं कि मैं कैसे खेल में अपना 100 फ़ीसदी दे सकता हूं। अगर मैं 100 फ़ीसदी नहीं दे पाऊंगा तो टीम में मैं किसी और खिलाड़ी की जगह को नहीं रोकूंगा।"
हार्दिक पंड्या
मुंबई इंडियंस के साथ खेलते हुए हार्दिक का काम बस यही था कि अंतिम के ओवरों में उन्हें जितनी भी गेंदें मिले, उसमें वह ज़्यादा से ज़्यादा रन बनाए। उन्होंने गुजरात के लिए जिस स्थान पर बल्लेबाज़ी की, उस पर पहले काफ़ी प्रश्न उठाए गए। उस दौरान हार्दिक ने यह दिखाया कि आक्रामक पारी खेलने से पहले वह पिच पर कुछ समय बिता सकते हैं।
एक कप्तान के तौर पर उन्होंने जिस तरीक़े से बल्लेबाज़ी की, उससे युवा बल्लेबाज़ों पर दबाव काफ़ी कम हो गया। इस प्रयास में वह सफल भी हुए। हाल ही में हार्दिक ने जिस तरीक़े से प्रदर्शन किया, उससे यह सवाल फिर से सामने आने लगे कि क्या हार्दिक को फिर से लाल गेंद की क्रिकेट में वापस लाया जा सकता है?
"यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम फ़िलहाल किस फ़ॉर्मेंट में खेल रहे हैं। यह सफ़ेद गेंद की क्रिकेट का मौसम है और विश्व कप आ रहा है। इसलिए हम उस पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। जब टेस्ट मैच आएंगे तो देखा जाएगा। अभी मेरा फ़ोकस वहीं है, जहां मैं 100 फ़ीसदी दे सकता हूं। अगर मैं 100% नहीं दे सकता, तो मैं किसी की जगह नहीं रोकूंगा"
हार्दिक ने गुरुवार को इंग्लैंड के ख़िलाफ़ 30 गेंदों में अर्धशतक लगाया। जब वह बल्लेबाज़ी करने आए तो टीम का स्कोर तीन विकेट के नुक़सान पर 89 रन था।
हार्दिक ने कहा, "मेरी इस पारी का पूरा श्रेय राहुल द्रविड़ और टीम मैनेजमेंट को जाता है। वे हमें अपने तरीक़े से खेलने की पूरी आज़ादी दे रहे हैं। जब कोच या मैनेजमेंट की तरफ़ से संदेश साफ़ होता है तो एक खिलाड़ी के तौर पर आपको काफ़ी आत्मविश्वास मिलता है।"
फ़रवरी में जब हार्दिक को वेस्टइंडीज़ सीरीज़ के लिए नहीं चुना गया था, चयनकर्ताओं के अध्यक्ष चेतन शर्मा ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में इस बात पर कहा था कि "100% मैच फ़िट" होने पर ही वह टीम में वापसी करेंगे। पिछले तीन महीनों में आईपीएल और अपने प्रदर्शन के माध्यम से हार्दिक ने अपनी फ़िटनेस साबित करने के लिए उल्लेखनीय योगदान दिया है।

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।