मैच (9)
द हंड्रेड (पुरुष) (2)
CWC League 2 (1)
द हंड्रेड (महिला) (2)
महाराजा टी20 (2)
ओमान बनाम बहरीन (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
ख़बरें

इंग्लैंड की वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ सकते हैं मॉर्गन

विश्व कप विजेता कप्तान रहे मॉर्गन क़रीब आठ साल के अपने कार्यकाल को अलविदा कहेंगे

Eoin Morgan poses with the World Cup trophy, England v New Zealand, World Cup 2019, Lord's, July 14, 2019

विश्व कप ट्रॉफ़ी के साथ मॉर्गन  •  Getty Images

ओएन मॉर्गन साढ़े सात साल के कार्यभार के बाद मंगलवार को इंग्लैंड के सीमित ओवरों की कप्तानी छोड़ सकते हैं। मॉर्गन को 2014 में नियुक्त किया गया था। उन्होंने सीमित ओवरों के क्रिकेट में इंग्लैंड के दृष्टिकोण को बदलने में नेतृत्व किया। मॉर्गन ने वनडे टीम में बदलाव किया और इंग्लैंड को 2019 में पहला विश्व कप ख़िताब जिताया, लेकिन उनकी फ़ॉर्म और फ़िटनेस ने उन्हें अपने भविष्य पर विचार करने मजबूर कर दिया है। दाहिने पैर की मांसपेशियों में नियमित चोट के कारण वह इस साल लगातार मैच नहीं खेल पाए हैं। नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ तीसरे वनडे में चोट की वजह से मॉर्गन नहीं खेल पाए जबकि सीरीज़ के पहले दो मैचों में वह शून्य पर आउट हुए थे।
अंग्रेज़ी अख़बार 'द गार्डियन' ने रविवार को बताया कि मॉर्गन अपने भविष्य पर विचार कर रहे हैं और वह मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा करने के लिए तैयार हैं। मॉर्गन की अनुपस्थिति में टीम की कमान संभालने वाले जॉस बटलर को उनकी जगह कप्तान बनाया जा सकता है।
इससे पहले मोईन अली ने बीबीसी के टेस्ट मैच स्पेशल पर कहा था, "वह महसूस कर रहे हैं कि वह अब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल सकते हैं। हालांकि वह अभी भी टीम को पहले रखते हैं, जो दिखाता है कि वह कितने नि:स्वार्थ हैं। उन्होंने असाधारण काम किया है और वह हमारे लिए अब तक के सर्वश्रेष्ठ हैं। उन्होंने अद्भुत काम किया है और वह जानते हैं कि जीतने के लिए क्या करना पड़ता है। इस समय उनके बिना टीम की कल्पना भी करना अजीब है। ज़ाहिर है चीज़ें बदलती हैं और आपको इसकी आदत हो जाती है, लेकिन यह निश्चित रूप से यह दु:ख की बात है।"
मॉर्गन ने 2019 और 2020 में अपने करियर के कुछ बेहतरीन फ़ॉर्म का आनंद लिया, लेकिन पिछले 18 महीनों में वह कुछ ख़ास नही कर सके हैं। उन्होंने 2021 की शुरुआत से सीमित ओवरों के क्रिकेट की 48 पारियों में सिर्फ़ एक अर्धशतक बनाया है। नीदरलैंड्स के ख़िलाफ़ हालिया सीरीज़ में वह एक भी रन बनाने में विफल रहे।
यह देखा जाना है कि क्या मॉर्गन सभी प्रकार के क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे या फिर फ़्रैंचाइज़ी लीग में खेलना जारी रखेंगे।
मोईन ने कई मौक़ों पर मॉर्गन की अनुपस्थिति में कप्तानी भी की है, लेकिन उन्होंने बटलर को अपना समर्थन दिया। उन्होंने कहा, "बड़ी बात यह है कि जॉस पहले कप्तानी कर चुका है। ज़ाहिर है जब मॉर्गन नहीं खेलता है और उस मैच में जॉस खेल रहा होता है तो वह कप्तान होता है और उसे अब अत्यधिक अनुभव प्राप्त है। वह पूरी दुनिया में फ़्रैचाइज़ी क्रिकेट खेल रहा है और वह इस पूरी यात्रा का हिस्सा रहा है। वह जानता है कि इसके लिए क्या करना पड़ता है और वह रणनीतिक रूप से बेहतरीन है।"

मैट रोलर ESPNcricinfo के असिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।