मैच (16)
IND v ENG (1)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
BPL 2023 (2)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
विश्व कप लीग 2 (1)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

आईपीएल में वापसी करेंगे 'पूरी तरह से फ़िट' हो चुके दीपक चाहर

दीपक का कहना है कि वह स्ट्रेस फ़्रैक्चर और क्वाड ग्रेड 3 टियर से उबर चुके हैं

दीपक चाहर आख़िरी बार दिसंबर 2022 में भारत के लिए खेले थे  •  BCCI

दीपक चाहर आख़िरी बार दिसंबर 2022 में भारत के लिए खेले थे  •  BCCI

पिछले साल दो "बड़ी" चोटों से जूझने के बाद तेज़ गेंदबाज़ दीपक चाहर का कहना है कि वह पूरी तरह से फ़िट हैं और 31 मार्च से शुरू हो रही आईपीएल से वापसी करेंगे।

30 वर्षीय दीपक को स्ट्रेस फ़्रैक्चर और क्वाड इंजरी से उबरने में काफ़ी मुश्किलें हुई है। भारतीय टीम से वह आख़िरी बार दिसंबर में मीरपुर में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ दूसरे वनडे में खेले थे, जहां तीन ओवर फेंकने के बाद वह बाहर चले गए थे।

चोट के कारण दीपक 2022 में भारत के लिए सिर्फ़ 15 मैच ही खेल सके और साथ ही इसी वजह से टी20 विश्व कप से भी बाहर हो गए थे। राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में काफ़ी रिहैब करने के बाद दीपक अब आईपीएल के लिए तैयारी कर रहे हैं जहां वह चेन्नई सुपर किंग्स से खेलेंगे।

दीपक ने पीटीआई से कहा, ''मैं अपनी फ़िटनेस पर पिछले दो-तीन महीनों से कड़ी मेहनत कर रहा हूं। मैं पूरी तरह से फ़िट हूं और आईपीएल के लिए अच्छी तैयारी कर रहा हूं। मुझे दो बड़ी चोटें लगी थीं। एक स्ट्रेस फ़्रैक्चर था और एक क्वाड ग्रेड 3 टीयर था। वे दोनों बहुत बड़ी चोटें हैं। मैं काफ़ी महीनों से बाहर हूं। कोई भी चोट के बाद वापसी करता है, तो उसे समय लगता है, ख़ासकर तेज़ गेंदबाज़ों को।"

उन्होंने कहा, "अगर मैं बल्लेबाज़ होता, तो काफ़ी पहले ही वापसी हो जाता, लेकिन बतौर तेज़ गेंदबाज जब आपको स्ट्रेस फ़्रैक्चर होता है, तो वापसी करना काफ़ी कठिन होता है। आप अन्य गेंदबाज़ों को भी पीठ की चोट की वजह से संघर्ष करते देख सकते हैं।"

दीपक ने पिछले महीने रणजी ट्रॉफ़ी में सर्विसेज़ के ख़िलाफ़ मैच से प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी की थी, लेकिन इस टूर्नामेंट में उन्होंने दूसरा कौई मैच नहीं खेला।

लगातार लग रही चोटों के कारण वह भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों की सूची में काफ़ी नीचे खिसक गए हैं, लेकिन उन्हें उम्मीद है कि इस साल के अंत में भारत में ही होने जा रहे वनडे विश्व कप के लिए टीम का हिस्सा बनेंगे।

दीपक ने कहा, "मैं अपना पूरा जीवन एक नियम से जीता हूं। अगर मैं जैसा चाहता हूं वैसी गेंदबाज़ी कर रहा हूं, अगर मैं जैसा चाहता हूं वैसी बल्लेबाज़ी कर रहा हूं, तो मुझे कोई रोक नहीं सकता। यह वह बेसिक नियम था जिससे मैंने अपने करियर की शुरुआत की थी।"

उन्होंने आगे कहा, "मुझे यह परवाह नहीं रहता कि कौन खेल रहा है, कौन नहीं खेल रहा है, मेरा मक़सद पूरी तरह से फ़िट होना और गेंद और बल्ले से सौ फ़ीसदी प्रदर्शन करना है। अगर मैं ऐसा करता हूं, तो मुझे मेरे मौक़े मिलेंगे।"

पुरुष आईपीएल उद्घाटन विमेंस प्रीमियर लीग (डब्ल्यूपीएल) के बाद शुरू होगा और दीपक इस नए टूर्नामेंट के लिए काफ़ी उत्साहित दिखे।

उन्होंने कहा, "आईपीएल ने पुरुष क्रिकेट को पूरी तरह से बदल दिया, खिलाड़ियों को काफ़ी अवसर मिले। विमेंस प्रीमियर लीग के साथ भी ऐसा ही होगा। महिला क्रिकेट तेज़ी से आगे बढ़ेगा, वह इसलिए क्योंकि वे अपने करियर के शुरुआती दौर में ही अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों का सामना करेंगी। यह काफ़ी महिला क्रिकेटरों की भी मदद करेगा, जो पैसे नहीं कमा पाई हैं और साथ ही यह टूर्नामेंट प्रतिस्पर्धा को भी बढ़ावा देगा।"