मैच (17)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

हार्दिक : मेरी बेहतर कप्तानी का सारा श्रेय आशीष नेहरा को जाता है

भारतीय कप्तान ने कहा कि राहुल त्रिपाठी की पावरप्ले बल्लेबाज़ी ने मैच में अंतर पैदा किया

भारत के कार्यवाहक टी20 कप्तान हार्दिक पंड्या ने अपनी कप्तानी में हुई बेहतरी का श्रेय गुजरात टाइटंस के मेंटॉर आशीष नेहरा को दिया है। नेहरा और हार्दिक की जोड़ी ने गुजरात को उनके पहले ही सीज़न में आईपीएल ख़िताब जिताया था। इसके बाद से जब भी रोहित शर्मा अनुपलब्ध रहे हैं, तब-तब भारतीय टी20 टीम की कमान हार्दिक ने संभाली है। हार्दिक की कप्तानी के आठ टी20आई मैचों में भारत को छह में जीत मिली है, जबकि एक मैच टाई हुआ है। इस दौरान भारत सिर्फ़ एक मैच हारा है।



श्रीलंका के ख़िलाफ़ सीरीज़ जीत के बाद हार्दिक ने कहा, "मैंने जूनियर क्रिकेट में भी कभी किसी टीम की कप्तानी नहीं की है। एक बार मैंने बड़ौदा अंडर-16 टीम की कप्तानी की थी, उसके बाद से मेरा ध्यान सिर्फ़ और सिर्फ़ अपना क्रिकेट सुधारने में लग गया। लेकिन गुजरात (टाइटंस) की कप्तानी के दौरान कोच के रूप में मुझे आशीष नेहरा मिले। उन्होंने मेरे जीवन में बड़ा अंतर पैदा किया है। हमारा व्यक्तित्व अलग-अलग हो सकता है, लेकिन क्रिकेट को लेकर हमारी सोच, समझ और विचारधारा समान है। उन्होंने मेरी कप्तानी को एक नई ऊंचाई दी है। मुझे खेल की समझ हमेशा से थी, लेकिन उनके रहते हुए मैंने खेल में निश्चिंत होना सीखा।"

'राहुल त्रिपाठी की पावरप्ले बल्लेबाज़ी ने अंतर पैदा किया'



वैसे तो इस मैच को सूर्यकुमार यादव के तीसरे टी20आई शतक के लिए याद किया जाएगा, लेकिन सिर्फ़ दूसरा मैच खेल रहे राहुल त्रिपाठी ने भी सबको प्रभावित किया। इशान किशन का विकेट पहले ही ओवर में गिर जाने के बाद वह क्रीज़ पर आए और 16 गेंदों में पांच चौकों और दो छक्कों की मदद से 35 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। उस समय दूसरे छोर पर शुभमन गिल सतर्कता से बल्लेबाज़ी कर रहे थे, उन्होंने कसुन रजिता द्वारा फेंका गया ओवर मेडन भी खाया था। लेकिन त्रिपाठी ने दूसरे छोर से निश्चित किया कि भारत पावरप्ले को नौ रन प्रति ओवर के साथ समाप्त करे।

हार्दिक ने राहुल की बल्लेबाज़ी के बारे में बात करते हुए कहा, "सूर्या ने जो किया वह तो पूरी दुनिया ने देखा लेकिन यहां पर राहुल त्रिपाठी का ज़िक्र करना बहुत ज़रूरी है। उन्होंने जिस तरह का इंटेंट दिखाया, उससे खेल का मोमेंटम बदला। पहले कुछ ओवरों में गेंद हरकत कर रही थी, लेकिन उन्होंने गेंदबाज़ों का मनोबल तोड़ते हुए उन पर प्रहार किया और उन्हें अपनी लेंथ बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा। इसके बाद गेंद ने हरकत करना भी बंद कर दिया और श्रीलंका मैच में अब कहीं पीछे था।"

हार्दिक ने आगे कहा कि हो सकता है इस बल्लेबाज़ी रवैये से किसी दिन 150 भी बने, लेकिन इंटेंट दिखाना बहुत ज़रूरी है। उन्होंने कहा, "इस आक्रामक इंटेंट का मतलब यह नही है कि आप हर गेंद पर प्रहार करें। अगर गेंद अच्छी है तो आपको सम्मान देना होगा। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप गेंद को सम्मान देने या एक रन बनाने की सोच लेकर मैदान में उतरे। यह फिर रक्षात्मक रुख़ होगा। तब अगर आपको ख़राब गेंद मिलेगी, फिर भी आप उसे हिट नहीं कर सकेंगे। अगर हम इंटेंट दिखाएंगे तो गेंदबाज़ भी परेशान होगा। अगर इस इंटेंट से 10 रन का भी अंतर पैदा होता है तो यह पूरे मैच के लिए एक बड़ा अंतर साबित होगा।"

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं