मैच (26)
ENG v PAK (1)
T20WC Warm-up (7)
Vitality Blast (13)
CE Cup (5)
ख़बरें

टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी करने के फ़ैसले को द्रविड़ ने सही बताया

मुख्य कोच ने कहा कि ओस के कारण मैच के आख़िरी कुछ ओवरों में गेंदबाज़ी करना बिल्कुल आसान नहीं था

भारत के मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने दूसरे टी20आई में पहले गेंदबाज़ी करने के फै़सले का बचाव करते हुए कहा कि दूसरी पारी के अंतिम कुछ ओवरों में बहुत ओस थी, जिसके कारण गेंदबाज़ों के लिए गेंदबाज़ी करना कहीं से भी आसान नहीं था। द्रविड़ ने यह भी कहा कि सिर्फ़ पिछले मैचों के परिणाम के आधार पर फ़ैसले नहीं लिए जा सकते हैं।

आपको बता दें कि दूसरे टी20आई मैच में पहले बल्लेबाज़ी करते हुए श्रीलंका की टीम ने छह विकेट के नुक़सान पर 206 रन बनाए थे। जबाव में भारतीय टीम ने सिर्फ़ 59 के स्कोर पर पांच विकेट गंवाने के बावजूद लक्ष्य के काफ़ी क़रीब पहुंच गई थी लेकिन उनकी टीम 15 रनों से इस मैच को हार गई।

एमसीए स्टेडियम के अगर पिछले रिकॉर्ड को देखें तो टी20 मैचों में पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीमों ने कुल 34 मैच जीते हैं, जबकि दूसरी पारी में बल्लेबाज़ी करने वाली टीमों को सिर्फ़ 29 बार ही जीत मिली है। टॉस हारने के बाद श्रीलंकाई कप्तान दसून शानका ने कहा कि वह अगर टॉस जीत जाते तो भी बल्लेबाज़ी ही करते। वहीं द्रविड़ ने मैच के बाद कहा कि पिच बल्लेबाज़ी करने के लिए काफ़ी आसान थी। दूसरी पारी में ओस भी गिरने के आसार थे। ऐसे में टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी करने का फ़ैसला बुरा नहीं था।

द्रविड़ ने कहा, " दूसरी पारी के अंत में काफ़ी ज़्यादा ओस गिर रहा था। अगर हमारे हाथ में कुछ और विकेट रहते हो शायद हम लक्ष्य को प्राप्त कर लेते। हालांकि इसके बावजूद भी हम लक्ष्य के काफ़ी क़रीब पहुंच गए थे।"

आगे उन्होंने कहा, "आप सिर्फ़ पुराने मैचों के रिकॉर्ड के आधार पर फ़ैसला नहीं ले सकते हैं। तेज़ गेंदबाज़ों के लिए नई गेंद के साथ इस पिच पर थोड़ी मदद थी लेकिन उसके अलावा बल्लेबाज़ी के लिए यह पिच काफ़ी अनुकूल थी। 207 (206) के स्कोर तक पहुंचने के लिए उन्होंने बढ़िया बल्लेबाज़ी की। हमने गेंदबाज़ी में कुछ ग़लतियां की।"

"आप देखेंगे कि उनके स्पिन गेंदबाज़ अपना स्पेल पूरा नहीं कर पाए क्योंकि गेंद काफ़ी गीली हो चुकी थी। ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगता है कि वह फ़ैसला सही था। अगर हमने कुछ एक क्षेत्रों में बढ़िया प्रदर्शन किया होता तो शायद परिणाम हमारे पक्ष में होता।"

पहली पारी में 24 रन देकर दो विकेट लेने वाले अक्षर पटेल ने बल्ले के साथ भी बढ़िया प्रदर्शन करते हुए 31 गेंदों में 65 रनों की पारी खेली। एक समय पर भारत सिर्फ़ 57 के स्कोर पर पांच विकेट गंवा चुका था लेकिन इसके बाद अक्षर और सूर्यकुमार यादव के बीच 91 रनों की एक बेहतरीन साझेदारी हुई। इसके बाद शिवम मावी ने भी आक्रामक बल्लेबाज़ी करते हुए 15 गेंदों में 26 रन बनाया।

द्रविड़ ने अक्षर के बल्लेबाज़ी के बारे में कहा, " हमें हमेशा से पता है कि अक्षर एक बढ़िया गेंदबाज़ हैं। हालांकि वह अपने बल्लेबाज़ी पर भी कड़ी मेहनत कर रहे हैं। वह एक साल से ज़्यादा समय से टीम के साथ हैं। हमने इस दौरान उनके बल्लेबाज़ी की क्षमता को भी देखा है। हमारी टीम में इस तरह की क्षमता वाला खिलाड़ी का होना बहुत महत्वपूर्ण है। रवींद्र जाडेजा की अनुपस्थिति में अक्षर को हमने जो भी मौक़ा दिया है, उसमें उन्होंने हर फ़ॉर्मेंट में बेहतरीन प्रदर्शन किया है।"

"यह बात सही है कि तेज़ गेंदबाज़ी ऑलराउडंर के मामले में हम हार्दिक (पंंड्या) पर काफ़ी निर्भर हैं। हम लगातार अन्य तेज़ गेंदबाज़ी ऑलराउंडर को ढूंढने का भी प्रयास कर रहे हैं। आज यह देख कर अच्छा लगा कि शिवम मावी भी बल्लेबाज़ी कर सकते हैं। अपने एक तेज़ गेंदबाज़ को इस तरह से बल्लेबाज़ी करते देखना सुखद है।"

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo के सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।