ख़बरें

पहले सीज़न के आधार पर श्रेयस अय्यर की कप्तानी को आंकना मुश्किल : आकाश चोपड़ा

आकाश का कहना है कि अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि कोलकाता के ड्रेसिंग रूम में श्रेयस की कितनी चलती है

Shreyas Iyer gets ready for the crucial encounter, Kolkata Knight Riders vs Lucknow Super Giants, IPL 2022, Pune, May 7, 2022

आकाश के अनुसार ड्रेसिंग रूम में श्रेयस की भूमिका अस्पष्ट है।  •  BCCI

पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर और ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो एक्सपर्ट आकाश चोपड़ा का मानना है कि कोलकाता नाइट राइडर्स में अपने पहले सीज़न के आधार पर श्रेयस अय्यर की कप्तानी पर टिप्पणी करना मुश्किल हैं, ख़ासकर यह जाने बिना कि टीम और ड्रेसिंग रूम के अंदर के "समीकरण" क्या हैं।
'टी20 टाइम आउट' कार्यक्रम पर बात करते हुए आकाश ने कहा, "यह आकलन करना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि एक नए फ़्रैंचाइज़ी के पास आप गए हैं। एक पोस्ट-मैच में उन्होंने कहा कि सीईओ भी [एकादश] बनाते हैं। ग्यारह में भी हर फ़्रैंचाइज़ी का समीकरण अलग है और अगर कोलकाता का समीकरण यह कि है कि टीम एकादश तय करने में सीईओ भी इन्वॉल्व होते हैं तो सोचना पड़ेगा कि टीम में श्रेयस की कितनी चलती है और [कितनी] नहीं।"
आकाश का इशारा कोलकाता के पिछले मैच से था जहां उन्होंने मुंबई इंडियंस को 52 रनों से हराते हुए, अपनी टीम को प्लेऑफ़ की दौड़ में जीवित रखा। मैच के बाद श्रेयस ने हर मैच में टीम में आ रहे बदलावों पर कहा था, "बहुत मुश्किल होता है क्योंकि कोच और कभी-कभी सीईओ भी एकादश के चयन का हिस्सा होते हैं।"
एक निरंतरता रहित सीज़न में श्रेयस और ब्रेंडन मक्कलम, जो इस आईपीएल अभियान के बाद इंग्लैंड के टेस्ट टीम के साथ चार साल तक जुड़ेंगे, के बीच सामंजस्य की कमी भी दिखी है। आकाश ने याद दिलाया कि राजस्थान रॉयल्स के ख़िलाफ़ सात रन की रोमांचक हार में कैसे श्रेयस मिडिल में बल्लेबाज़ी करते हुए अपनी टीम की बैटिंग ऑर्डर से नाख़ुश नज़र आए थे।
आकाश ने कहा, "मुझे नहीं पता उस ख़ेमे की फ़िलहाल क्या परिस्थिति है या माहौल कैसा रहा है। हमने उन्हें [श्रेयस] बाहर आते हुए देखा था और मक्कलम के साथ लड़ाई करते देखा था कि 'क्या बैटिंग ऑर्डर आपने भेजा है कि आप युज़ी चहल से इतना डरे हुए हैं कि आप बल्लेबाज़ ही ठीक नहीं भेज रहे हैं?' मैदान के ऊपर [एकादश में] इतने बदलाव हुए हैं कि सही तो नहीं हो सकता, लेकिन इन बदलावों के लिए ज़िम्मेदार कौन है इसका कोई अंदाज़ा नहीं है।"
श्रेयस का अपना फ़ॉर्म भी निराशाजनक रहा है और राजस्थान के विरुद्ध उल्लेख किए गए मैच में बनाए 85 रन उनका सर्वाधिक स्कोर रहा है। बाक़ी के 11 मैचों में उन्होंने केवल एक और अर्धशतक लगाया है। शनिवार को आकाश का कहना है कि करो या मरो की स्थिति में सनराइज़र्स हैदराबाद के गेंदबाज़ ज़रूर कोलकाता की शॉर्ट गेंदबाज़ी के विरुद्ध कमज़ोरी का फ़ायदा उठाना चाहेगी। आकाश ने कहा, "पिछले तीन मुक़ाबलों उमरान मलिक के लिए काफ़ी साधारण रहे हैं और हो सकता है उनकी गाड़ी भी पटरी पर वापस आ जाए। उनकी गति के चलते उनके बाउंसर वैसे भी कारगर साबित होंगे। उम्मीद ज़रूर करेगी हैदराबाद लेकिन [उन्हें] रन बनाने पड़ेंगे। कप्तान [केन विलियमसन] को रन बनाने पड़ेंगे और सभी को मिलजुल कर अच्छा प्रदर्शन करना होगा।"

देबायन सेन ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड हैं।