मैच (16)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
BAN v SL (1)
फ़ीचर्स

छोटी गेंद के ख़िलाफ़ कोलकाता नाइट राइडर्स की बड़ी समस्या

डैनियल वेटोरी और इयन बिशप ने लखनऊ सुपर जायंट्स के हाथ मिली हार के बाद इस का विश्लेषण किया

लखनऊ सुपर जायंट्स के हाथ मिली करारी हार के बाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो के एक्सपर्ट्स डैनिएल वेटोरी और इयन बिशप ने कोलकाता नाइट राइडर्स के बल्लेबाज़ों की शॉर्ट गेंदों के ख़िलाफ़ कमज़ोरी पर चिंता जताई है।
लखनऊ की 75 रन की जीत में तेज़ गेंदबाज़ मोहसिन ख़ान, दुश्मांता चमीरा, आवेश ख़ान और जेसन होल्डर ने कुल आठ विकेट लिए और इनमें से हमारे गेंद-दर-गेंद आंकड़ों के हिसाब से छह विकेट ऐसी गेंद पर आए जो शॉर्ट थे या गुड लेंथ से थोड़ा पीछे गिरे थे। पुणे के एमसीए स्टेडियम में गेंद थोड़ी रुक भी रही थी और पर्याप्त उछाल भी ले रही थी और इस व्यवहार का लखनऊ के तेज़ गेंदबाज़ों ने फ़ायदा उठाया।
ऐसा कोलकाता के साथ इस सीज़न पहले भी हो चुका है। गुजरात टाइटंस के गेंदबाज़ों ने लगभग ऐसी रणनीति अपनाते हुए कोलकाता के ख़िलाफ़ 156 के स्कोर का सफलतापूर्वक बचाव किया था। कोलकाता ने इस सीज़न शॉर्ट या शॉर्ट ऑफ़ गुड लेंथ गेंदों पर 29 विकेट गंवाए हैं जो किसी भी टीम के लिए सर्वाधिक हैं। कोलकाता का शॉर्ट गेंदों पर औसत (13.00) और रन रेट (6.71 प्रति ओवर) भी हर टीम से कम है।
शनिवार के प्रदर्शन के बाद वेटोरी ने 'टी20 टाइम आउट' कार्यक्रम में कहा, "अगर आप [आंद्रे रसल, जिन्होंने 19 गेंदों पर 45 रन बनाए] के नंबर हटा दें तो ऐसा लगता है बाक़ी खिलाड़ियों के पास शॉर्ट गेंद पर रन बनाने के कोई उपाय ही नहीं हैं। यह एक चिंता का विषय है क्योंकि अगर विपक्ष को आपकी कमज़ोरी का पता है तो वह अपने गेमप्लान पर टिके रहेंगे और आप के पास वापसी का कोई मौक़ा नहीं होगा। अगर आप ग़लतियां भी करेंगे तो भी आप इसी नीति पर रह सकते हैं। उदहारण के तौर पर कभी कभी शॉर्ट गेंद पर किनारा लगकर गेंद छह रन के लिए चली जाएगी। अगर आपके सामने कोलकाता की टीम है तो आप इससे विचलित नहीं होंगे। यह प्लान वैसे भी लखनऊ के गेंदबाज़ों की शैली के लिए सही है लेकिन कोलकाता की कमज़ोरी का कोई भी फ़ायदा उठा लेगा।"
अपने वक़्त में ख़ुद रफ़्तार के सौदागर रह चुके बिशप ने कहा, "तेज़ गेंदबाज़ी ठीक शिकार करने के जैसी है। अगर आपके मूंह में ख़ून लग जाता है तो आपके सामने आपका लक्ष्य साफ़ दिखने लगता है। फिर आप एक या दो गेंद लंबाई और दिशा में भटक सकते हैं लेकिन आपका विश्वास चरम पर आता है। बतौर तेज़ गेंदबाज़ ऐसी चीज़ो से आपका उत्साह बढ़ जाता है।"
कोलकाता के कप्तान श्रेयस अय्यर चमीरा की शॉर्ट गेंद का शिकार हुए। ऐसा इस सीज़न में चौथी बार हुआ कि छोटी लंबाई की गेंद ने उन्हें परास्त किया। इसके अलावा सनराइज़र्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ भी उमरान मलिक ने उन्हें शॉर्ट गेंदों से परेशान करते हुए एक तेज़ यॉर्कर पर बोल्ड किया था। शनिवार को नितीश राणा भी इसी तरह आवेश की गेंद पर आउट हुए और बिशप ने दोनों को शॉर्ट गेंद के विरुद्ध अपनी गेम को सुधारने की नसीहत दी। उन्होंने कहा, "[श्रेयस] के बारे में यह चिंता जायज़ है। वह उमरान के सामने भी असहज दिखे थे। नितीश राणा के बारे में मेरे दिमाग़ में हमेशा से कुछ सवाल रहे हैं। एक तरह की गेंदबाज़ी दोनों को दुविधा में डालती है और यह मानने में कोई शर्म नहीं। यह एक कमज़ोरी है और लखनऊ जैसी धारदार गेंदबाज़ी क्रम इसे नहीं छोड़ने वाली थी।"
वेटोरी ने कहा, "श्रेयस जैसे बल्लेबाज़, जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में झंडे गाढ़ने हैं, इस कमज़ोरी को हटाने के लिए काफ़ी मेहनत करेंगे। हालांकि ऐसा सीज़न के बीच करना बहुत पेचीदा होगा। हमने और खिलाड़ियों को भी देखा है जो परिश्रम से शॉर्ट गेंदबाज़ी से बचने के लिए शॉट्स पर काम करते हैं और सफल हुए हैं। ऐसा समय आएगा जब गेंदबाज़ों को फिर अपनी रणनीति बदलनी होगी लेकिन फ़िलहाल यह सिलसिला जारी रहेगा।"
वेटोरी के अनुसार शॉर्ट गेंद को छोड़ना श्रेयस के लिए अच्छा विकल्प है। उन्होंने कहा, "ऐसा लग रहा है वह इस गेंदबाज़ी के सामने अति आक्रामक होने की कोशिश कर रहे हैं। आप ऐसे में एक आध टॉप एज से या ठीक शॉट लगाकर रन बनाएंगे लेकिन इससे गेंदबाज़ को बार-बार शॉर्ट गेंद डालने का हौसला बढ़ेगा। अगर बल्लेबाज़ इस गेंद को आसानी से छोड़ने लगे तो शायद गेंदबाज़ों को इस पर पुनर्विचार करनी पड़ेगी।"
हालांकि बिशप ने इस बारे में कहा, "इस प्रारूप की चुनौती भी यही है। मान लीजिए मैं डैनियल वेटोरी को गेंदबाज़ी कर रहा हूं और उनकी छाती और कंधों पर निशाना साध चुका हूं। अगर मैं नियंत्रण से गेंदबाज़ी कर रहा हूं तो मैं सही ऊंचाई पर गेंद डाल रहा हूं ताक़ि ओवर के लिए एक [बाउंसर] समाप्त नहीं हो रहा। ऐसे में टी20 मुक़ाबले में आप एक हद तक ही गेंद को छोड़ सकते हैं। ऐसा ही श्रेयस के साथ और रसल के साथ भी हो रहा है।"
हालांकि बिशप ने विश्वास जताया कि श्रेयस एक अच्छे हल के साथ वापसी करेंगे। उन्होंने कहा, "समाधान पाने की गुणवत्ता उनमे है। इसमें समय ज़रूर लगेगा क्योंकि यह उनके साथ हर बार होने लगा है और आगे भी होता रहेगा।"

कार्तिक कृष्णास्वामी ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo में स्‍थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।