मैच (16)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
BAN v SL (1)
फ़ीचर्स

मैं वह सब कर रहा हूं, जिससे मैं भारतीय टीम का हिस्सा बन सकूं : दिनेश कार्तिक

एक और मैच जिताऊ पारी खेलने के बाद कार्तिक ने अपना दावा मजबूत किया

पिछले साल कोरोना के कारण कुछ दिनों तक आईपीएल टल जाने के बाद दिनेश कार्तिक इंग्लैंड गए और अपने कॉमेंट्री करियर की विधिवत शुरुआत की। इस दौरान उनके समकालीन विश्लेषण, बीच-बीच में किए गए मज़ाक और उनकी ताज़ी आवाज़ से लोग प्रभावित भी हुए। हालांकि उन्होंने बार-बार ज़ोर देकर कहा कि वह कम से कम 2023 तक भारत के लिए सीमित ओवर की क्रिकेट और विश्व कप खेलना चाहते हैं।
यह कहना आसान है, लेकिन कार्तिक ने अपने लिए एक मुश्किल लक्ष्य निर्धारित कर लिया था। ख़ासकर तब, जब आप अभ्यास करने की बजाय रंगीन शर्ट पहनकर उन्हीं खिलाड़ियों का इंटरव्यू कर रहे हो, जिनके साथ आप खेलना चाहते हैं। भारत में ऐसे लोगों को गंभीरता से नहीं लिया जाता है। इसलिए कार्तिक को अपने खेल के अलावा अपनी गंभीरता को भी साबित करना था।
आईपीएल के इस सीज़न के छह मैचों में कार्तिक ने अपनी गंभीरता को भी साबित किया है। इस दौरान उन्होंने 210 की स्ट्राइक रेट और 197 की औसत से रन बनाए हैं और दो बार प्लेयर-ऑफ़-द-मैच का अवॉर्ड जीता है। उन्होंने बार-बार यह दोहराया है कि वह भारत के लिए खेलना चाहते हैं।
दिल्ली के ख़िलाफ़ मैच में 34 गेंदों पर 66 रन की पारी खेलने के बाद कार्तिक ने कहा, 'मैं स्वीकार करुंगा कि मैं यहां पर एक बड़े लक्ष्य के लिए हूं। मैं टीम इंडिया में वापसी के लिए कड़ी मेहनत कर रहा हूं। मेरा लक्ष्य है कि मैं अपने देश के लिए कुछ विशेष करुं। यह (आईपीएल) उसी यात्रा का एक हिस्सा है। मैं वह सब कर रहा हूं, जिससे मैं भारतीय टीम का हिस्सा बन सकूं। यह उसी दिशा में एक कदम है।"
फ़िनिशर की भूमिका के बारे में कार्तिक कहते हैं कि यही भूमिका वह टीम इंडिया के लिए भी निभा सकते हैं। उन्हें आरसीबी के टीम प्रबंधन ने इस भूमिका के लिए पूरी छूट दी है। यह एक बहुत महत्वपूर्ण और प्रभावशाली भूमिका है, जिसमें आपको बहुत कम गेंदें खेलकर भी एक निर्णायक भूमिका निभानी होती है।
इससे पहले आईपीएल के पिछले तीन सीज़न में कार्तिक ने अंतिम छह ओवरों के दौरान 37 की औसत और 157.4 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए थे। हालांकि जब वह अंतिम छह ओवरों से पहले बल्लेबाज़ी के लिए उतरे तो उनका औसत 17.6 और स्ट्राइक रेट 126 का हो गया। इस आईपीएल में उन्होंने दो बार मैच जीताऊ पारी खेली है। अगर उनकी शुरुआत धीमी भी हुई है तो उन्होंने कोई जल्दबाज़ी नहीं की है और अपनी योजना के अनुसार ही पारी को आगे बढ़ाया है।
"मैं टीम इंडिया में वापसी के लिए कड़ी मेहनत कर रहा हूं। मेरा लक्ष्य है कि मैं अपने देश के लिए कुछ विशेष करुं।"
दिनेश कार्तिक
आईपीएल में कार्तिक के कप्तान फ़ाफ़ डुप्लेसी ने कहा, "डीके (कार्तिक) अपनी ज़िंदगी के सर्वश्रेष्ठ फ़ॉर्म में हैं। उनका गेमप्लान स्पष्ट है। वह आक्रामक खिलाड़ी हैं, लेकिन हमेशा शांत रहते हैं। हम भाग्यशाली हैं कि वह हमारी टीम में हैं।"
कार्तिक कहते हैं, "यह शांति, तैयारी से ही आती हैं। जब आपको पता होता है कि आपको अपनी पारी को कैसे आगे बढ़ाना है, तब आप शांत होते हैं।"
कार्तिक वैसी बल्लेबाज़ी कर रहे हैं, जिसकी कमी पिछले दो विश्व कप में टीम इंडिया के मध्य क्रम में दिखाई दी। उन्होंने लाल गेंद की क्रिकेट को छोड़ दिया है और सीमित ओवर की क्रिकेट खेलने के लिए विशेष फ़िटनेस योजनाओं को अपनाया है। इस दौरान उन्होंने घरेलू क्रिकेट के अलावा स्थानीय क्लब टूर्नामेंट भी खेला।
कार्तिक हमेशा से एक शीर्ष क्रम के बल्लेबाज़ रहे हैं और उन्होंने साउथ अफ़्रीका और इंग्लैंड की कठिन परिस्थितियों में ओपनिंग भी की है। लेकिन 36 साल की उम्र में वह अब अपने आपको एक नई और उससे भी कठिन भूमिका के लिए तैयार कर चुके हैं।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं