मैच (12)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
RHF Trophy (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते: हार्दिक को बचना होगा हर्षल के पैंतरों से

हेज़लवुड के आने से सिराज को मिली संजीवनी

ऑफ़ कटर गेंद पर जूझते हैं हार्दिक  •  PTI

ऑफ़ कटर गेंद पर जूझते हैं हार्दिक  •  PTI

गुजरात टाइटंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के बीच आईपीएल का अहम मुक़ाबला इस टूर्नामेंट में गुजरात के कप्तान हार्दिक पंड्या के लिए 100वां मैच होगा। ब्रेबोर्न स्टेडियम में होने वाले इस मैच में मैच जिताऊ खिलाड़ियों की कोई कमी नहीं है लेकिन, फ़ॉर्म ज़रूर गुजरात के हित में है। आंकड़ों का क्या कहना है?
एक महान बल्लेबाज़ का तीव्र पतन
28 अप्रैल तक खेले गए मैचों के आधार पर एक ही शीर्ष चार का बल्लेबाज़ है जो पांच बार 10 से भी कम के स्कोर पर आउट हुआ है। पूरे टूर्नामेंट में एक ही ऐसा खिलाड़ी है जो छह बार अपनी पारी में 10 गेंदों से भी कम टिक पाया है। न्यूनतम 100 रन बनाने वाले खिलाड़ियों में एक ही खिलाड़ी है जिसकी औसत केवल 16 की है। विराट कोहली ने आईपीएल इतिहास में ऐसे दिन कम ही देखे हैं (हालांकि 2008 में उनके पहले सीज़न में उनकी औसत रही थी 15 की) और पिछले मैच में सलामी बल्लेबाज़ के रूप में वह नहीं चल पाए। इस सीज़न में कोहली एक अर्धशतक भी नहीं लगा पाए हैं और तेज़ गेंदबाज़ी के ख़िलाफ़ पांच बार आउट होते हुए केवल 18.4 की औसत और 119 का स्ट्राइक रेट रख पाए हैं। गुजरात की टीम में मोहम्मद शमी, लॉकी फ़र्ग्युसन, यश दयाल और अलज़ारी जोसेफ़ जैसे गेंदबाज़ इन आंकड़ों को आशावादी होकर देखेंगे।
हार्दिक को बचना होगा हर्षल के पैंतरों से
हार्दिक ने आईपीएल इतिहास में बेंगलुरु के विरुद्ध अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने 13 पारियों में 38.8 की औसत और 159 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। इस सीज़न भी हार्दिक ज़बरदस्त फ़ॉर्म में हैं और रन बनाने के मामले में तीसरे पायदान पर हैं लेकिन ऑफ़ कटर गेंद उनकी कमज़ोरी है। तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ हार्दिक इसी गेंद पर अपने आईपीएल करियर में सर्वाधिक (10) बार आउट हुए हैं। हर्षल पटेल को ऑफ़ कटर करने में महारथ हासिल है और वह आईपीएल में इसी गेंद पर सबसे ज़्यादा विकेट लेते हैं। पिछले सीज़न दो मैचों में दो बार हर्षल ने हार्दिक को ऑफ़ कटर गेंद पर ही पवेलियन भेजा था। इन सब आंकड़ो को देखते हुए गुजरात टाइटंस के कप्तान के सामने कठिन चुनौती होगी।
हेज़लवुड के आने से सिराज को मिली संजीवनी
हेज़लवुड के आने के बाद से आरसीबी की गेंदबाज़ी काफ़ी मज़बूत हुई है। उन्होंने इस सीज़न खेले पांच मैचों में 10 विकेट निकाले हैं। ये 10 विकेट मैच के हर फेज़ में आए हैं जिससे टीम के बाक़ी गेंदबाज़ों के प्रदर्शन पर असर पड़ा है। इसमें सबसे ज़्यादा फ़यदा मोहम्मद सिराज को हुआ है। हेज़लवुड के आने के पहले तक सिराज ने पांच मैचों में केवल तीन विकेट लिए थे और उनकी इकॉनमी 11 के आसपास थी। हेज़लवुड के साथ गेंदबाज़ करने से सिराज के प्रदर्शन में बेहतरीन सुधार हुआ है और उन्होंने अगले चार मैचों में पांच विकेट झटके हैं। इस दौरान सिराज की इकॉनमी भी 7.6 की रही है।
फ़र्ग्युसन का पहला ओवर तय करेगा कि उनका दिन कैसा रहने वाला है
फ़र्ग्युसन के लिए यह सीज़न अजीब गुज़र रहा है। किसी मैच में उनको खेलना नामुमकिन लगता है, तो किसी मैच में उनकी बखिया उधेड़ दी जाती है। यह सब तय होता है उनके पहले ओवर में। आंकड़े कहते हैं कि अगर फ़र्ग्युसन ने अपने पहले ओवर में विकेट झटक लिया या पांच से कम रन दिए तो उनको मैच के किसी भी फेज़ में खेलना मुश्किल हो जाता है। ऐसा चार मैचों में देखने को मिला है। जबकि तीन मैच ऐसे रहे हैं जिनमें उनका पहला ओवर महंगा जाने पर वे वापसी नहीं कर पाए हैं।

कुणाल किशोर ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर हैं। @ImKunalKishore