ख़बरें

डेविड : फ़िनिशर की भूमिका कभी भी मेरा इकलौता फ़ोकस नहीं था

धाकड़ बल्लेबाज़ को टी20 अंतर्राष्ट्रीय टीम के लिए एक नया रास्ता खोजना पड़ा

Tim David swings the ball away towards midwicket, Hobart Hurricanes vs Melbourne Renegades, BBL 2021-22, Melbourne, January 18, 2022

टिम डेविड को टी20 विश्व कप के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम में चुना गया है  •  Cricket Australia via Getty Images

शायद यह उचित ही था कि टिम डेविड ऑस्ट्रेलियाई टी20 विश्व कप दल में अपना नाम आने पर प्रतिक्रिया इंग्लैंड में बैठे हुए दे रहे थे। टी20 ब्लास्ट और 'द हंड्रेड' में खेलने के उपरांत डेविड अब वेस्टइंडीज़ में सीपीएल में खेलने जाएंगे और वहां से भारत में जाकर संभवत: इसी महीने में ऑस्ट्रेलिया के लिए डेब्यू करते दिखेंगे।
डेविड इस खेल में अपने ही आधुनिक तरीक़े में सिक्का जमा रहे हैं और बहुत कम समय में अपना वर्चस्व बना चुके हैं। अभी उन्हें ऑस्ट्रेलिया की एकादश में घुसने के लिए शायद और परिश्रम करना पड़ेगा, लेकिन पिछले दो वर्षों में उन्होंने दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फ़िनिशर कहे जाने की मज़बूत दावेदारी पेश की है।
डेविड का मानना है यह ऐसी भूमिका नहीं है जिसके लिए उन्होंने कोई ख़ास तैयारी की है, ख़ासकर जब वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के साथ 2018-19 में उन्होंने अपना पहला अनुबंध खो दिया था। उन्होंने कहा, "यह भूमिका कभी भी मेरी इकलौती फ़ोकस नहीं थी। वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया से छूट मिलने के बाद मैं सीधा सिंगापुर के लिए खेलने गया था। उसके बाद [होबार्ट] हरिकेंस के लिए खेलने का मौक़ा मिला तो मैंने उसे लिया। वहां से पेशेवर क्रिकेट में मैं केवल टी20 ही खेल सकता था। ऐसे में जब आपको एक ही प्रारूप में इतने अवसर मिलते हैं तो आप को इस गेम के कौशल को उसी हिसाब से तराशने का मौक़ा मिलता है। यह शायद अपरंपरागत है लेकिन मैंने बहुत ज़्यादा टी20 खेल लिया है और उसी के सहारे आज मैं इस स्थान पर हूं।"
डेविड ने पिछले सीज़न हुई घटना की बात की, जब उन्हें श्रीलंका के ख़िलाफ़ टी20 टीम में रखने की बात बताई गई थी लेकिन आख़िर में उन्हें पीएसएल में शरीक़ होने के लिए भेज दिया गया। डेविड ने मुख्य चयनकर्ता जॉर्ज बेली के साथ हुई बातचीत पर कहा, "सच पूछिए तो किसी भी वक़्त मैं ऑस्ट्रेलिया के लिए चुने जाने के बारे में ज़्यादा नहीं सोच रहा था। मैं उसी रात को पाकिस्तान के लिए प्रस्थान कर रहा था जब जॉर्ज का फ़ोन आया। मैंने सोचा क्या करना होगा। उन्होंने (ऑस्ट्रेलिया) विश्व कप हाल ही में जाता था और उनकी टीम काफ़ी मज़बूत थी।"
उन्होंने आगे कहा, "मैंने हमेशा अपने करियर के लिए सही फ़ैसले लेने की कोशिश की है। मुझे लगा वह [पीएसएल में खेलना] मेरे लिए खेल को निरंतर सुधारने का बेहतरीन मौक़ा है ताकि मैं और बेहतर खिलाड़ी बनकर टीम में प्रवेश करूं। मेरी इस सोच को जॉर्ज का मानना और सम्मान करना बहुत बड़ी बात थी।"
डेविड के भविष्य पर अगली चर्चा तब होगी जब विश्व कप के बाद द्विपक्षीय सीरीज़ और टी20 लीग साथ-साथ चलने लगेंगे। इस सीज़न अगर वह ऑस्ट्रेलिया के लिए 12 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल लेते हैं तो वह केंद्रीय अनुबंध पाने के योग्य बनेंगे। ऐसा अगर उन्होंने कर लिया तो उनके पास वर्तमान जैसी आज़ादी नहीं होगी। बेली के अनुसार डेविड को एक पारंपरिक घरेलू करियर के दायरे के बाहर से नेशनल टीम का स्तंभ बनने का नया प्रतीक बुलाना अभी थोड़ी जल्दबाज़ी होगी।
बेली ने कहा, "वह बिग बैश के काफ़ी बड़े प्लेयर रहे हैं। हम आम तौर पर बीबीएल जैसी प्रतियोगिता में अंत तक सर्वाधिक रन बनाने वाले या सर्वाधिक विकेट लेने वाले पर अधिक ध्यान देते हैं। लेकिन भले वह फ़्रैंचाइज़ी क्रिकेट में हो या अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में, एक फ़िनिशर की भूमिका हमेशा महत्वपूर्ण रहती है। चाहे वह दो, 12 या 20 गेंदें ही क्यों ना खेले। यह अलग तरह का सफ़र रहा है लेकिन वह हमारे घरेलू क्रिकेट प्रणाली का हिस्सा रहे हैं। किसी खिलाड़ी के लिए केवल फ़्रैंचाइज़ी क्रिकेट पर निर्भर रहना थोड़ा कठिन है।"
फ़िलहाल डेविड के लिए सारे रास्ते विश्व कप की ही दिशा दिखाते हैं। हालांकि वहां पहुंचने से पहले कुछ और पड़ाव भी हैं।

ऐंड्रयू मक्ग्लैशन ESPNcricinfo में डिप्टी एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo के असिस्टेंट एडिटर और स्थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।