मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

जॉस है बॉस : बटलर ने शांत रहकर खेली टी20 विश्व कप में इंग्लैंड की सर्वश्रेष्ठ पारी

श्रीलंका को हराने में जॉस ने बल्ले और क्षेत्ररक्षण से निभाई अहम भूमिका

इंग्‍लैंड की ओर से टी20 विश्‍व कप की बेहतरीन पारी खेली बटलर ने  •  Getty Images

इंग्‍लैंड की ओर से टी20 विश्‍व कप की बेहतरीन पारी खेली बटलर ने  •  Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ शनिवार रात जॉस बटलर के क्लीन छक्के ने एक सवाल खड़ा किया: एक टी20 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाड़ी ने सबसे अच्छी पारी कौन सी खेली है? फिर 48 घंटे बाद, बटलर ने इसका स्पष्ट जवाब दे दिया।
ऐसे कई मैच होंगे जब शारजाह में श्रीलंका के ख़िलाफ़ बटलर की तुलना में इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों ने रन बनाना बहुत आसान पाया हो। लेकिन किसी ने भी एक पारी को इस तरह बेहतर नहीं किया है, न ही एक विरोधी टीम के आक्रमण की इस तरह से गणना की है। सुपर 12 चरण में अब तक के अधिकांश मैचों का फ़ैसला टॉस से तय हुआ, लेकिन इस बार यह जॉस की पारी से तय हुआ।
बटलर की पारी को समझने के लिए शारजाह की परिस्थितियों को समझना होगा। जब से इस मैदान पर पिच ब्लॉक को इस साल की शुरुआत में दोबारा लगाया गया था, तब से कम उछाल के साथ यहां की पिच धीमी हो गई। यह तीसरी बार था जब आठ दिनों में इस पिच का उपयोग किया गया था और ओस के आने से पहले इसकी फिसलन प्रकृति ने बल्लेबाज़ों के लिए मुश्किल खड़ी की है।
बटलर की पारी की शुरुआत एक ऐसे शॉट से हुई थी जो टी20 क्रिकेट में ओपनिंग के लिए उनके प्रमोशन के बाद से उनका एक ट्रेडमार्क शॉट बन गया है, दुश्मांता चमीरा पर कवर की ओर एक बेहतरीन बैकफ़ुट पंच, जिससे उन्हें तीन रन मिले, हालांकि उन्होंने शुरुआत में संघर्ष किया। अंदरूनी किनारे पर उन्होंने लहिरु कुमारा की गेंद पर फाइन लेग पर चार रन निकाले।
जब इंग्लैंड ने पावरप्ले में तीन विकेट गंवाए, तो बटलर ने माना कि उन्हें कुछ दबाव झेलना होगा। उन्होंने श्रीलंका के उभरते हुए सुपरस्टार वनिंदु हसरंगा और उनके रहस्यमय स्पिनर महीश थीक्षना के ख़िलाफ़ सिंगल निकाले। 10 ओवर के बाद बटलर ने 30 गेंदों पर सिर्फ़ 24 रन बनाए।
टी20 सलामी बल्लेबाज़ वजह जल्दी परिस्थितियों को भांप लेते हैं। हालांकि यह इस टूर्नामेंट में विशेष रूप से मुश्किल साबित हुआ है, क्योंकि पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीमें सीम से हो रही शानदार गेंदबाज़ी के आगे नियमित रूप से अपने सलामी बल्लेबाज़ों को जल्दी खो देती हैं और इससे परिणाम साफ़ हो जाता है और रनों का पीछा करने वाली टीम ओस के आने के कारण बल्लेबाज़ी का भरपूर आनंद लेती हैं।
बटलर ने पिछले हफ़्ते टेलीग्राफ के साथ एक साक्षात्कार में कहा, "आप विकेट को पढ़ने की कोशिश कर रहे हैं और एक स्कोर की तलाश कर रहे हैं। एक या दो ओवर के बाद आपको यह महसूस होता है कि विकेट कैसा हो सकता है। कौशल यह है कि आप इस पर काम करने की कोशिश करते रहें और विपक्ष पर दबाव डालें।"
शायद वह इस मैच का एक ऐसा क्षेत्र था जहां बटलर अपने सामान्य मानकों से कम पर थे। इंग्लैंड के सहायक कोच पॉल कॉलिंगवुड ने उस दौरान कहा था, "हम थोड़ी परेशानी में थे, लोग ड्रेसिंग रूम में वापस आ रहे थे। हम सोच रहे हैं कि 110 एक अच्छा स्कोर हो सकता है।" बटलर ने अकेले अपने दम पर 101 रन बनाए।
चमिका करुणारत्ना पर उन्होंने बॉटम हैंथ से मिडविकेट के ऊपर से छक्का लगाया और इससे दसून शनका को उनके कोटे का ओवर करने आना पड़ा। 18वां ओवर फेंकने आए शनका की 131 किमी प्रति घंटा की एक फ़ुल गेंद को उन्होंने मिडविकेट की ओर उठाकर मारा। इसके बाद एक स्लोअर गेंद को उन्होंने शनका के सिर के ऊपर से स्टैंड में भेजा।
चमीरा के अंतिम ओवर में बटलर ने एक ग़लत निर्णय लिया। वह डीप स्क्वेयर लेग पर पुल करने गए लेकिन पथुम निसंका ने उनका कैच ही टपका दिया। दो ग़लत शॉट के बाद, बटलर ने फ़ुल टॉस गेंद को कलाईयों के सहारे लेग साइड में छक्के के लिए भेजा। इसी के साथ वह तीनों प्रारूपों में शतक लगाने वाले हेदर नाइट के बाद इंग्लैंड के दूसरे खिलाड़ी बने।
बटलर ने स्पिन के ख़िलाफ़ 24 गेंदों में 12 रन बनाए, लेकिन सीम के ख़िलाफ़ 43 में 89 रन बनाए। अपने पहले 50 रन पूरे करने में 45 गेंदें लेने के बाद, उनके अगले 51 सिर्फ़ 22 गेंद पर बने। टी20 अंतरराष्ट्रीय में एक सलामी बल्लेबाज़ के रूप में उनका औसत अब 60.50 है, जिसमें 149.17 की स्ट्राइक रेट, निर्भरता और विस्फोट का एक गज़ब का मिश्रण है।
मैच के बाद बटलर ने कहा, "शुरुआत में मुझे यह कठिन लगा, स्पिनरों को विशेष रूप से कम उछाल के साथ खेलना मुश्किल था। तो मैं सिर नीचे रखकर अपना काम करने और अंत में अच्छा करने के लिए एक निश्चित गेंदबाज़ को निशाना करने के अपने प्लान से खुश हूं।"
"मुझे लगा कि मैंने अनुभव का उपयोग किया। अगर मैं अपने खेल के दोनों हिस्सों को एक साथ रख सकता हूं तो मुझे लगता है कि मैं अपनी टी20 बल्लेबाज़ी को अच्छी जगह पर ले जाऊंगा। मेरे पास पारी के बीच में बल्लेबाज़ी करने का अनुभव है और अंत में मैं अपनी आक्रामक बल्लेबाज़ी से वापसी कर सकता हूं, यही मेरी ताक़त है।"

मैट रोलर ESPNcricinfo में असिस्‍टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।