मैच (15)
T20 वर्ल्ड कप (5)
IND v SA [W] (1)
T20 Blast (6)
CE Cup (3)
ख़बरें

हम अगले मैच में भी इसी तरह के आक्रामक अंदाज़ में बल्लेबाज़ी करेंगे: रोहित शर्मा

भारतीय कप्तान के अनुसार युवा खिलाड़ियों को निखारने के लिए लगातार मौक़े देने होंगे

पहले टी 20 मैच में भारत ने एक दोहरे उछाल और गति वाली स्तह पर 6 विकेट के नुक़सान पर 190 रन बनाया था। उस मैच में भी भारत लगातार विकेट गंवाए जा रहा था। दूसरे टी20 मैच की पिच भी आसान नहीं थी। इसके बावजूद भारत लगातार आक्रामक रवैये के साथ बल्लेबाज़ी करता रहा। हालांकि इस आक्रामक रवैये के कारण भारत को ख़ामियाजा भी हुआ और वे 138 के स्कोर पर ऑलआउट हो गए। भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टीम के इस प्रदर्शन पर कहा कि बल्लेबाज़ी क्रम का इस तरह से बिखर जाना कहीं से भी चिंता का विषय नहीं है और उनकी टीम आगे भी इसी शैली के साथ बल्लेबाज़ी जारी रखेगी।
पांच विकेट से हार का सामना करने के बाद रोहित ने कहा, "वास्तव में गेंदबाज़ों ने जिस तरह से गेंदबाज़ी की उससे मैं काफ़ी खु़श हूं लेकिन निश्चित रूप से हमारी बल्लेबाज़ी में कुछ ऐसी चीजे़ं हैं जिन पर हमें ध्यान देने की ज़रूरत है। लेकिन मैं यह भी कहूंगा कि हम उसी तरह से बल्लेबाज़ी करना जारी रखेंगे क्योंकि हम कुछ अलग हासिल करना चाहते हैं।"
"इसीलिए मुझे लगता है कि उस प्रकिया में कुछ एक ऐसे भी परिणाम आने वाले हैं लेकिन उससे हमें घबराना नहीं चाहिए। एक हार के बाद हम कुछ भी बदलने की कोशिश नहीं कर रहे हैं। हम ऊपरी क्रम में उस तरह की तीव्रता के साथ बल्लेबाज़ी करने का प्रयास करेंगे।"
भारत ने पावरप्ले के दौरान तीन विकेट गंवा दिए थे। इसके बावजूद वे पावरप्ले में 56 रन बनाने में कामयाब रहे। इसके बाद ऋषभ पंत बाएं हाथ के स्पिनर अकील हुसैन के ख़िलाफ़ चहल कदमी करते हुए डीप मिड विकेट की दिशा में शॉट लगाया लेकिन वह कैच आउट हो गए। इसके बाद रवींद्र जाडेजा और हार्दिक पंड्या ने रूक कर खेलने का प्रयास किया लेकिन जैसे ही उन्होंने वापस फिर से आक्रामक रवैये में आने का प्रयास किया, वे आउट हो गए। रोहित ने स्वीकार किया कि भारत का कुल स्कोर थोड़ा कम था और उम्मीद है कि अगले मैच में बल्लेबाज़ बेहतर प्रदर्शन करेंगे।
उन्होंने कहा, "सबसे पहले तो हमारे गेंदबाज़ों के लिए बोर्ड पर पर्याप्त रन नहीं थे। हमने अच्छी बल्लेबाजी नहीं की और मुझे लगा कि पिच बल्लेबाज़ी के लिए काफ़ी अच्छी था। मैं बार-बार इस बात का जिक्र कर रहा हूं कि जब आप कुछ अलग हासिल करने की कोशिश कर रहे होते हैं तो आप हमेशा सफल नहीं होने वाले हैं। इस तरह के मैचों में आप समझ सकते हैं कि आप क्या कर सकते थे। इसलिए हम उन ग़लतियों से सीखने की कोशिश करेंगे।"
बोर्ड पर इतने कम रन होने के बावजूद भारत के गेंदबाज़ों ने बढ़िया गेंदबाज़ी की और अंतिम ओवर में वेस्टइंडीज़ को 10 रन बनाना था। रोहित ने इस मौक़े पर अपने सबसे अनुभवी गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार को गेंद न थमा कर आवेश ख़ान को गेंद दे दी। हालांकि आवेश 20वें ओवर के दवाब को झेलने में कामयाब नहीं हो पाएं।
रोहित ने कहा, "यह इन लोगों(युवा खिलाड़ियों) को मौक़ा देने के बारे में है। हम जानते हैं कि भुवनेश्वर कुमार हमारे लिए क्या कर सकते हैं। हालांकि अगर आप अवेश, अर्शदीप (सिंह) जैसे खिलाड़ियों को मौक़ा नहीं देते हैं, तो आपको कभी पता नहीं चलेगा कि वह भारत के लिए डेथ ओवरों में गेंदबाज़ी कर पाएंगे या नहीं। वे अपनी आईपीएल फ़्रेंचाइज़ी के लिए अच्छा कर रहे हैं, लेकिन यह एक अलग स्तर का खेल है। ये वे उस तरह का मैच है, जहां आप उन युवा खिलाड़ियों को मौक़ा देते और देखते हैं कि वह कैसी प्रतिक्रिया देते हैं। मुझे नहीं लगता कि हमें या उन लोगों को घबराने की ज़रूरत है। उनके पास कौशल है, उनके पास प्रतिभा है। उन्हें बस पर्याप्त मौक़ा देना है।"
अर्शदीप सिंह दूसरे टी20 मैच में भारत के सबसे बेहतरीन गेंदबाज़ी रहे। उनके कारण ही मैच अंतिम ओवर तक गया। उन्होंने पावरप्ले में सिर्फ़ एक चौका दिया और वह भी फ्री हिट गेंद पर आया। अंतिम के ओवरों मे उन्होंने काफ़ी अच्छी गेंदबाज़ी की।
उन्होंने कहा, "यह ऐसी चीज़ है जिस पर मुझे वास्तव में टीम पर गर्व है। जब आप इस तरह एक लक्ष्य का बचाव कर रहे हैं, तो यह 13-14 ओवरों में ख़त्म हो सकता है या आप इसे आख़िरी गेंद तक खींच सकते हैं। मुझे लगता है कि हमने आज यही किया। हमने इसे आख़िरी ओवर तक खींचा। इसलिए आपको योजना बनानी होगी। मुझे लगा कि हमने जो योजना बनाई है, हमने आपस में जो भी बात किया, हमारे गेदबाज़ों ने उसी का अनुकरण किया।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo की सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।