मैच (15)
ENG v PAK (1)
ENG v PAK (W) (1)
T20WC Warm-up (6)
Vitality Blast (5)
CE Cup (2)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : रोहित, सूर्या और श्रेयस रहे फ़्लॉप तो अर्शदीप ने किया टॉप

अधिकतर भारतीय खिलाड़ियों के लिए यह मैच भूल जाने वाला रहा

वेस्टइंडीज़ की टीम ने दूसरे टी20 मैच में पांच विकेट से जीत दर्ज कर सीरीज़ में 1-1 से बराबरी कर ली है। इस मैच में भारत की बल्लेबाज़ी साधारण रही और पहले बल्लेबाज़ी करते हुए उन्होंने सिर्फ़ 138 रन बनाए। जवाब में वेस्टइंडीज़ की टीम ने चार गेंद शेष रहते ही इस लक्ष्य को पांच विकेट खोकर पा लिया। आइए देखते हैं हमारे प्लेयर रेटिंग्स में भारतीय एकादश के सदस्यों को कितने-कितने अंक मिलते हैं।
क्या सही हुआ और क्या ग़लत?
भारतीय टीम लगातार कह रही है कि वह लगातार ऑल-अटैक रणनीति के साथ मैदान पर बल्लेबाज़ी करने के लिए उतरेगी। इस मैच में भी ऐसा दिखा और लगातार विकेट गिरने के बावज़ूद उनके बल्लेबाज़ आक्रमण के लिए जाते रहे। हालांकि अगर परिस्थितियां विपरीत हो तो आपको अपनी रणनीति में थोड़ा सा बदलाव भी करना पड़ता है, जैसा पिछले मैच में कप्तान रोहित शर्मा ने भी कहा था। लेकिन यहां पर ऐसा होता नहीं दिखा और जब ऐसा हुआ तब भारतीय टीम अपने शीर्ष क्रम के पांच बल्लेबाज़ों को खो चुकी थी।
वहीं जिस तरह से अर्शदीप सिंह ने गेंदबाज़ी की, वह भारत के लिए एक सकारात्मक संकेत रहे। उन्होंने दिखाया कि वह आईपीएल में ही नहीं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी दबाव को झेलकर डेथ में सटीक यॉर्कर फेंक सकते हैं।
प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)
रोहित शर्मा, 5: भारतीय कप्तान रोहित शर्मा बल्लेबाज़ी में तो असफल ही रहें, कप्तानी में भी उन्होंने निराश किया। आख़िरी ओवर में अनुभवी भुवनेश्वर कुमार का ओवर शेष रहने के बावज़ूद उन्होंने अनुभवहीन आवेश ख़ान को गेंदबाज़ी दी, जिन्होंने पहली ही गेंद को नो बॉल फेंक बता दिया कि वह दबाव में हैं। हालांकि मैच के बाद रोहित ने कहा कि उन्होंने जान-बूझकर ऐसा किया था ताकि आवेश जैसे युवा गेंदबाज़ भी ऐसी परिस्थितियों के लिए तैयार हों।
सूर्यकुमार यादव, 5: सूर्यकुमार यादव के लिए यह दौरा अभी तक कुछ ख़ास नहीं गया है। वनडे मैचों में साधारण प्रदर्शन के बाद टी20 मैचों में भी उनका निराशाजनक प्रदर्शन जारी है। उन्होंने आज एक छक्का ज़रूर मारा लेकिन इसके अलावा उनके लिए कुछ अच्छा नहीं गया। एक फ़ुलर लेंथ गेंद को ड्राइव करने के चक्कर में वह ओबेद मकॉए की गेंद पर विकेटकीपर को कैच दे बैठे।
श्रेयस अय्यर, 5: वनडे मैचों में अपना पुराना लय दिखाने के बाद श्रेयस अय्यर को टी20 में दीपक हुड्डा के ऊपर तरजीह दी गई। हालांकि वह इसका फ़ायदा नहीं उठा पा रहे। पहले मैच में शून्य पर आउट होने के बाद वह इस मैच में 11 गेंदों में सिर्फ़ 10 रन ही बना सके और एक ख़राब शॉट खेलकर अपना विकेट फेंक बैठे।
ऋषभ पंत, 8: 12 गेंदों में 24 रन बनाने वाले पंत आज अच्छे लय में दिख रहे थे। उन्होंने आते ही दूसरी गेंद पर मकॉए को छक्का लगाया और फिर कुछ और अच्छे शॉट खेले। लेकिन अति आक्रामक होने के चक्कर में वह सही शुरूआत को बड़ी पारी में नहीं बदल पाए।
हार्दिक पंड्या, 8.5: हार्दिक पंड्या जब बल्लेबाज़ी करने आए तो टीम की हालत बहुत नाज़ुक थी। उन्होंने मैच की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए एक सजग पारी खेली। फिर गेंदबाज़ी में भी कमाल दिखाते हुए चार ओवर में सिर्फ़ 22 रन दिए और भारत को पहली सफलता अपने पहले ही गेंद पर दिलाई। हालांकि बल्लेबाज़ी में जब वह टिक चुके थे तब उन्होंने अपना विकेट गंवाया। इसके अलावा उन्होंने सिर्फ़ 100 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए, इसलिए उनके 1.5 अंक तो कटेंगे।
रवींद्र जाडेजा, 8: बल्लेबाज़ी क्रम में कार्तिक से ऊपर भेजे गए जाडेजा ने सजग पारी खेली लेकिन अपनी पारी को कभी गति देते हुए नहीं दिखे। 30 गेंदों की अपनी पारी में उन्होंने बस एक बॉउंड्री लगाई और 90 के बेहद साधारण स्ट्राइक रेट से रन बनाए। हालांकि गेंदबाज़ी में उन्होंने तीन ओवरों में सिर्फ़ 16 रन दिए और शिमरन हेटमायर का महत्वपूर्ण विकेट हासिल किया, जिससे कि भारत भी आख़िरी तक मैच में बना रहा।
दिनेश कार्तिक, 5.5: दिनेश कार्तिक को इस टीम में फ़िनिशर का रोल मिला है, जिसमें वह आख़िरी 5-6 ओवरों में आए और ताबड़तोड़ पारी खेल टीम को बड़े स्कोर तक ले जाए। पहले वनडे के बाद आज उनके पास फिर से यह मौक़ा था लेकिन आज वह उसे भुना ना सके। उन्होंने 13 गेंदों में सात रन की एक बेहद सुस्त पारी खेली, जिसमें एक भी बाउंड्री नहीं थी।
रवि अश्विन, 7.5: पिछले मैच में गेंद और बल्ले दोनों से योगदान देने वाले अश्विन इस बार भी उपयोगी साबित हुए। जहां आख़िरी ओवरों में उन्होंने दो चौके लगाकर पारी को गति देने की कोशिश की, वहीं गेंदबाज़ी में भी विपक्षी कप्तान निकोलस पूरन का महत्वपूर्ण विकेट लिया। हालांकि वह भारतीय गेंदबाज़ों में दूसरे सबसे महंगे गेंदबाज़ साबित हुए और कम स्कोर वाले मैच में 8 की इकॉनमी से रन दिया।
भुवनेश्वर कुमार, 7: भुवनेश्वर कुमार के लिए आज करने को कुछ ज़्यादा नहीं था। जहां वह कर सकते थे कप्तान ने किसी युवा गेंदबाज़ को मौक़ा देना उचित समझा।
आवेश ख़ान, 6.5: यह मैच आवेश ख़ान को हीरो बना सकता था लेकिन निर्णायक क्षणों में अनुभवहीनता के कारण वह दबाव को नियंत्रित नहीं कर पाए। उन्होंने महत्वपूर्ण अंतिम ओवर में नो बॉल किया और फिर फ़्री हिट पर छक्का खाया, जिससे कि मैच वेस्टइंडीज़ के ख़ाते में पूरी तरह चला गया। हां, बल्लेबाज़ी में आख़िरी क्षणों में उन्होंने एक छक्का ज़रूर मिला, जिससे उन्हें आधा अतिरिक्त अंक मिले हैं।
अर्शदीप सिंह, 9: जहां आवेश ख़ान दबाव में बिखरते नज़र आए, वहीं इस युवा गेंदबाज़ ने दिखाया कि आईपीएल का उनका प्रदर्शन महज़ तुक्का नहीं था। उन्होंने डेथ के 17वें और 19वें ओवर में यॉर्कर पर यॉर्कर फेंके और उन दो ओवर में सिर्फ़ 10 रन देकर भारत को एक समय मैच में वापस ही ला दिया था।

दया सागर ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं।