मैच (11)
IND v ENG (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
BPL 2023 (2)
ख़बरें

आन्या श्रबसोल ने किया अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान

2017 विश्व कप फ़ाइनल में भारत को ट्रॉफ़ी उठाने से वंचित करने में उनका बड़ा हाथ रहा था

विकेट लेने के बाद जश्न मनाती हुईं आन्या  •  Getty Images

विकेट लेने के बाद जश्न मनाती हुईं आन्या  •  Getty Images

क़रीब 14 वर्षों तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना सिक्का जमाने के बाद आन्या श्रबसोल ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है। 2017 विश्व कप के फ़ाइनल मुक़ाबले मे अपनी गेंदबाज़ी के बलबूते इंग्लैड को भारतीय टीम के ख़िलाफ़ मैच जिताने के बाद आन्या को एमबीई (ब्रिटेन की महारानी द्वारा दिया जाने वाल सम्मान) से भी पुरस्क़ृत किया गया था।
लॉर्ड्स में खेले गए उस मुक़ाबले में आन्या ने 46 रन देकर 6 विकेट अपने नाम किए थे। आन्या दो मर्तबा विश्व कप विजेता और ऐशेज़ जीतने वाली टीम की भी सदस्य रह चुकी हैं। समरसेट से अपने घरेलू क्रिकेट की शुरुआत करने वालीं आन्या ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों में खेले 173 मुक़ाबलों में 227 मर्तबा बल्लेबाज़ों को अपना शिकार बनाया। आन्या इंग्लैंड की तरफ़ से एकदिवसीय मैचों में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाली गेंदबाज़ों में चौथे पायदान पर हैं। जबकि टी20 में वह इंग्लैंड की सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाली गेंदबाज़ है। आन्या ने भले ही अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है, लेकिन वह घरेलू क्रिकेट में खेलना जारी रखेंगी।
अपने संन्यास का ऐलान करते हुए आन्या ने कहा, "14 वर्षों तक अपने देश का प्रतिनिधित्व करना मेरा सौभाग्य है। महिला क्रिकेट के विकास के समय इसका हिस्सा बनना मेरे लिए सम्मान की बात रही है, लेकिन मुझे अब यह स्पष्ट हो गया है कि यह सबकुछ काफ़ी तेज़ चल रहा है और इस गति के साथ सामंजस्य बैठाना मुझे कठिन प्रतीत हो रहा है। लिहाज़ा मेरे लिए यह आगे बढ़ने का सही समय है।"
आन्या ने अपने करियर की यादों का ज़िक्र करते हुए कहा, "मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे इंग्लैंड के लिए इतने लंबे समय तक खेलने का मौक़ा मिलेगा। मैं वास्तव में बहुत भाग्यशाली हूं, अन्यथा मैं तो एक मैच खेलकर भी खुश हो जाती। करियर में कई उतार-चढ़ाव भी आए, लेकिन 2017 में महिला विश्व कप की ट्रॉफ़ी ने सामने आई तमाम कठिनाईयों को पीछे छोड़ दिया।"
आन्या ने अपने जीवन में उनका साथ देने वाले हर व्यक्ति का आभार व्यक्त किया। श्रबसोल ने कहा, "ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने रास्ते में मेरा समर्थन किया है और मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहती हूं, लेकिन सबसे बढ़कर मैं अपने परिवार के अटूट समर्थन के बिना ऐसा नहीं कर सकती थी। वह हर कदम पर मेरे साथ रहे हैं।" श्रबसोल को एक बार अपने देश का नेतृत्व करने का मौक़ा भी मिला। 2018 में विज़डन क्रिकेटर्स अल्मनैक के फ़्रंट कवर पर आने वाली पहली महिला बनीं। चोट के कारण 2021 के घरेलू अंतरराष्ट्रीय सीज़न के बाद, आन्या इस साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया में इंग्लैंड के ऐशेज़ अभियान का हिस्सा थीं। इंग्लैंड के लिए उनकी आख़िरी उपस्थिति न्यूज़ीलैंड में 2022 महिला विश्व कप फ़ाइनल के दौरान थी, जब उन्होंने 46 रन देकर 3 विकेट लिए थे। 3 अप्रैल को ऑस्ट्रेलिया के हाथों मिली 71 रन की हार में वह आउट होने वाली अंतिम बल्लेबाज़ थीं।
महिला क्रिकेट के लिए ईसीबी की प्रबंध निदेशक क्लेयर कॉनर ने श्रबसोल को अंग्रेजी क्रिकेट और विशेष रूप से महिला क्रिकेट की सबसे उत्तम सेवक करार दिया। उन्होंने कहा, "14 वर्षों तक आन्या ने अपनी टीम को सबकुछ दिया, यही वजह है कि उनके संन्यास लेने का कारण भी इतना निस्वार्थ है।" उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ बीते विश्व कप के फ़ाइनल को याद करते हुए कहा, "क्राइस्टचर्च में खेले गए फ़ाइनल में आन्या ने गेंदबाज़ी में टीम के लिए सबसे अहम योगदान दिया। ठीक उसी तरह जैसी गेदबाज़ी उन्होंने लॉर्ड्स में 2017 विश्व कप के फ़ाइनल मे की थी।"

वैल्केरी बेंस ESPNcricinfo में जनरल एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में एडिटोरियल फ़्रीलांसर नवनीत झा ने किया है।